Current Crime
अन्य ख़बरें विदेश

स्थायी तौर पर घर से काम करना मानसिक स्वास्थ्य के लिए खतरनाक : नडेला

सैन फ्रांसिस्को| माइक्रोसॉफ्ट के सीईओ सत्य नडेला ने चेतावनी दी है कि घर में रहकर काम (वर्क फ्रॉर्म होम) को स्थायी बनाने से श्रमिकों के सामाजिक संपर्क और मानसिक स्वास्थ्य पर गंभीर परिणाम हो सकते हैं, क्योंकि उनका मानना है कि वर्चुअल वीडियो कॉल इन-पर्सन बैठकों की जगह नहीं ले सकती। दरअसल विश्व के विभिन्न देशों में चल रहे राष्ट्रव्यापी बंद को देखते हुए काफी निजी कंपनियों ने वर्क फ्रॉर्म होम की शुरुआत की है। ट्विटर जैसी कुछ तकनीकी कंपनियां अपने कर्मचारियों को हमेशा के लिए घर से काम कराना पसंद कर रही हैं। इस पर नडेला ने अपनी प्रतिक्रिया जाहिर करते हुए इससे कर्मचारियों पर गंभीर परिणाम की संभावना जताई है।
नडेला ने द न्यूयॉर्क टाइम्स के साथ बातचीत में अपनी प्रतिक्रिया दी है।
नडेला का मानना है कि आज की परिस्थिति में हम एक उलझन सुलझाने के लिए नई उलझन से रूबरू हो रहे हैं। अधिक काम या परेशानी का बोझ कैसा होता है? मानसिक स्वास्थ्य कैसा हो जाता है? ऐसे में सामुदायों का क्या स्वरूप हो और संपर्क के सूत्र क्या हों? मुझे ऐसा लगता है कि मौजूदा हालात में दफ्तर से दूर रहकर काम करते हुए हम उन तमाम सामाजिक एवं पारस्परिक पूंजी को लुटा रहे हैं, जो हमने सामान्य परिस्थिति में जमा की थीं। अब हमारे सामने उपाय क्या हैं?
ट्विटर ने अपने स्टाफ को हमेशा के लिए घर से काम करने का विकल्प दिया है। ट्विटर के कर्मचारी कोविड-19 के खत्म होने के बाद भी घर से काम कर सकेंगे। नडेला की टिप्पणी ट्विटर के इस बयान के बाद आई है।
वहीं फेसबुक, अल्फाबेट (गूगल) और कुछ अन्य कंपनियों ने भी अपने कर्मचारियों को साल के अंत तक घर से काम करने के लिए कहा है।
माइक्रोसॉफ्ट ने घर से काम करने की अपनी नीति को कम से कम अक्टूबर तक बढ़ा दिया है।
इस साल तकनीकी दिग्गज के शेयर की कीमतों में 14 फीसदी का इजाफा हुआ है और कंपनी के पास लगभग 140 अरब डॉलर की नकदी है।

Related posts

Current Crime
Ghaziabad No.1 Hindi News Portal
%d bloggers like this: