Current Crime
ग़ाजियाबाद दिल्ली एन.सी.आर

जिला पंचायत अध्यक्ष का ताज आएगा किसके सिर

पवन मावी की रहेगी बादशाहत कायम या दिखेगा अलग असर

वरिष्ठ संवाददाता (करंट क्राइम)
गाजियाबाद। जिला पंचायत चुनाव ने दस्तक दे दी है। चुनाव की तैयारियां शुरू हो गई है। ग्राम प्रधानों से लेकर जिला पंचायत अध्यक्ष का कार्यकाल समाप्त हो चुका है। डीएम ने जिला पंचायत वाला प्रभार भी संभाल लिया है। अब गाजियाबाद की जिला पंचायत अध्यक्ष लक्ष्मी पवन मावी भी पद मुक्त हो चुकी हैं। ऐसे में अब ये एक अहम सवाल है कि जिला पंचायत अध्यक्ष वाला ताज किसके सिर पर आएगा। पवन मावी ने उस समय जिला पंचायत अध्यक्ष का पद भाजपा की झोली में डाला था जब पवन मावी के भाजपाई होने को लेकर भाजपाइयों ने सवाल उठाया था। पवन मावी दिल्ली से भाजपाई होकर आए और गाजियाबाद में उन्होंने जिला पंचायत अध्यक्ष गेम को पलट दिया। उनकी पत्नी लक्ष्मी मावी जिला पंचायत अध्यक्ष पद के लिए विश्वास मत हासिल करने में सफल रहीं। अब जब फिर से जिला पंचायत अध्यक्ष चुनाव की बिसात बिछी है तो बड़ा सवाल ये है कि क्या जिला पंचायत अध्यक्ष पति पवन मावी फिर से जिला पंचायत अध्यक्ष वाले गेम में मैन आॅफ द मैच रहेंगे या नहीं। वह इस गेम के विजेता बनते हैं या गेम कुछ बदलेगा। पवन मावी क्या जिला पंचायत अध्यक्ष की कुर्सी तक पहुंचने का प्रयास करेंगे। पवन मावी कह चुके हैं कि वह जिला पंचायत रण में उतरेंगे। उनकी पत्नी और वह दोनों अलग-अलग वार्ड से चुनाव लड़ेंगे। अब पवन मावी यहां बादशाहत कायम करने के लिए कौन-सा दांव खेलते हैं यह देखना होगा।

परिसीमन-आरक्षण और वोटर लिस्ट पर टिका है पूरा गेम

जिला पंचायत को जिला सरकार भी कहा जाता है। यहां वोटों का गणित अपने ही नियम पर चलता है। गाजियाबाद जिला पंचायत में 14 वार्ड हैं और यहां इस खेल के खिलाड़ी बता रहे हैं कि पूरा गेम खिलाड़ियों से ज्यादा पिच और मौसम पर टिका है। जिला पंचायत गेम में हर खिलाड़ी का पूरा गेम वार्ड के परिसीमन, वार्ड के आरक्षण और वोटर लिस्ट पर टिका है। यहां पर गेम 2001 और 2005 वाले परिसीमन को लेकर है। यदि इसी पर चुनाव हुआ तो भी और यदि नया परिसीमन तो भी कई का चुनावी गणित बिगड़ जाएगा। कई वार्ड ऐसे हैं जहां परिसीमन किसी को रास आ जाएगा और किसी का गेम बिगड़ जाएगा। कोई वार्ड ऐसे हैं जहां आरक्षण पूरे गेम को प्रभावित करेगा। सीट के महिला आरक्षण से लेकर ओबीसी और दलित आरक्षण पर अरमानों का पूरा बेस टिका है। यदि जनरल उम्मीदवार ने तैयारी की और सीट ओबीसी हो गई तो मैच पलट जाएगा। सीट के साथ-साथ वोटर लिस्ट भी यहां काफी हद तक एक रोल निभाएगी। जब परिसीमन और आरक्षण का इफेक्ट आएगा तो फिर इस इफेक्ट में वोटर लिस्ट भी आ जाएगी।

