सौरभ भारद्वाज बोले, असामाजिक तत्वों को उकसाते है, जिससे वो हमला करें दिल्ली विवि में फिर से चुनाव कराने पर संशय बरकरार, हाईकोर्ट ने फैसला सुरक्षित रखा वैश्विक प्रतिभा सूची में भारत दो पायदान फिसलकर 53वें स्थान पर, स्विट्जरलैंड शीर्ष पर पीएम मोदी ने ‘कारोबार में सुगमता’ से जुड़े ग्रैंड चैलेंज का किया शुभारंभ भारत-ऑस्ट्रेलिया पहला टी20 आज, आठवीं श्रृंखला जीतने उतरेगी टीम इंडिया दोपहर 1.20 से शुरु होगा मुकाबला स्मिथ और वॉर्नर की वापसी की उम्मीदें टूटी, सीए ने प्रतिबंध बरकरार रखा मैरी कॉम सेमीफाइनल में पहुंची टीम इंडिया ने 12 खिलाड़ियों की घोषणा की धारा 144 के तहत प्रतिबंधात्मक आदेश जारी सायबर कैफे संचालकों को करना होगा आदेश का पालन हर्षिता तोमर ने मध्यप्रदेश को दिलाया स्वर्ण पदक खेल संचालक ने बधाई दी
Home / उत्तर प्रदेश / महागठबंधन में कांग्रेस का हाथ झटकने की तैयारी में सपा-बसपा?

महागठबंधन में कांग्रेस का हाथ झटकने की तैयारी में सपा-बसपा?

लखनऊ (ईएमएस)। गत दिनों पेट्रोल-डीजल की कीमतों के विरोध में कांग्रेस और विपक्षी दलों द्वारा आयोजित भारत बंद में सपा-बसपा के शामिल न होने से यह संकेत मिल रहा है कि दोनों पार्टियां अंदर ही अंदर कुछ अलग तैयारी कर रही हैं। कयास ये लग रहा है कि दोनों पार्टी आगामी लोकसभा चुनाव में कांग्रेस का हाथ झटकने की तैयारी में हैं।
अगामी लोकसभा चुनाव को लेकर पहले यह कयास लगाया जा रहा था कि उत्तरप्रदेश में सपा-बसपा का गठबंधन हो सकता है, इसमें रालोद और कांग्रेस भी शामिल होगी। मगर बंद के बाद मायावती ने पेट्रोल-डीजल की कीमतों में वृद्धि के लिए भाजपा के साथ कांग्रेस को भी जिम्मेदार ठहराया। इससे लगता है कि आपसी गठबंधन में कांग्रेस को साथ नहीं लेना चाहती है। मायावती ने कहा कि कांग्रेस ने ही यूपीए-2 के शासन काल में पेट्रोल को सरकार नियंत्रण से मुक्त कराने का फैसला था। इसके बाद केन्द्र में बनी भाजपा सरकार ने उसी आर्थिक नीति को आगे बढ़ाया, इसलिए भाजपा और कांग्रेस दोनों ही मूल्य वृद्धि के लिए जिम्मेदार है।
उत्तर प्रदेश में हुए लोकसभा उपचुनावों में सपा, बसपा, कांग्रेस और रालोद गठबंधन की जीत से स्पष्ट हुआ था कि 2019 के लोकसभा चुनावों में यही गठबंधन भाजपा को पटखनी देगा। मगर मायावती ने जिस तरह कांग्रेस को कोसा उससे बसपा का नया रुप दिखाई दिया। मायावती के बयान के बाद राहुल गांधी खुलकर विपक्षी गठबंधन की पैरवी कर रहे हैं। मगर सपा-बसपा की योजना में कांग्रेस फिट नहीं बैठ रही है और कांग्रेस से दूरी बनाने के पक्ष में हैं। सपा-बसपा उत्तर प्रदेश की अधिकांश सीटों पर खुद चुनाव लड़ना चाहती है और कांग्रेस को 5-7 सीटें देने के पक्ष में है।

Check Also

सरकार में हिम्मत है तो मुझे गिरफ्तार करके बताए पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने कहा

भोपाल (ईएमएस)। प्रदेश की भाजपा सरकार पर निशाना साधते हुए प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *