Current Crime
अन्य ख़बरें ग़ाजियाबाद दिल्ली एन.सी.आर

हरिद्वार की तर्ज पर होगा गढ़ का विकास: योगी

विनोद शर्मा (करंट क्राइम)

गढ़मुक्तेश्वर। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बुधवार को गढ़मुक्तेश्वर हापुड़ में आयोजित जन सभा में गढ़मुक्तेश्वर को 24 घण्टे विद्युत आपूर्ति की घोषणा की। साथ ही गढ़ के गंगा घाट का विकास हरिद्वार की तर्ज पर कराने को कहा। उन्होंने कहा कि गढ़मुक्तेश्वर का इतिहास अत्यन्त प्राचीन है तथा सैकड़ों वर्षों से आस्था का केन्द्र है। कार्तिक मेले में लाखों लोगों का आना यहां के धार्मिक महत्व एवं आस्था का प्रमाण है। उत्तर प्रदेश सरकार प्रदेश के धार्मिक स्थलों के विकास पर पूरा ध्यान दे रही हैं। ये क्षेत्र वर्षों से उपेक्षित रहा हैं जिसका सम्पूर्ण विकास किया जायेगा।
बिजली में वीआईपी कल्चर समाप्त
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने गढ़मुक्तेश्वर में गंगा तट पर महा वृक्षारोपण के अवसर पर पौध रोपण के बाद आयोजित जनसभा को सम्बोधित करते हुए यह विचार व्यक्त किये। उन्होंने इस अवसर पर कहा कि प्रदेश में वर्तमान सरकार बनने के बाद अब तक जो भी योजनाए बनाई गयी हैं उनके केन्द्र में किसानों, नौजवानों, महिलाओं के साथ ही प्रदेश का समग्र विकास है। विद्युत आपूर्ति में पिछली सरकार का वीआईपी कल्चर समाप्त हो गया है। प्रदेश के सभी जनपद मुख्यालयों को अब 24 घण्टे विद्युत आपूर्ति दी जा रही है। प्रदेश में 80 हजार किमी सड़कें गड्ढा मुक्त की गयी हैं। प्रदेश की गड्ढा युक्त सड़कें पिछली सरकारों की देन थीं।
बुधवारको 27 जनपदों में हुआ वृक्षारोपण
वृक्षारोपण के महत्व पर प्रकाश डालते हुए मुख्यमंत्री ने लोगों से इस कार्य में सक्रिय भागीदारी करने का अनुरोध किया। उन्होंने कहा कि वृक्षारोपण से ही हम पर्यावरण को शुद्ध एवं स्वास्थ्य वर्धक बना सकते हैं। इसमें सभी लोगों का सक्रिय सहयोग अपेक्षित है। उन्होंने कहा कि प्रदेश के 27 जनपदों में आज गंगा के किनारे वृक्षारोपण किया गया है। यह कार्यक्रम इस पूरे माह चलेगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि वर्तमान सरकार भ्रष्टाचार व अपराध मुक्त है। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार उ०प्र० का विकास के रास्ते पर चलने वाले प्रदेश के रूप में विकसित करने हेतु दृढ़ संकल्पित हैं। इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने स्वच्छता की उपयोगिता को रेखांकित करते हुए कहा कि स्वच्छता अपनाकर हम स्वयं तथा अपने परिवार व समाज को स्वच्छ बना सकते हैं। इसके लिये अपने मोहल्ले, गांव तथा घर के साथ ही स्वयं की स्वच्छता पर भी ध्यान देना होगा। मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर लोगों को स्वच्छता की शपथ भी दिलाई तथा कहा कि प्रत्येक व्यक्ति स्वच्छता के लिये सप्ताह में कम से कम दो घण्टे का समय अवश्य दें।
जनसभा से पूर्व गढ़ पहुंचने पर मुख्यमंत्री ने प्राथमिक विद्यालय आलमगीरपुर में स्कूली बच्चों को बैग, पुस्तक व ड्रेस का वितरण किया इसके बाद मुख्यमंत्री ने ब्रजघाट के गंगा किनारे पर पौध रोपण तथा गंगा जी की आरती की। उन्होंने जनप्रतिनिधियों व किसानों के प्रतिनिधियों से भी ब्रजघाट के विश्राम ग्रह में मुलाकात की।
जनसभा को केन्द्रीय मंत्री वीके सिंह, वन एवं पर्यावरण मंत्री दारा सिंह चैहान, बेसिक शिक्षा मंत्री स्वतन्त्र प्रभार श्रीमती अनुपमा जायसवाल, राज्य मंत्री अतुल गर्ग, हापुड़ जिला प्रभारी मंत्री सत्यदेव पचैरी, खेल कूद मंत्री चेतन चैहान, खाद्य रसद मंत्री अतुल गर्ग, सांसद राजेन्द्र अग्रवाल व कवंर सिंह तवर आदि ने भी सम्बोधित किया।
1 करोड़ 52 लाख बच्चों को बांटी यूनिफॉर्म
‘स्कूल चलो अभियान’ के सम्बन्ध में मुख्यमंत्री ने लोगों से अपील की कि वह अपने बच्चों को स्कूल अवश्य भेजें कोई भी बच्चा अभियान के दौरान स्कूल जाने से वंचित न रहने पाए। उन्होंने कहा कि सरकारी स्कूलों में आधुनिक शिक्षा की व्यवस्था की जायेगी। सरकारी स्कूलो से पढ़े बच्चे भी ऊंची नौकरियों में जायेंगे। उन्होंने कहा कि प्रदेश के 1 करोड़ 52 लाख बच्चों को यूनिफॉर्म बांटी जा रही है।
सतेन्द्र शिशौदिया की पीठ थपथपा गए सीएम
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के कार्यक्रम को लेकर वन महोत्सव एवं स्कूल चलो अभियान का प्रभारी भाजपा के क्षेत्रीय महामंत्री सतेन्द्र शिशौदिया को बनाया गया था। कार्यक्रम से एक दिन पहले बारिश में जनसभा स्थल की काफी व्यवस्थाएं प्रभावित कर दी थी। पूरे कार्यक्रम की जिम्मेदारी सतेन्द्र शिशौदिया के कंधों पर थी। लेकिन जिस अंदाज में श्री शिशौदिया ने कार्यक्रम का संचालन कराया उससे सीएम भी प्रसन्न हुए। मंच से केवल उनकी ओर से संगठन मंत्री चंद्र शेखर और महानगर प्रभारी सतेन्द्र शिशौदिया का ही नाम लिया गया। खास बात यह थी कि कार्यक्रम के सफल संचालन के बाद योगी आदित्यनाथ सतेन्द्र शिशौदिया की पीठ भी थपथपा गए।

23 हजार करोड़ रुपए का हुआ गन्ना भुगतान
मुख्यमंत्री ने कहा कि किसान अन्न दाता है उसको पूरा सम्मान मिले इसलिये किसान हितों को प्रदेश सरकार विशेष प्राथमिकता दे रही है, उनकी उपज का उचित मूल्य दिलाया जा रहा है। इस वर्ष बड़ी मात्रा में गेहूं खरीद करके किसानों को उनकी फसल का उचित मूल्य दिलाया गया है। धान क्रय करने के लिये भी व्यवस्था की जा रही है। किसानों को 23 हजार करोड़ रुपए गन्ना मूल्य का भुगतान किया गया है। उन्होंने कहा कि अवशेष भुगतान में यदि किसी स्तर पर आना-कानी की गयी तो सम्बन्धित को जेल जाना होगा। आगे भी किसानों के हित में जो भी कदम उठाने जरूरी होंगे, प्रदेश सरकार हर कीमत पर उठायेगी। मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश के 86 लाख किसानों का फसली ऋण माफ कर दिया गया है। शीघ्र ही किसानों को ऋण माफी प्रमाण-पत्र वितरित किये जायेंगे।

Related posts

Current Crime
Ghaziabad No.1 Hindi News Portal
%d bloggers like this: