Current Crime
ग़ाजियाबाद

उठते सवलों का करंट (16/04/2021)

  1. क्यों कहा कहने वाले ने कि भगवा झा ने जो छेड़ा है फेसबुक पर आकर 2 साल का तराना? हम आपको सच बता रहे हैं उसने एक भगवा कमिश्नर पर मारा है जोरदार ताना? क्यों कहा कहने वाले ने कि समझ जाओ आप भगवा झा के दिल के जज्बात? कभी वह भी रहा था कमिश्नर? भले ही आज चल रहा हो कमांडर के साथ? लगता है मौजूदा कमिश्नर नहीं दे रहा है भगवा झा को भाव?
  2. क्यों कहा कहने वाले ने कि रेखा पार के बल वाले राम ना जाने किस योजना को दे रहे हैं अंजाम? कभी वह मान लेते हैं गर्ग जी को संदेश देने के लिए गोयल जी को अपना नेता? या फिर उठा देते हैं रेखा पार से विधायक चेहरे की आवाज? सुना है उन्होंने छेड़ा है नया सवाल? बना दिया है उन्होंने पाठक को शहर विधानसभा का भावी प्रत्याशी? जिसने कभी शर्मा जी के सामने रखा था पार्षद बनने का प्रस्ताव? क्या बहुत सारे उम्मीदवार तैयार करके किसी को डिस्टर्ब करने का तो नहीं है बल वाले राम का भाव?
  3. क्यों कहा कहने वाले ने कि जिला अध्यक्ष के रिश्तेदार ने बताई है हमें एक बात? कहा है कि अध्यक्ष जी ने जिस मुस्लिम चेहरे को दिया है अपना समर्थन? वह नहीं जीतने जा रहा चुनाव? क्यों कहा कहने वाले ने कि इससे पहले आप हार मिलने पर जिला अध्यक्ष को कोसो? सच बता रहा हूं उनके समर्थित प्रत्याशी को वोट मिलेंगे सिर्फ 200? जिला अध्यक्ष दिमाग से नहीं दिल से लेते हैं निर्णय? भले ही पार्टी के पक्ष में धुंधली पड़ जाए उम्मीद की किरणें?
  4. क्यों कहा कहने वाले ने कि युवा भगवा सिसोदिया का टिकट ना होने के पीछे केवल 2 चेहरों का ही नहीं है नेगेटिव वाला भाव? हमें पता चला है क्षेत्र के बड़े वाले सिंह नेता, बड़े वाले तोमर नेता, बड़े वाले सिसोदिया नेता भी नहीं चाहते थे कि लड़े वह चुनाव? क्यों कहा कहने वाले ने कि जब चुनाव आता है तभी पता चलते हैं अंदर के भाव? आज अगर वह बन जाता है जिला पंचायत सदस्य? तो फिर खेलता आने वाले समय में विधानसभा की दावेदारी का दांव?
  5. क्यों कहा कहने वाले ने कि फॉर्मर फ्रंट का मीडिया मैन ले रहा था युवा सिंघल नेता को लेकर तफरी? कह रहा था पचास रुपए वाले चिली पटेटो अगर डेढ़ सौ में बचेगा? तो फिर कैसे बढ़ेगी उसकी बिक्री? क्या फॉर्मर मीडिया वालों को था युवा सिंघल नेता के नए धंधे पर डाउट? क्या बारी-बारी कर रहा था वह शहर विधानसभा के एक दावेदार के सामने अपने भाव आउट? हमें तो सुनकर लगी उसके शब्दों की यही अरदास? शायद नहीं कर पा रहा वह युवा सिंघल नेता की तरक्की बर्दाश्त?
  6. क्यों कहा कहने वाले ने कि आप हमारी लिख कर रख लो बात? भगवा गढ़ का उम्मीदवार कितनी ही मजबूती से लड़ा हो चुनाव? मगर वह नहीं पहुंच पाएगा दूसरे उम्मीदवार के पास? क्यों कहा कहने वाले ने कि विपक्ष के उम्मीदवार ने दी है सामाजिक काम के लिए अपने हिस्से की 14 बीघे जमीन? इसी बात से समझ जाओ कि गांव के लोगों में कूट-कूट कर भरे हैं विपक्षी उम्मीदवार को लेकर जज्बात वाले सीन?
  7. क्यों कहा कहने वाले ने कि भगवा गढ़ के युवा यादव नेता के दिल में है अब नहीं फूट रहे हैं अपने प्रिय शर्मा नेता के लिए दिल में बबल्स? कोई नाराज ना हो जाए इसलिए दूरियां बना रहा है वह डब्बल? करा रहा है किसी को एहसास कि मुझे बस युवा मोर्चा का अध्यक्ष बना दो? मैं नहीं जाता अब उनके पास? हम भी देख रहे हैं बहुत दिनों से करा रहा है वह प्रभु राम का नाम लेकर दूरियों का एहसास? लगता है अब लक्ष्मण को संभालनी होगी बात?
  8. क्यों कहा कहने वाले ने कि आप वार्ड नंबर 7 पर ही मत बनाओ भाजपा संगठन की पूरी ड्यूटी का सीन? अगर ऐसा हुआ तो मामला हो सकता है संगीन? क्यों कहा कहने वाले ने कि केवल इसी वार्ड पर नहीं लड़ा रहा था संगठन चुनाव? चमन भैया की थी दो नंबर पर ड्यूटी? रावत जी खेल रहे थे 3 पर दांव? सुखदेव जी को मिला था वार्ड 11? प्रशांत जी के पास था बोर्ड नंबर 5? बलदेव जी का 9 नंबर पर था राज? मेरी बात को लेना दिल में उतार? जहां-जहां पड़े हैं कदम संगठन वालों के वहां हो रहा है बेड़ा पार?
  9. क्यों कहा कहने वाले ने कि जब से कोविड-19 के बढ़ते केसों का गाजियाबाद जिले में आया है मैटर? भर गए हैं सभी प्राइवेट अस्पताल? नहीं मिल रहे वेंटीलेटर? ऐसे में क्यों खामोश हैं हमारे जिले के सभी जनप्रतिनिधि? क्यों नहीं लिख रहे हो इस मामले में मुख्यमंत्री को लेटर? सभी देख रहे हैं इस तरह के विपरीत हालात? देखते हैं सांसद, विधायक और मंत्रियों में से कौन रखेगा क्षेत्र की बात? कब जागेंगे दिलों में आपदा को लेकर जज्बात?
  10. क्या पंचायत वाले चुनाव के बाद फार्मर पॉलिटिक्स में आने जा रहा है कोई बड़ा बदलाव? डैमेज हुआ तो सीन हो जायेगा स्टेट से लेकर जिले पर पूरा चेंज? क्यों कहा कहने वाले ने कि जिन्हें मैनेज करने भेजा था उनसे भी तो ली जाये फीडबैक?

Related posts

Current Crime
Ghaziabad No.1 Hindi News Portal
%d bloggers like this: