Current Crime
बाजार

मिस्त्री पर एनसीएलएटी के आदेश के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट पहुंचा टाटा संस

नई दिल्ली (ईएमएस)। साइरस मिस्त्री पर नेशनल कंपनी लॉ अपीलेट ट्राइब्यूनल (एनसीएलएटी) के आदेश के खिलाफ टाटा संस ने सुप्रीम कोर्ट में अपील की है।बात दे एनसीएलएटी ने टाटा संस के चेयरमैन पद से मिस्त्री के हटाने को अवैध ठहारकर उन्हें इस पद पर फिर से बहाल करने का आदेश दिया था। 18 दिसंबर के अपने आदेश में एनसीएलएटी ने एन चंद्रशेखरन को कार्यकारी चेयरमैन बनाने के प्रबंधन के निर्णय को अवैध ठहराया था। नेशनल कंपनी लॉ अपीलेट ट्राइब्यूनल (एनसीएलएटी) ने अपने आदेश में कहा था कि साइरस को फिर से टाटा संस का एग्जीक्यूटिव चेयरमैन बना दिया जाएं।
इसके पहले नेशनल कंपनी लॉ ट्राइब्यूनल (एनसीएलएटी) की मुंबई बेंच ने मिस्त्री को हटाने के खिलाफ दायर याचिकाओं को खारिज कर दिया था। यह याचिकाएं दो निवेश फर्मों साइरस इनवेस्टमेंट प्राइवेट लिमिटेड और स्टर्लिंग इनवेस्टमेंट कॉर्प के द्वारा दाखिल की गई थीं। इसके बाद मिस्त्री ने खुद एनसीएलएटी में संपर्क किया था। मिस्त्री को अक्टूबर 2016 में टाटा संस के चेयरमैन पद से हटा दिया गया था। वह टाटा संस के छठे चेयरमैन थे। रतन टाटा की रिटायरमेंट की घोषणा के बाद वह साल 2012 में टाटा सन्स के चेयरमैन बने थे।
रतन टाटा कैंप और कंपनी बोर्ड ने दुर्व्यवहार का आरोप लगाकर साइरस मिस्त्री को बाहर कर दिया था। टाटा संस के बोर्ड ने 24 अक्टूबर, 2016 को साइरस मिस्त्री को चेयरमैन पद से हटा दिया था। इसके साथ ही उन्होंने साइरस को ग्रुप की अन्य कंपनियों से भी बाहर निकलने के लिए कहा था। इसके बाद साइरस ने ग्रुप की 6 कंपनियों के बोर्ड से अपना इस्तीफा दिया।

Related posts

Current Crime
Ghaziabad No.1 Hindi News Portal
%d bloggers like this: