पुलिस प्रशासनिक अधिकारियों ने तैयार किया मसौदा, एसपी सिटी के निलंबन के खिलाफ अधिवक्ताओं ने शुरू की भूख हड़ताल, एनडीआरएफ में मनाया गया सद्भावना दिवस, तुराबनगर व्यापार मंडल की नई कमेटी गठित, कहां चला गया भाजपा के पुराने महानगर कार्यालय का एसी, जीडीए मुखिया के आदेशों अवहेलना कर रहे हैं संपत्ति अधिकारी, भाजपा के बैनर पर नहीं होगा, स्व. अटल जी का श्रद्धाजंलि कार्यक्रम, जनरल को मिले लक्ष्मण, विरोधियों की बढ़ेगी टेंशन, एक ही रात में सरक गई छाबड़ा के पैरों तले जमीन, जनपद में धारा-144 हुई लागू,
Home / अन्य ख़बरें / ममता ने एच-1बी वीजा पर चिंता जाहिर की

ममता ने एच-1बी वीजा पर चिंता जाहिर की

कोलकाता| पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने गुरुवार को अमेरिकी एच-1बी वीजा के मुद्दे पर चिंता जाहिर की। उन्होंने आईटी कंपनियों और पेशवरों को संरक्षण का दिए जाने की बात कही। ममता ने ट्वीट किया, “खबर एच-1बी वीजा से जुड़ी है। हमें अपनी आईटी कंपनियों और पेशवरों की रक्षा और उन्हें पूरा समर्थन देना चाहिए।”

ममता ने यह भी कहा, “भारत को अपने आईटी तकनीकी विशेषज्ञों की विश्व स्तरीय प्रतिभा पर गर्व है। उनके हितों की रक्षा करना हमारा कर्तव्य है।”

केंद्र सरकार पहले ही अपनी चिंता से अमेरिका को अवगत करा चुका है। अमेरिकी कांग्रेस में एच-1बी वीजा से जुड़े नियमों में बदलाव के लिए एक विधेयक लाया गया है। इससे भारतीय आईटी उद्योग और अमेरिका में काम कर रहे भारतीय तकनीकी विशेषज्ञों पर असर पड़ने की संभावना है।

कैलिफोर्निया के कांग्रेस सदस्य लोफग्रेन ने प्रतिनिधि सभा में हाई स्किल्ड इंटीग्रिटी एंड फेयरनेस एक्ट 2017 को पेश किया। इसमें एच-1बी वीजा धारकों के वेतन को दोगुना 130,000 डॉलर करने का प्रस्ताव किया गया। मौजूदा समय में यह राशि 60,000 डॉलर है। इससे भारतीय तकनीकी विशेषज्ञों पर असर पड़ सकता है।

इस विधेयक से कंपनियों को अमेरिकी कर्मचारियों की जगह भारतीय सहित विदेशी श्रमिकों के कम वेतन पर रखे जाने में मुश्किल आएगी।

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता विकास स्वरूप ने कहा, “भारत के हितों और चिंताओं को अमेरिकी प्रशासन और वरिष्ठ स्तर पर अमेरिकी कांग्रेस दोनों को अवगत करा दिया गया है।”

Check Also

कहां चला गया भाजपा के पुराने महानगर कार्यालय का एसी

Share this on WhatsAppवरिष्ठ संवाददाता (करंट क्राइम) गाजियाबाद। सरकार आने के बाद गाजियाबाद का भाजपा …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *