Current Crime
स्पोर्ट्स

इन खिलाड़ियों को मिल सकता है अर्जुन पुरस्कार

अंकिता और शरण
अखिल भारतीय टेनिस महासंघ (एआईटीए) ने अंकिता रैना और दिविज शरण के नाम की सिफारिश अर्जुन पुरस्कार के लिए करने का फैसला किया है। जबकि पूर्व डेविस कप कोच नंदन बाल के नाम की सिफारिश ध्यानचंद पुरस्कार के लिए की जाएगी। अंकिता ने 2018 एशियाई खेलों में महिला वर्ग का कांस्य पदक जीता था, उन्होंने फेड कप में भी शानदार प्रदर्शन किया था इससे भारत को पहली बार विश्व ग्रुप प्ले ऑफ के लिए क्वॉलिफाई करने में सफलता मिली थी।

वहीं शरण ने जकार्ता में अपने ही जोड़ीदार रोहन बोपन्ना के साथ पुरुष युगल स्पर्धा का स्वर्ण पदक जीता था। वह अक्टूबर 2019 में भारत के शीर्ष युगल खिलाड़ी बने थे, हालांकि बाद में बोपन्ना ने फिर यह स्थान हासिल कर लिया था। शरण ने 2019 सत्र में दो एटीपी खिताब टाटा ओपन और सेंट पीटर्सबर्ग में ट्रॉफी भी जीती थी।
वहीं एआईटीए के महासचिव हिरण्मय चटर्जी ने कहा, ” ये खिलाड़ी इस साल के अर्जुन पुरस्कार के लिए योग्य हैं। इसलिए हम इनके नाम की सिफारिश करेंगे।” अंकिता डब्ल्यूटीए और आईटीएफ सर्किट में भारत की सर्वश्रेष्ठ एकल खिलाड़ी रही हैं और इस साल मार्च में उन्होंने करियर की सर्वश्रेष्ठ एकल रैंकिंग 160 हासिल की। एआईटीए हालांकि अब भी विचार कर रहा है कि बाल का नाम द्रोणाचार्य पुरस्कार या फिर ध्यानचंद पुरस्कार के लिए भेजा जाए।

बर्धन और शिवनाथ
भारतीय ब्रिज महासंघ ने शिबनाथ सरकार और प्रणब बर्धन के नाम की सिफारिश प्रतिष्ठित अर्जुन पुरस्कार के लिए की है। बर्धन और शिवनाथ की जोड़ी ने जकार्ता एशियाई खेलों की ब्रिज प्रतियोगिता में स्वर्ण पदक जीता था।
बर्धन ने कहा, ”गलती से पिछले साल हमारे नामों का नामांकन नहीं हो पाया था और यह हमारे लिए लंबा इंतजार रहा। उम्मीद है कि हमें इस साल यह पुरस्कार मिलेगा, जिससे देश में इस खेल को नई दिशा मिलेगी।”
ब्रिज महासंघ ने इन दोनों के पास एक फॉर्म भेजा है और उसे दो दिन में भरकर भेजने के लिए कहा है। नामांकन की अंतिम तिथि तीन जून है। बर्धन और भादुड़ी पिछले दो दशक से भी अधिक समय से ब्रिज खेल रहे हैं।
उन्होंने कहा, ”मेरा पूरा जीवन इस खेल का समर्पित रहा है। लोग पहले ताश का खेल खेलने के लिए हमारा मजाक उड़ाते थे, लेकिन 2018 में एशियाई खेलों के स्वर्ण पदक ने सभी का नजरिया बदल दिया है।” ब्रिज को पहली बार एशियाई खेलों में शामिल किया गया था। इस भारतीय जोड़ी ने चीन के लिक्सिन यांग और गांग चेन (378 अंक) को पीछे छोड़कर स्वर्ण जीता था।

झिंगन और बाला देवी
अखिल भारतीय फुटबॉल महासंघ (एआईएफएफ) ने अर्जुन पुरस्कार के लिए राष्ट्रीय टीम के सेंट्रल डिफेंडर संदेश झिंगन और महिला टीम की स्ट्राइकर एन बाला देवी के नामों की सिफारिश की है। एआईएफएफ ने इस साल के खेल पुरस्कारों के लिये नामांकन भेजने के खेल मंत्रालय के निर्देशों पर यह नाम भेजे हैं। महासंघ के महासचिव कुशाल दास ने कहा ,‘‘ हमने संदेश और बाला देवी के नाम अर्जुन पुरस्कार के लिये भेजने का फैसला किया है जो लगातार अच्छा प्रदर्शन कर रहे हैं।’’ झिंगन भारतीय टीम में कप्तान सुनील छेत्री के बाद सबसे अहम खिलाड़ी माने जाते हैं।

फीफा विश्व कप क्वालीफायर 2015 से अंतरराष्ट्रीय फुटबॉल में पदार्पण करने के बाद से वह भारतीय टीम की बैक लाइन में अपनी अहम भूमिका निभाते रहे हैं। छेत्री की गैर मौजूदगी में उन्होंने भारतीय टीम की कप्तानी भी संभाली है। वहीं मणिपुर की बाला देवी ने स्कॉटलैंड की महिला प्रीमियर लीग टीम रेंजर्स एफसी के साथ करार किया था। वह विदेश में पेशेवर फुटबाल खेलने वाली पहली भारतीय महिला खिलाड़ी हैं।

Related posts

Current Crime
Ghaziabad No.1 Hindi News Portal
%d bloggers like this: