Current Crime
देश

11 राज्यों में कोरोनावायरस के डेल्‍टा प्‍लस वेरिएंट के अब तक 48 केस मिले

नई दिल्ली । देश के 11 राज्यों में अब तक कोरोनावायरस के डेल्‍टा प्‍लेस वेरिएंट के अब तक 48 केस मिले हैं, इसमें सबसे ज्‍यादा केस महाराष्‍ट्र (20) में रिकॉर्ड हुए हैं। तमिलनाडु में 9 और मध्‍यप्रदेश में 7 केस मिले हैं। जबकि केरल में यह संख्‍या तीन है। पंजाब और गुजरात में डेल्‍टा वेरिएंट के दो-दो केस हैं। आंध्रप्रदेश, ओडिशा, राजस्‍थान, कर्नाटक और जम्‍मू में इस वेरिएंट का एक-एक केस है। ज्ञात रहे कि दो दिन पहले सरकार ने डेल्‍टा प्‍लस के देश में 40 केस होने की जानकारी दी थी। हालांकि सरकार ने कहा कि इस बार वेरिएंट का प्रसार अभी तक ‘स्‍थानीय स्‍तर पर’ ही है।
डेल्टा प्लस को स्‍वास्‍थ्‍य मंत्रालय ने हाल ही में ‘वेरिएंट ऑफ कंसर्न’ माना है। एनसीडीसी डायरेक्टर, सुजीत सिंह ने इस दौरान बताया कि 28 लैब्स में जेनोमिक वेरिएशन को अध्यन किया जाता है। सिक्वेंसिंग में विदेश से आये लोगों की सैंपल जांच किये जाते हैं। कम्युनिटी सर्विलेंस किया जाता है जिससे कि वायरस का स्प्रेड पता किया जाता है।
इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च के डीजी डॉ। बलराम भार्गव ने कहा, ’10 दिनों में पता लग जायेगा कि डेल्टा प्लस पर वैक्सीन कितनी कारगर है। डेल्टा वैरिएंट में म्युटेशन प्रेशर से भी होता है और उसे ज्यादा बेहतर माहौल मिलने से होता है। क्लस्टर में वायरस फैलने से ज्यादा फैलेगा, इसका खतरा रहता है।’ उन्‍होंने कहा कि डेल्टा वैरिएंट 80 देशों में है इसके 3 उप प्रकार हैं। 16 देशों में 25% से ज्यादा मामले डेल्टा वैरिएंट के हैं। उन्‍होंने कहा कि अप्रैल-जून 2021 से डेल्टा-डेल्टा प्लस वैरिएंट का कल्चर टेस्ट हो रहा है। वैरिएंट से पब्लिक हेल्थ बहुत चेंज नहीं होती। कुछ वायरस इंफेक्शन ज्यादा फैला देते हैं। इस पर भी अध्ययन चल रहा है कि वैरिएंट के कारण वैक्सीन को भी मॉडिफाई किया जाएं। उन्‍होंने कहा कि सेकंड वेव खत्म नहीं हुई है, 92 जिलो में 5 से 10% पॉजिटिविटी है। डॉ। भार्गव ने कहा कि सितंबर तक बच्‍चों पर वैक्सीन पर फैसला हो जाएगा, इसका ट्रायल चल रहा है।
उन्‍होंने बताया कि गर्भवती महिलाएं भी कोरोना वैक्सीन लगवा सकती हैं।

Related posts

Current Crime
Ghaziabad No.1 Hindi News Portal
%d bloggers like this: