शारमिन की परफॉर्मेंस की हो रही काफी तारीफ फिल्म ‘मलाल’ से मीजान जाफरी के साथ किया डेब्यू

0
134

मुंबई (ईएमएस)। बालीवुड फिल्म ‘मलाल’ से डेब्यू करने वाली ऐक्ट्रेस शारमिन सहगल की परफॉर्मेंस की काफी तारीफ हो रही है। उनके साथ जावेद जाफरी के बेटे मीजान ने भी बालीवुड में डेब्यू किया है। शारमिन ने फिल्मों में आने से पहले केवल अपने अंकल संजय लीला भंसाली को असिस्ट ही नहीं किया है बल्कि ऑन-स्क्रीन अच्छा दिखने के लिए अपना वजन भी काफी कम किया है। हाल में मीडिया से हुई बातचीत में शारमिन ने कहा है कि अभी वह ऑन-स्क्रीन न्यूड सीन नहीं दे पाएंगी। उन्होंने कहा, ‘एक ऐक्ट्रेस के तौर पर मुझे बहुत कुछ करना है और मैं खुद को सीमित नहीं करना चाहती। हालांकि अभी, मैं स्क्रीन पर सेक्स सीन या न्यूड सीन नहीं दे पाऊंगी।’ शारमिन ने कहा, ‘मुझे अभी ऐसे सीन करने के लिए बॉडी कॉन्फिडेंस डिवेलप करना है। मुझे लगता है कि चाहे आप लड़का हों या लड़की, अगर आप कॉन्फिडेंट नहीं हैं कि आप क्या परफॉर्म कर रहे हैं तो आप स्क्रीन पर बुरे ही दिखेंगे।’ शारमिन का कहना है कि फिल्मों के लिए ग्लैमरस दिखना बुरा नहीं है। हालांकि उन्होंने यह भी माना कि जेंडर के आधार पर मापदंड निर्धारित करना भी गलत होता है। उन्होंने कहा, ‘मुझे बुरा लगता है जब कोई कहता है कि तुम्हें ऐसा नहीं करना चाहिए क्योंकि तुम एक लड़की हो। हमसे हमेशा उम्मीद की जाती है कि हम नम्र हों, हमें लोगों के बीच में डकार नहीं लेनी चाहिए या फार्ट नहीं करना चाहिए या हमें लोगों के बीच में कुछ खास तरीके से ही बैठना चाहिए क्योंकि हम लड़कियां हैं।’ शारमिन ने कहा, ‘मेरा मानना है कि यह सब गलत नहीं है क्योंकि सब नैचरल है लेकिन या तो ये सब बातें सभी पर लागू हों या किसी पर नहीं। गाली देना सभी के लिए गलत होना चाहिए, चाहे वह लड़के हों या लड़कियां। आखिर ऐसा कैसे कह सकते हैं कि लड़कों का गालियां देना सही है और लड़कियों का गलत?