Current Crime
विदेश

अपनी सेना के समर्पण की तस्वीर देख पाकिस्तान बौखलाया, अफगानिस्तान को सुनाई खरी-खोटी

इस्लामाबाद । जंग से जूझ रहे अफगानिस्तान के अपने पड़ोसी मुल्क पाकिस्तान से चल रही तनातनी के बीच वाकयुद्ध थमने का नाम नहीं ले रहा। पाकिस्तान के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार डॉ. मोईद यूसुफ ने कहा कि काबुल रोज-ब-रोज अपने वरिष्ठ अधिकारियों के “मूर्खतापूर्ण बयानों” से शर्मिंदा हो रहा है। इससे द्विपक्षीय संबंध खराब हो रहे हैं। इससे पहले अफगानिस्तान के राष्ट्रपति अशरफ गनी ने तालिबान को उकसाने के लिए पाकिस्तान को फटकार लगाई थी।
अशरफ गनी ने कहा था कि पिछले महीने 10,000 ‘जिहादी’ लड़ाके पाकिस्तान से अफगानिस्तान में दाखिल हुए हैं। जबकि इमरान खान के नेतृत्व वाली पाकिस्तान सरकार तालिबान को चल रही शांति वार्ता में “गंभीरता से बातचीत” करने के लिए मनाने में विफल रही है। इस पर पाकिस्तान के पीएम इमरान खान उखड़ गए और कहा कि अफगानिस्तान में अशांति का सबसे ज्यादा खामियाजा पाकिस्तान को भुगतना पड़ा है।
अब अफगानिस्तान के पहले उप राष्ट्रपति अमरुल्ला सालेह के तंज पर पाकिस्तान तमतमा गया है। पाकिस्तान के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार डॉ. मोईद यूसुफ ने गुरुवार को कहा कि इस्लामाबाद अफगान शांति के लिए प्रतिबद्ध है और अफगानिस्तान में कुछ खेल बिगाड़ने वालों का मूर्खतापूर्ण बयान युद्धग्रस्त राष्ट्र की शांति और स्थिरता के लिए उसके समर्थन को प्रभावित नहीं करेगा। डॉ. मोईद यूसुफ की टिप्पणी अफगानिस्तान के पहले उप राष्ट्रपति अमरुल्ला सालेह के एक हालिया ट्वीट के संदर्भ में थी, जिन्होंने 1971 की जंग के बाद भारत के सामने पाकिस्तानी सेना के सरेंडर की एक तस्वीर शेयर करते हुए कैप्शन में लिखा था कि पाकिस्तान तालिबान और आतंकवाद के जरिए अपने इस आघात को नहीं भर पाएगा।
पहले उप राष्ट्रपति अमरुल्ला सालेह के ट्वीट के जवाब में डॉ. मोईद यूसुफ ने सिलसिलेवार ट्वीट किया, ‘इन मूर्खतापूर्ण बयानों के कारण अफगानिस्तान को रोजाना शर्मिंदा किया जा रहा है। अफगानों को निश्चिंत होना चाहिए कि हर कोई इन खेल बिगाड़ने वालों के नापाक एजेंडे को देख सकता है। हम शांति और स्थिरता के लिए सभी अफगानों को पाकिस्तान के समर्थन को प्रभावित करने वाले मुट्ठी भर जहरीले दिमागों वालों को इसकी इजाजत नहीं देंगे।’

Related posts

Current Crime
Ghaziabad No.1 Hindi News Portal
%d bloggers like this: