Current Crime
अन्य ख़बरें ग़ाजियाबाद दिल्ली एन.सी.आर

कश्यप जयंती पर ताकत दिखाएंगे पूर्व सांसद नरेन्द्र कश्यप

सुभाष शर्मा (वरिष्ठ संवाददाता)
गाजियाबाद। बसपा से निष्कासित होने के बाद पूर्व राज्यसभा सांसद नरेन्द्र कश्यप ने पहले तत्कालीन मुख्यमंत्री अखिलेश यादव की प्रशंसा की। इसके बाद आरक्षण मुददे को लेकर जिला मुख्यालय के सामने प्रदर्शन किया और इसमें राष्ट्रीय लोकदल के राष्ट्रीय महासचिव जयंत चौधरी और जदयू के राष्ट्रीय महासचिव केसी त्यागी को आमंत्रित किया। तभी माना जा रहा था कि नरेन्द्र कश्यप अब बसपा को खुद अलविदा कहेंगे।
इसके बाद नरेन्द्र कश्यप भाजपा में शामिल हो गए। भाजपा में शामिल होने के बाद उनके पूर्व सांसद होने को लेकर चर्चा शुरू हो गयी है। चुनावों से पहले भाजपा का दामन थामने वाले नरेन्द्र कश्यप चुनावों के तुरंत बाद वरिष्ठ भाजपा नेता हो गए। अब जो निमंत्रण पत्र उन्होंने महर्षि कश्यप जयंती को लेकर वितरित किए हैं उसमें वह पूर्व राज्यसभा सांसद भाजपा हैं। उनकी ईमेल अभी सांसद वाली ही चल रही है जबकि वह पूर्व सांसद हो चुके हैं। इसी को लेकर भ्रम की स्थिति बनी हुई है।
हालांकि भ्रम की स्थिति उनके भाजपा में आने के बाद ही बन गयी थी। भाजपा के स्टार प्रचारकों की सूचि में उनका नाम छप गया और उन्होंने इसे भी उपलब्धि के तौर पर सोशल मीडिया में बताया।
नीले से पूरी तरह भगवा हो गए नरेन्द्र कश्यप
भाजपा में आने के बाद नरेन्द्र कश्यप अब पूरी तरह भगवा हो गए हैं। कभी उनके यहां पारिवारिक समारोह में भी बसपा सुप्रिमों मायावती के फोटो लगते थे। आज जयंती के निमंत्रण पत्र से भी मायावती तो गायब हैं ही बसपा का रंग माना जाने वाला नीला रंग भी उड़ गया है। अब निमंत्रण पत्र पूरी तरह भगवा है। बहनजी के फोटो के स्थान पर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी, राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के फोटो हैं। कमल का फूल भी कार्ड पर है।
महानगर संगठन से लेकर पांचों विधायकों को लेकर भी चर्चा
नरेन्द्र कश्यप अपने को अब पूर्व राज्यसभा सांसद भाजपा बता रहे हैं। भाजपा में आने के बाद वह अपने समाज का बड़ा कार्यक्रम कर रहे है। इस कार्यक्रम में उन्होंने भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष से लेकर दो केन्द्रीय मंत्री और तीन सांसद भी बुलाए हैं। इन्हें निमंत्रण पत्र पर भी जगह दी है। खास बात यह है कि गाजियाबाद में आयोजित होने वाले इस कार्यक्रम के निमंत्रण पत्र पर महानगर अध्यक्ष अजय शर्मा का नाम भी है और राज्यमंत्री अतुल गर्ग का नाम भी है। साहिबाबाद विधायक सुनील शर्मा, लोनी विधायक नंद किशोर गुर्जर, मोदीनगर विधायक मंजू सिवाच के नाम नहीं हैं। मुरादनगर विधानसभा विधायक अजित पाल त्यागी का नाम भी मुख्य अतिथि वाली लिस्ट में नहीं है। हालाकि साहिबाबाद विधायक सुनील शर्मा मोदीनगर विधायक मंजू सिवाच, लोनी विधायक नंद किशोर गुर्जर और मुरादगनर विधायक अजितपाल त्यागी को निमंत्रण पत्र पर उनके फोटो के रूप में जरूर स्थान मिला है। चर्चा तो यहां तक है कि पहले निमत्रण पत्र में महानगर संगठन और विधायक गायब थे। बाद में दूसरे निमंत्रण पत्र में उन्हें स्थान मिला है।
जयंती के बहाने कश्यप को दिखानी होगी अपनी सामाजिक ताकत
गाजियाबाद। नरेन्द्र कश्यप पांच अप्रैल को महर्षि कश्यप जयंती के बहाने महासम्मेलन कर रहे हैं। इस सम्मेलन के बूते उन्हें भाजपा में अपना वजूद दिखाना है। सम्मेलन में ताकत का मुलाहिजा होगा। ताकत तभी मानी जाती है जब सम्मेलन में भीड़ आए और उस भीड़ को देखने के लिए दल के बड़े नेता मौजूद हों। सम्मेलन के आयोजक नरेन्द्र कश्यप ने अपील भी की है कि भारी संख्या में पहुंचे। अपने समाज के लोगों को संदेश देने के लिए उन्होंने पूर्व सांसद के साथ-साथ राष्ट्रीय अध्यक्ष आदिवासी कश्यप महरा निषाद सभा भी लिखा है। भीड़ दिखाने के लिए उन्होंने भाजपा के बड़े नेताओं को भी आमंत्रित किया है। इन नेताओं में भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष व उत्तर प्रदेश प्रभारी ओम माथुर, केन्द्रीय मंत्री संजीव बालियान, केन्द्रीय विदेश राज्य मंत्री जनरल वीके सिंह, बागपत लोकसभा सांसद सतपाल सिंह, उन्नाव के भाजपा सांसद साक्षी महाराज और आंवला लोकसभा सीट से सांसद धमेन्द्र कश्यप के अलावा मेयर अशु वर्मा को भी आमंत्रण दिया है। पहले भी नरेन्द्र कश्यप ने 17 जातियों के आरक्षण की मांग को लेकर महाकुम्भ किया था। इस बार माहौल अलग है। नरेन्द्र कश्यप सुलझे हुए नेता हैं। बेहद विनम्र रहते हैं और तब परिस्थितियां उनके प्रतिकूल थीं। अब माहौल अलग है। जिस दल में वह आएं हैं केन्द्र और प्रदेश में उन्हीं की सरकार है। अब नरेन्द्र कश्यप को अपने समाज के दम पर ताकत दिखानी है। नरेन्द्र कश्यप पहले से ही महर्षि कश्यप जयंती को बड़े स्तर पर मनाते आए हैं। पिछले साल उन्होंने अपने घर पर ही जयंती मनाई थी। जयंती के अगले दिन उनके घर पर हादसा हो गया था। जिसके बाद उनका पूरा राजनीतिक कैरियर ही दांव पर लग गया था।

Related posts

Current Crime
Ghaziabad No.1 Hindi News Portal
%d bloggers like this: