अटल जी हमेशा हमारे दिलों में रहेंगे: रीना भाटी, यादव वैवाहिक परिचय सम्मेलन के कार्यालय का हुआ उद्घाटन, क्यों आ रही है भाजपा के क्षेत्रीय कार्यालय से आवाजमानसिंह गोस्वामी ने अपना रिपीट वाला पन्ना खुलने से पहले ही बंद कर दिया, किस्सा आठ लाख के लोन का: सपा नेता को घुमा दिया बैंक वालों ने, लेखराज माहौर का अध्यक्ष बनने का सपना हुआ चकनाचूर, क्या कुसुम और अनीता में से बनेगी कोई एक भाजपा महिला मोर्चा अध्यक्ष, सुल्लामल रामलीला कमेटी में आ गया फैसला, हो गया कमाल भाजपा महानगर कार्यालय के बाहर तख्त डालकर हुई बूथ समीक्षा, तुराबनगर की मार्केट में पहुंचे दो हजार के नकली नोट, करंट क्राइम ने दिया करंट खंभा लग गया तुरंत,
Home / अन्य ख़बरें / सिद्धू के कांग्रेस में जाने से चुनाव पर कोई असर नहीं : केजरीवाल

सिद्धू के कांग्रेस में जाने से चुनाव पर कोई असर नहीं : केजरीवाल

चंडीगढ़| दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने मंगलवार को इस आरोप को खारिज किया कि वह मतदाताओं से पंजाब और गोवा में अन्य पार्टियों से पैसा लेने लेकिन वोट आम आदमी पार्टी को देने का आग्रह कर रिश्वतखोरी को बढ़ावा दे रहे हैं। आम आदमी पार्टी (आप) नेता ने चंडीगढ़ में मीडिया से बातचीत में यह भी कहा कि नवजोत सिंह सिद्धू के कांग्रेस में शामिल होने के फैसले से पंजाब विधानसभा चुनाव पर कोई असर नहीं पड़ेगा।

निर्वाचन आयोग ने केजरीवाल को एक नोटिस भेजकर जवाब देने को कहा है क्योंकि उन्होंने गोवा के मतदाताओं से अन्य राजनीतिक दलों से पैसे लेने, लेकिन वोट आप को देने को कहा था। भाजपा ने इस बारे में शिकायत दर्ज कराई थी।

केजरीवाल ने कहा कि 2015 दिल्ली विधानसभा चुनाव से पहले भी उन पर ऐसे ही आरोप लगाए गए थे, लेकिन अदालत ने उनके पक्ष में यह कहते हुए फैसला दिया था कि वह रिश्वतखोरी को बढ़ावा नहीं दे रहे हैं।

केजरीवाल ने साथ ही कहा कि सिद्धू के कांग्रेस में शामिल होने से पंजाब चुनाव के नतीजों पर कोई फर्क नहीं पड़ेगा।

कांग्रेस में शामिल होने से पहले सिद्धू के आप में शामिल होने के अनुमान लगाए गए थे।

आप नेता ने कहा, “सिद्धू अपना महत्व खो चुके हैं।”

केजरीवाल ने साथ ही दोहराया कि अकाली विरोधी वोट काटने और पंजाब के मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल की मदद के लिए पंजाब कांग्रेस प्रमुख कैप्टन अमरिंदर सिंह ने लांबी से चुनाव लड़ने का फैसला किया है।

प्रकाश सिंह बादल लांबी से चुनाव लड़ रहे हैं।

उन्होंने कहा, “लांबी में हमारे उम्मीदवार जरनैल सिंह का प्रचार अभियान शानदार चल रहा था। इसलिए बादल ने अमरिंदर से लांबी से चुनाव लड़ने का आग्रह किया ताकि अकाली विरोधी वोट बंट जाएं।”

केजरीवाल ने कहा कि अकाली नेताओं को राजनीतिक रूप से ही हराना जरूरी नहीं है, बल्कि उन्हें उनके अपराधों की सजा देना भी जरूरी है।

Check Also

किस्सा आठ लाख के लोन का: सपा नेता को घुमा दिया बैंक वालों ने

Share this on WhatsAppप्रमुख संवाददाता (करंट क्राइम) गाजियाबाद। अगर आपने किसी प्राइवेट या सरकारी बैंक …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *