दिल्ली में पैदल चलना खतरनाक, मरने वालों की तादाद 10 फीसदी बढ़ी

0
8

नई दिल्ली (ईएमएस)। दिल्ली की सड़कों को सुरक्षित बनाने की मुहिम में लगी तमाम सरकारी और गैर-सरकारी एजेंसियों और स्वयंसेवी संस्थाओं की मुहिम को एक तगड़ा झटका लगा है। दिल्ली की सड़कें राहगीरों के लिए पहले से भी ज्यादा खतरनाक बन गईं हैं। दिल्ली में सड़क हादसों में राहगीरों की मौत के मामलों में इस साल करीब १० फीसदी की बढ़ोतरी दर्ज की गई है। इससे खासतौर पर डब्लूएचओ की उस मुहिम को झटका लगा है, जिसके तहत २०२० तक दिल्ली समेत पूरे देश में सड़क हादसों में ५० प्रतिशत तक की कमी लाने और सड़कों को राहगीरों और साइकल सवारों के लिए सुरक्षित बनाने का लक्ष्य तय किया है। हालांकि डब्लूएचओ के लिए थोड़ी सी राहत की खबर यह जरूर रही है कि इसी साल दिल्ली में साइकल सवारों और टु वीलर सवारों की रोड क्रैश में मौतों के मामलों में कमी आई है, लेकिन सेल्फ हिट और अज्ञात वाहनों की टक्कर से होने वाली मौतों के मामलों में काफी बढ़ोतरी दर्ज हुई है। हिट ऐंड रन के ज्यादातर मामलों में मरने वाले लोग राहगीर, साइकिल सवार या टु वीलर सवार ही होते हैं।
ट्रैफिक पुलिस से मिले ताजा आंकड़ों के अनुसार दिल्ली में पिछले साल १५ सितंबर तक सड़क हादसों में जहां ४६९ राहगीरों की मौत हुई थी, वहीं इस साल १५ सितंबर तक यह तादाद बढ़कर ५१३ तक पहुंच गई है। यानी पिछले साल के मुकाबले इस साल ४४ राहगीरों की मौत ज्यादा हुई है। इस तरह राहगीरों की मौतों के मामले में इस साल करीब साढ़े ९ फीसदी की बढ़ोतरी हुई है। राहगीरों की मौत के सबसे ज्यादा मामले रिंग रोड, आउटर रिंग रोड, एनएच-८, एनएच-२४, एनएच-१ जैसे हाईस्पीड सिग्नल फ्री कॉरिडोर्स पर सामने आए हैं, क्योंकि इन जगहों पर लोगों के सुरक्षित तरीके से पैदल सड़क पार करने के लिए फुट ओवरब्रिज, पैडस्ट्रियल सिग्नल, जेब्रा क्रॉसिंग, प्रॉपर लाइटिंग जैसी सुविधाओं का काफी अभाव है। सड़क हादसों में मरने वालों में दूसरी सबसे बड़ी तादाद साइकलिस्टों और टु वीलर सवारों की होती है, लेकिन ट्रैफिक पुलिस की सख्ती के साथ-साथ टु वीलर सवारों के बीच चलाए जाने वाले अवेयरनेस प्रोग्रामों के असर के चलते इस साल इन हादसों में कमी आई है। १५ सितंबर,२०१७ तक जहां सड़क हादसों में ५२ साइकिल सवारों की मौत हुई थी, वहीं इस साल (अब तक) ३९ लोगों की मौत हुई। वहीं ३७१ बाइक और स्कूटर सवारों की मौत हुई , वहीं इस साल यह आंकड़ा घटकर ३४० पर आ गया है।