Current Crime
अन्य ख़बरें ग़ाजियाबाद दिल्ली एन.सी.आर

क्या सरकार बदलने से बदलेंगे हालात

128 गैंग, 509 अपराधी, फिर भी पुलिस है सुकून में
सय्यद अली मेहदी (करंट क्राइम

गाजियाबाद। पुलिस का नाम जहन में आते ही एक ऐसे पुलिसकर्मी की कल्पना की जाती है जो अपराध और अपराधियों पर अंकुश लगा सके। क्षेत्र में चैन और सुकून हो, साथ ही बदमाश किसी भी आपराधिक वारदात को करने से पहले सौ बार सोचे। लेकिन ऐसा नहीं है। कम से कम हम हॉट सिटी की ‘सदैव आपकी सेवा में तत्पर’ के स्लोगन वाली पुलिस के बारे में तो नहीं कह सकते। क्योंकि सरकारी आंकड़ों के मुताबिक शहर के हर क्षेत्र में अपराधी खुलेआम घूम रहे हैं। जबकि पुलिस मुखबिर तंत्र, सर्विलांस, रात्रि चैकिंग एवं गश्त के नाम पर सिर्फ और सिर्फ खानापूर्ति करती नजर आ रही है। अगर ऐसा नहीं है तो फिर पुलिस रिकॉर्ड में दर्ज बदमाशों की संख्या कम क्यों नहीं हो रही है या फिर बदमाशों के गैंग खत्म क्यों नहीं किए जा रहे हैं। निश्चित रूप से पुलिस कई बार लापरवाह और गैरजिम्मेदार दिखाई देती है। जनपद का कोई ऐसा क्षेत्र नहीं है। जहां बदमाश ताबड़तोड़ वारदातों को अंजाम देकर आतंक ना फैला रहे हो। पुलिस कभी कभी छोटे-मोटे अपराधियों को पकड़ कर अपनी पीठ खुद तो थपथपा लेती है,लेकिन निश्चित रूप से हल्की फुल्की कार्यवाही से हॉट सिटी गाजियाबाद की सुरक्षा व्यवस्था में कोई सुधार नहीं होगा।
बाहरी बदमाश भी है पुलिस
के लिए चुनौती
गाजियाबाद राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली से सटा हुआ है। जिसके चलते दिल्ली बॉर्डर के क्षेत्र में अपराधिक वारदातों को अंजाम देख कर बदमाश दिल्ली में घुस जाते हैं। यहां आकर हमारी पुलिस एकदम लाचार दिखाई देती है। प्रदेश बदल जाने के चलते पुलिस बदमाशों के खिलाफ दिल्ली में प्रभावी कार्यवाही नहीं कर सकती। जबकि आरोपियों को दिल्ली में ढूंढना भी एक टेढ़ी खीर साबित होता है। वही मेरठ, बागपत सहारनपुर,गुड़गांव सहित आसपास के क्षेत्रों से आकर बदमाश हॉट सिटी में वारदातों को अंजाम देते हैं।
क्या भाजपा साबित होगी सपा से बेहतर साबित होगी
कई लोगों का कहना है कि भाजपा शासन में पुलिस पहले से सौ गुना बेहतर काम करेगी। अपराधियों की धरपकड़ होगी । कानून का राज होगा और बदमाश आपराधिक वारदात को अंजाम देने से पहले कई बार सोचेंगे । कहा तो यहां तक जाता है कि पुलिस ने बदमाशों को संरक्षण देती है । क्योंकि बड़े बदमाशों के सीधे कनेक्शन कुछ खादीधारियों से भी देखे गए है। ऐसे में पुलिस की मजबूरी बन जाती है कि वह उन लोगों को अप्रत्यक्ष रुप से संरक्षण दें । जिनकी जगह जेल की सलाखों के पीछे है।
पुलिस लगातार कर रही है अथक प्रयास: एसपी सिटी
इस संबंध में एसपी सिटी सलमान ताज ने कहा कि यह कहना बिल्कुल गलत है कि पुलिस हाथ पर हाथ रख कर बैठी है। पुलिस पूरी तरह से अपराध और अपराधियों पर अंकुश लगाने के लिए प्रतिबंध है । हम लोग अथक प्रयास कर रहे हैं । साथ ही हमने गत कुछ समय में कई महत्वपूर्ण सफलताएं भी अर्जित की है।
पुलिस रिकार्ड के मुताबिक आंकड़े

थाना अपराधिक गैंग शातिर अपराधी
कवि नगर 14 58
सिहानी गेट 19 61
घंटाघर कोतवाली 21 85
विजयनगर 17 46
इंदिरापुरम 12 51
साहिबाबाद 24 98
लिंक रोड 15 78
खोड़ा 06 32

Related posts

Current Crime
Ghaziabad No.1 Hindi News Portal
%d bloggers like this: