सबरीमला पर पुनर्विचार याचिकाओं की सुनवाई की तिथि पर फैसला आज आईटीओ स्काईवॉक पर इश्क फरमा रहे जोड़ों की निगरानी करेगें बाउंसर्स दिल्ली हाईकोर्ट के चार जजों ने ली पद व गोपनीयता की शपथ बिना बताये घर से गये युवक का शव पेड पर लटका मिला राहुल को शोभा नहीं देता बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ अभियान का माखौल उड़ाना : भाजपा पीटने की धमकी देने वाले श्रीसंत अखाड़े में नहीं झेल सके दो वार अनावरण कार्यक्रम के लिए सीएम और राज्यपाल को दिया न्योता मुद्दों से जनता का ध्यान भटकाती है भाजपा सरकार: गहलोत पीएम मोदी फेंकू तो सीएम योगी हैं ठोकू: राज बब्बर महापुरूषों को सम्मान देकर मोदी सरकार इतिहास को ‘राइट’ कर रही : नकवी पिछली सरकार एक ही परिवार को बढ़ावा देती रही
Home / अन्य ख़बरें / सुदीप बंद्योपाध्याय की जमानत याचिका खारिज
Kolkata: Lok Sabha MP and leader of Trinamool Congress parliamentary party Sudip Bandyopadhyay comes out after appearing before CBI in connection with the Rose Valley chit fund scam in Kolkata on Jan 3, 2017. (Photo: Kuntal Chakrabarty/IANS)

सुदीप बंद्योपाध्याय की जमानत याचिका खारिज

भुवनेश्वर| यहां की एक स्थानीय अदालत ने शनिवार को तृणमूल कांग्रेस के सांसद सुदीप बंद्योपाध्याय की जमानत याचिका खारिज कर दी। सुदीप बंद्योपाध्याय को रोज वैली चिटफंड घोटाला मामले में संलिप्तता के आरोप में गिरफ्तार किया गया है।

इसी मामले में खोरधा के जिला एवं सत्र न्यायालय ने बंद्योपाध्याय की जमानत याचिका खारिज कर दी है।

केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) ने चार बार लोकसभा सदस्य रह चुके बंद्योपाध्याय को तीन जनवरी को कोलकाता से गिरफ्तार किया था। बंद्योपाध्याय को इस समय झारपाडा विशेष कारागार में रखा गया है।

तृणमूल के एक अन्य सांसद तापस पॉल भी इसी मामले में झारपाड़ा जेल में बंद हैं।

सीबीआई सूत्रों के अनुसार, रोज वैली समूह ने पश्चिम बंगाल, ओडिशा, असम, झारखंड, पंजाब, दिल्ली, राजस्थान, मध्य प्रदेश, त्रिपुरा और आंध्र प्रदेश में निवेशकों के करीब 17,000 करोड़ रुपये ठग लिए हैं।

Check Also

रेल लाइनों का विद्युतीकरण होने से हर साल होगी 13,500 करोड़ की बचत

रामेश्‍वरम (ईएमएस)। रेलवे लाइनों का विद्युतीकरण हो जाए, तो भारतीय रेलवे को हर साल 13,500 …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *