Current Crime
अन्य ख़बरें उत्तर प्रदेश ग़ाजियाबाद दिल्ली एन.सी.आर

उठी भाजपा में आवाज की कुछ तो है नॉन कॉपरेशन वाला ट्वीस्ट

गाजियाबाद (करंट क्राइम)। जब सरकार होती है तो सरकारी महकमों के कई काम सरकारी दफ्तरों से ज्यादा सरकारी वाली पार्टी के संगठन कार्यालय से होते है। लेकिन भाजपा सरकार में तकरार वाला सीन खत्म नहीं हो रहा। आवाज भाजपा से आ रही है कि भले ही तकरार में आवाज नहीं है लेकिन कुछ तो है जो अधिकारी अब संगठन की बात नहीं मान रहे हैं। खास बात यह है कि जो भी मामले हैं वह सीधे जनता से जुड़े हैं। अब चर्चा उस लिस्ट को लेकर है जो राशन के लिए बनी थी और नाजाने वो लिस्ट कहां खो गयी है।

सरकार ने राशन किट की घोषणा की थी और इसके बाद भाजपा संगठन ने यह काम अपने हाथ में लिया। मंडल अध्यक्षों को दायित्व दिया गया और फिर मंडल अध्यक्ष, पार्षद और विधायकों से होती हुई यह लिस्ट संगठन के पास गई। संगठन ने इस पर अपनी मुहर लगाई और यह लिस्ट उसने जिला प्रशासन को सौंप दी मगर लिस्ट को लेकर तो ट्वीस्ट आ गया। पहले तो प्रशासन ने लिस्ट रख ली और कोई कार्यवाही नहीं की। इसके बाद राशन कार्ड का नया फॉरमेट आ गया और कहा गया कि उसे भरकर दो। इसके बाद पार्षदों से लेकर मंडल अध्यक्षों ने उसे भरा। तकरार ये है कि महानगर के पदाधिकारी ने ही नाम ना छापने की शर्त पर बताया कि हम से संगठन ने राशन कार्ड के लिए नाम मंगवा दिए।

हमने लिस्ट तैयार की और फिर नया फॉरमेट भी भरकर दिया। तीन दिन इसी काम में लगे रहे। इसके बाद प्रशासन ने कहा कि इसे हम वैरिफाई करेंगे। हमने कहा ठीक लेकिन बाद में प्रशासन ने कहा कि वैरिफाई आप खुद कर लो। लेकिन जो लिस्ट वैरिफाई होकर गयी, उसमें भी कोई कार्यवाही नहीं हुई। लिस्ट की इस गुमशुदगी से नाराज भाजपा के नामित पार्षद ने कहा कि हमने लोगों से राशन कार्ड के फार्म भरवाये और अब लोग हमें रास्ते में रोककर पूछ रहे हैं। हमने तो लोगों को देखकर अब छुपना शुरू कर दिया है। भाजपा के ही एक मंडल अध्यक्ष ने कहा कि नोएडा में तो वार्ड अध्यक्ष की लिस्टपर एक्शन हो गया और यहां विधायक की लिस्ट भी गुम हो गयी। सपा और बसपा पार्षदों के घर से राशन किटें बरामद हो गयीं। लेकिन भाजपा महानगर अध्यक्ष की लिस्ट पर कोई एक्शन नहीं हुआ। अब जनता पूछ रही है और भाजपा नेताओं की समझ में नहीं आ रहा कि वो क्या जवाब दें। करंट क्राइम ने इस सम्बंध में भाजपा महानगर अध्यक्ष संजीव शर्मा से बात की और पूछा कि आपने ही लिस्ट प्रशासन को सौंपी थी और मई महीने में राशन कार्ड दिए जाने का एलान किया था। अब तो भाजपा नेता लोगों से बच रहे हैं और एक ने तो धरने पर बैठने का भी एलान कर दिया है। इस सवाल पर भाजपा महानगर अध्यक्ष संजीव शर्मा ने कहा कि अभी लॉक डाउन का दौर चल रहा है और ऐसे में मैं इस विषय पर कुछ नहीं कहूंगा लेकिन इतना जरूरत है कि कहीं न कहीं कुछ कन्फ्यूजन है। महानगर अध्यक्ष संजीव शर्मा ने कहा कि मेरे पास भी पार्षदों के फोन आये हैं और चूंकि यह विषय जनता से जुड़ा है और अब हमने इस विषय को लोकसभा सांसद व केन्द्रीय सड़क परिवहन राज्यमंत्री जनरल वीके सिंह के सामने रखा है और यह मामला विधायकों के पास भी पहुंचा है। जल्द ही इस विषय को लेकर सांसद, विधायक और संगठन के बीच मीटिंग की जायेगी।

Related posts

Current Crime
Ghaziabad No.1 Hindi News Portal
%d bloggers like this: