राजस्थान में मतदान आज, सभी तैयारियां पूरी

0
2

जयपुर (ईएमएस)। राजस्थान की 200 विधानसभा सीटों में से 199 सीटों के लिए शुक्रवार को मतदान होना है। एक सीट पर प्रत्याशी की मौत होने के बाद चुनाव टाल दिया गया है। राजस्थान विधानसभा निर्वाचन क्षेत्रों के लिए ईवीएम और वीवीपैट मशीनों से जुड़ी सभी तकनीकी व्यवस्थाएं पूरी कर ली गई हैं।
एफएलसी प्रथम और सेकेंड रेंडमाइजेशन और मॉक पोल सहित सभी कार्य पूरे कर लिए गए हैं। मुख्य निर्वाचन अधिकारी आंनद कुमार ने बताया कि मशीनों को पूरी तरह जांच परखकर और मॉक पोल करवाकर उन्हें जिला स्तर पर बनाए गए स्ट्रांग रूम में कड़ी सुरक्षा के बीच रखवाया जा रहा है। 7 दिसंबर को होने वाले मतदान के लिए प्रदेशभर में 2 लाख से ज्यादा ईवीएम और वीवीपैट मशीनों का इस्तेमाल किया जाएगा।
किसी भी स्तर पर तकनीकी समस्या न आए इसके लिए अधिकारियों को कई बार प्रशिक्षण दिया गया है। किसी भी तकनीकी समस्या का अविलंब निस्तारण किया जाएगा।
मतदान के लिए मतदाता का नाम मतदाता सूची में होना पहली अनिवार्यता है। इसके पश्चात मतदाता को मतदान केंद्र पर अपनी पहचान स्थापित करानी होगी। राज्य में सभी मतदाताओं को मतदाता फोटो पहचान-पत्र वितरित किए जा रहे हैं। जिन मतदाताओं के पास मतदाता फोटो पहचान-पत्र नहीं, वे अपनी पहचान मतदाता पर्ची या वैकल्पिक दस्तावेजों के माध्यम से करा सकता है। प्रदेश में 4 करोड़ 77 लाख 89 हजार 815 हजार मतदाता हैं।

दिव्यांगों के लिए विशेष प्रबंध
इस बार निर्वाचन विभाग ने दिव्यांगों और बुजुर्ग मतदाताओं के लिए खास तैयारियां की गई हैं। इनके सहयोग के लिए 103709 वॉलंटियर तैनात रहेंगे। दिव्यांग मतदाताओं के लिए मतदान के दिन बूथ स्थलों पर वाहन और व्हील चेयर उपलब्ध रहेगी। इसके साथ ही प्रत्येक मतदान केंद्र पर दो-दो वॉलंटियर मौजूद रहेंगे। मुख्य निर्वाचन अधिकारी आनंद कुमार ने बताया प्रदेश के सभी जिला कलेक्टर्स को मतदाताओं को सुविधा मुहैया कराने के निर्देश दिए गए हैं। प्रत्येक मतदान केंद्र पर पानी, छाया और शौचालय की व्यवस्था रहेगी। 103709 वॉलंटियर मतदाताओं की मदद करेंगे।

मतदाताओं के लिए वाहन व्यवस्था
दिव्यांग मतदाताओं के लिए दिव्यांग मित्र और सहायक कर्मचारी नियुक्त किए गए हैं। दिव्यांग मतदाताओं को लाने और ले जाने के लिए वाहनों की व्यवस्था की गई है। प्रत्येक मतदान केंद्र पर रेम्प और व्हीलचेयर की व्यवस्था की गई है। प्रदेश में कुल 435451 दिव्यांग मदताता हैं। इनमें 72862 नेत्रहीन और 58339 बहरेपन से ग्रसित हैं। इनके साथ ही 250351 लोकोमोटर डिसेबल्ड और 53899 अन्य दिव्यांग हैं। इनके लिए प्रदेशभर में 53009 वाहन उपलब्ध रहेंगे। इनके लिए 122046 व्हीलचेयर की व्यवस्था की गई है। इनकी सहायता के लिए 103709 वॉलंटियर उपलब्ध रहेंगे। दिव्यांग मतदाताओं को किसी भी प्रकार की असुविधा ना हो इसके लिए सुगम्य पोर्टल बनाया गया है। पंजीकृत दिव्यांग मतदाताओं के पास जारी कर दिए गए हैं।