गौतमबुद्ध नगर एसएसपी के कथित वायरल वीडियो में शामिल लड़की कौन!

0
60

नोएडा (ईएमएस)। उत्तर प्रदेश के गौतमबुद्ध नगर जिले के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक को बदनाम करने के लिए वायरल किए गए मॉर्फ कंटेंट और एसएसपी की ओर से शासन को भेजी गई गोपनीय रिपोर्ट पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने संज्ञान लिया है। उन्होंने मामले में जांच करने के लिए मेरठ के आईजी को आदेश दिया है। वहीं यह सवाल भी खड़ा हो रहा है कि आखिरी वायरल वीडियो में दिखाई दे रही लड़की कौन है? प्रचारित वीडियों में शामिल लड़की कौन है, इसको लेकर सबसे बड़े सवाल उठ रहे हैं कि आखिर यह लड़की कौन है, जिसने यह वीडियो तैयार किया और वीडियो में जिस शख्स को एसएसपी गौतमबुद्वनगर बताया जा रहा है, वह वास्तव में कौन है। किसने साजिश रच कर यह पूरा वीडियो तैयार कराया और वायरल किया, इसकी जांच में पुलिस टीमें जुटी हैं। लेकिन अभी तक लड़की के संबंध में सुराग नहीं लग सका है। यह भी पता लगाने का प्रयास किया जा रहा है कि आखिर यह वीडियो सबसे पहले कहां से आया और किसने इसे प्रचारित किया।
वही दूसरी ओर इस पूरे मामले में एक्टिविस्ट डॉ. नूतन ठाकुर ने सीबीआई से जांच करवाने की मांग की है। इस घटनाक्रम से सूबे के आईपीएस कैडर में सन्नाटा पसरा हुआ है। एसएसपी वैभव कृष्ण के कथित मॉर्फ अश्लील वीडियो प्रकरण में उत्तर प्रदेश कैडर के पांच आईपीएस अफसरों की भूमिका बताई जा रही है। इस मामले में बुधवार की रात वैभव कृष्ण ने पत्रकार वार्ता करके विस्तार से जानकारी दी थी। एसएसपी ने पांचों आईपीएस की इस मामले में संलिप्तता और भ्रष्टाचार के कई मामलों का हवाला देते हुए एक गोपनीय रिपोर्ट मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और पुलिस महानिदेशक को भेजी है। बताया जा रहा है कि इस रिपोर्ट पर गुरुवार को मुख्यमंत्री ने संज्ञान लिया है। सीएम ने वैभव कृष्ण की रिपोर्ट तलब की है। साथ ही मामले में जांच करने के लिए मेरठ के आईजी को आदेश दिया है। आईजी रेंज मेरठ आलोक सिंह पूरे मामले की जांच करके रिपोर्ट देंगे, उसके बाद कार्रवाई होगी। एसएसपी ने आईपीएस अफसरों पर लगाए आरोप: एसएसपी ने मुख्यमंत्री को भेजी अपनी रिपोर्ट में कई आईपीएस अफसरों पर भ्रष्टाचार के आरोप लगाए हैं। वायरल हुए अश्लील वीडियो के पीछे वैभव कृष्ण ने इन अफसरों को मुख्य साजिशकर्ता बताया है। आरोप है कि ये अफसर ट्रांसफर-पोस्टिंग का धंधा चला रहे थे। जिस पर नोएडा में कार्रवाई की गई थी। उससे परेशान होकर बदनाम करने की यह साजिश रची है। वैभव कृष्ण ने पूरे मामले में उच्चस्तरीय जांच कराने की मांग की है।