हर वार्ड से पहुंच चुके हैं 20 से 25 दावेदारों के बॉयोडाटा

जिला पंचायत चुनाव को लेकर सबसे ज्यादा समर्थन, फोकस भाजपा में है। भाजपा की सरकार है तो टीआरपी आॅफ टिकट भी उसी की ज्यादा है। भाजपा पहले ही इस चुनाव में सिम्बल पर लड़ने की घोषणा कर चुकी है। अभी भाजपा संगठन ने जिला पंचायत दावेदारों से बॉयोडाटा नहीं मांगे हैं, लेकिन सूत्र बताते हैं कि प्रत्येक वार्ड से 20 से 25 उम्मीदवार ऐसे हैं जो अपने-अपने बॉयोडाटा भाजपा पदाधिकारियों के पास पहुंचा चुके हैं। गाजियाबाद जिला पंचायत में 14 वार्ड हैं और इन सभी वार्डों में दावेदारी को लेकर विकट सीन चल रहा है। सभी दावेदार अपने-अपने स्तर से अपने-अपने बॉयोडाटा को पहुंचा रहे हैं। जिस समय पवन मावी ने यहां जिला पंचायत अध्यक्ष की रणभेरी बजाई थी तब स्थिति कुछ और थी। आज स्थिति कुछ और है। तब भाजपा समर्थन देने या लेने की स्थिति से बाहर थी। आज भाजपा सिम्बल देने की स्थिति में है। ऐसे में अब यह गेम और अधिक रोचक हो जाएगा। अभी तो भाजपा मंदिर वाले कलेक्शन अभियान में बिजी है और जिला पंचायत इलेक्शन को लेकर इतना फोकस नहीं है, मगर अभियान समाप्त होते ही जिला पंचायत चुनाव का रण शुरू हो जाएगा।

भाजपा ने जारी कर दी चुनाव संयोजक वाली लिस्ट

जिला पंचायत चुनाव की तैयारी सबसे पहले भाजपा ने की है। उसने जिला पंचायत चुनाव की वार्ड संयोजक सूची जारी की है। ब्लॉक चुनाव संयोजक सूची जारी की है। 3 जनवरी को संशोधित सूची के बाद विकास खंड ब्लॉक चुनाव संयोजक घोषित किए हैं। भोजपुर ब्लॉक में नरेश अमराला, नितिन त्यागी को चुनाव संयोजक बनाया है। मुरादनगर में संजीव त्यागी और राजेंद्र डबाना को ब्लॉक चुनाव संयोजक बनाया है। रजापुर ब्लॉक में शिवनंदन शर्मा और मनवीर फौजी को संयोजक बनाया गया है। लोनी ब्लॉक में ओबीसी मोर्चा के प्रदेश मंत्री योगेंद्र मावी और विपिन कसाना को चुनाव संयोजक बनाया गया है। जिला पंचायत वार्ड चुनाव संयोजक सूची में वार्ड-1 से संदीप त्यागी, वार्ड-2 से संजीव तोमर, रोहित तोमर, वार्ड-3 से अशोक मुखिया, वार्ड-4 से सुधीर चौधरी, वार्ड-5 से सतेंद्र त्यागी, वार्ड-6 से मुकुट लाल अरोड़ा को जिला पंचायत वार्ड चुनाव संयोजक बनाया गया है। इसके अलावा वार्ड-7 से वरुण प्रधान, वार्ड-8 से अशोक नागर, वार्ड-9 से नरेंद्र बाबू तथा जितेदं्र दोसा को संयोजक बनाया गया है। वार्ड-10 से सुनील मित्तल, वार्ड-11 से राजकुमार यादव, मौजी प्रधान, वार्ड-12 से आदेश कसाना, डॉ. इंद्रजीत, वार्ड-13 से जगमोहन कसाना, मोहित बैंसला और वार्ड-14 से हरिओम गुप्ता को चुनाव संयोजक बनाया गया है। इसके अलावा जिला पंचायत चुनाव संयोजक के रूप में भाजपा जिलाध्यक्ष दिनेश सिंघल, पूर्व जिलाध्यक्ष बसंत त्यागी, जिला महामंत्री अनूप बैंसला तथा भाजपा महानगर महामंत्री अप्पू पहलवान को भी लिया गया है।

Related posts

Current Crime
Ghaziabad No.1 Hindi News Portal
%d bloggers like this: