पदाधिकारी समझे अपनी जिम्मेदारी

0
194

ससमाजवादी पार्टी की ओर से मिशन 2017 की शुरूआत की दी गई है। (opinion in ghaziabad) तैयारियों के फलस्वरूप पार्टी आलाकमान व प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने सूबे की समस्त विधानसभा क्षेत्रों से चुनाव लड़ने वाले आवेदकों के आवेदन भी ले लिये हैं। पार्टी की ओर से स्पष्ट कर दिया गया है कि पार्टी मजबूत प्रत्याशी को चुनाव में उतारेगी और आगामी दिनों में विधानसभा क्षेत्रों के लिए आवेदनों की स्क्रूटनी भी कर ली जायेगी और लगभग तय कर दिया जायेगा कि किस विधानसभा क्षेत्र से कौन सपा का प्रत्याशी होगा। विधानसभा क्षेत्रों से आवेदन लेने के साथ ही संगठन को भी धार देने का काम शुरू कर दिया गया है। पार्टी सुप्रीमों मुलायम सिंह यादव ने लखनऊ में आयोजित एक बैठक के दौरान समस्त संगठन पदाधिकारियों को स्पष्ट निर्देश दे दिए हैं कि वह अपने अपने क्षेत्रों में पार्टी को मजबूत करने का काम करें और जो सरकार विकास के कार्यो को निरंतर कराती आ रही है उनका प्रचार जनता के बीच जाकर करें और जनता से संगठन के पदाधिकारी सीधा संवाद कायम करें ताकि अन्य विपक्षी दल जनता को किसी भी तरह से गुमराह न कर सकें। सुप्रीमों मुलायम सिंह यादव ने जो संकेत समय रहते संगठन पदाधिकारियों को दिए हैं उन्हें संगठन पदाधिकारी भली भॉति समझ लें ताकि पार्टी आने वाले चुनावों में वर्ष-2012 की तरह ही जीत का परचम लहरा सके। पार्टी पदाधिकारियों को जिस विश्वास के साथ पदों पर नियुक्त किया गया है, अब उन्हें पार्टी को दिखाना होगा कि वह कितने मेहनती हैं और पार्टी की नीतियों के प्रचार प्रसार में उनका क्या योगदान रहा है।
क्योंकि पार्टी संगठन का पदाधिकारी अपने कर्तव्य का सही से निर्वाहन करेगा तभी सपा की असल जीत निकल कर आयेगा। अब पार्टी पदाधिकारियों को आपसी गिले सिकवे मिटाकर सिर्फ ओर सिर्फ सपा सरकार की नीतियों को जनता तक पहुंचाने के काम में जुट जाना चाहिए। मुख्यमंत्री अखिलेश यादव जिस उम्मीद से सूबे का विकास करा रहे हैं और उनकी उम्मीदों को पूरा करने में सपा का एक एक कार्यकर्ता अपनी पूरी ताकत लगा दे। मिशन 2017 की तैयारियों को लेकर अब सपाईयों को एकजुटता दिखानी होगी, नहीं तो आने वाले चुनाव के परिणाम क्या होंगे, इसका अंदाजा आसानी से लगाया जा सकता है। पार्टी मजबूत रहेगी तभी कार्यकर्ता और पदाधिकारियों का वजूद भी कायम रहेगा।