Current Crime
देश

जिस वक्त मुझ पर रिश्वत लेने के आरोप लगे तब मैं भारत में नहीं था : अस्थाना

नई दिल्ली (ईएमएस)। केंद्रीय जांच ब्यूरों (सीबीआई) के शीर्ष दो अफसरों के बीच छिड़ी जंग खत्म होती नहीं दिख रही है। मामले में अब सीबीआई के विशेष निदेशक राकेश अस्थाना ने नया दावा करते हुए कुछ सबूत पेश किए हैं। अस्थाना के मुताबिक, जिस वक्त उन पर रिश्वत लेने के आरोप लगे हैं, तब वह भारत में थे ही नहीं। दरअसल, अस्थाना के खिलाफ उनके बॉस और सीबीआई चीफ आलोक वर्मा ने रिश्वत लेने की शिकायत दर्ज की थी। वह शिकायत कारोबारी सतीश बाबू सना के बयान पर दर्ज हुई थी, जिसने अस्थाना को पैसे देने का दावा किया था। अपने खिलाफ हुई एफआईआर को खत्म करवाने सीवीसी के पास पहुंचे अस्थाना का कहना है कि उन्हें इसलिए फंसाया जा रहा है क्योंकि उन्होंने निदेशक वर्मा के भ्रष्ट होने की बात सामने रख दी थी। अपनी ताजा सफाई में अस्थाना ने कहा कि सना द्वारा रिश्वत देने की बताई गई तारीखों पर वह लंदन में विजय माल्या के प्रत्यर्पण के लिए हुए ट्रायल में शामिल हुए थे। अस्थाना ने कहा है कि वह 2 दिसंबर से लेकर 14 दिसंबर 2017 के बीच लंदन में थे। अस्थाना के मुताबिक, सना ने इन्हीं दिनों में उन्हें रिश्वत देने का दावा किया है।
सीवीसी के सामने पेश हुए अस्थाना ने यह भी कहा कि जांच को पक्की करने के लिए चाहे तो उनकी फोन डीटेल और नेटवर्क पोजिशन देखी जा सकती है। अस्थाना ने अपनी यात्रा से जुड़ी सारी जानकारी भी सीवीसी को सौंप दी है। यह सभी सबूत उन्होंने अपने खिलाफ दायर एफआईआर को खत्म करने के लिए दिए हैं। सीवीसी को दी जानकारी में अस्थाना ने कहा है कि वह 15 दिसंबर को दिल्ली लौटे थे और अगले दो दिन तक दफ्तर नहीं गए थे। बता दें कि 4 अक्टूबर को सीबीआई ने सना को पकड़ा तो उसने अस्थाना के खिलाफ मैजिस्ट्रेट के सामने बयान दे दिया था। सना ने दावा किया कि 10 महीने में उसने अस्थाना को 3 करोड़ रुपये दिए हैं। फिर 15 अक्टूबर को सीबीआई ने सना से 3 करोड़ की घूस लेने के आरोप में अस्थाना के खिलाफ केस दर्ज किया। इससे पहले अस्थाना ने सीबीआई निदेशक आलोक वर्मा पर सना से रिश्वत लेने का आरोप लगाया था।

Related posts

Current Crime
Ghaziabad No.1 Hindi News Portal
%d bloggers like this: