अपने पर भरोसा है विराट की ताकत

0
86

नई दिल्ली (ईएमएस)। टीम इंडिया के कप्तान विराट कोहली के बचपन के कोच राजकुमार शर्मा का कहना है कि अपने पर भरोसा ही विराट की सबसे बड़ी ताकत है। वहीं जब विराट को कोई बात परेशान करती है तो वह उसे एक चुनौती के रूप में लेते हैं। वह सोचते हैं कि इससे कैसे पार पाया जाए और हमेशा ही बेहतर करने की कोशिश करते हैं। इसी कारण वह लगातार बेहतर होते गये हैं। विराट ने साल 2008 में दाम्बुला में कोहली में पहली बार टीम इंडिया की ओर से अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में पदार्पण किया और उसके बाद से ही वह लगातार आगे बढ़ते आये हैं क्योंकि वह समय के अनुसार बदलाव करते रहे हैं।
विराट को बहुत समय पहले समझ आ गया था कि खेल की मांग बदल रही है। इसलिए अगर शीर्ष पर रहना है तो पसीना बहाना पड़ेगा। उन्होंने अपना खानपान बदला। फिटनेस पर जोर दिया और उसका परिणाम सामने है। वह लगातार आगे बढ़ते रहे हैं। आज विराट वनडे में शतकों के मामले में केवल दिग्गज सचिन तेंडुलकर से ही पीछे हैं और कई दिग्गजों का मानना है कि आने वाले समय में विराट सचिन से भी आगे निकल जाएंगे। विराट में खेल के प्रति जुनून और आक्रामकता के साथ ही जीत का जज्बा है जो उन्हें सफल कप्तान बना रहा है।