गुजरात में सरदार वल्लभ भाई की प्रतिमा बनकर तैयार – प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी 31 अक्टूबर को करेंगे लोकार्पण

0
72

वडोदरा (ईएमएस)। गुजरात के वडोदरा में सरदार वल्लभ भाई पटेल की प्रतिमा ‘स्टैचू ऑफ यूनिटी’ बनकर लगभग तैयार है। बताया जा रहा है कि दुनिया की इस सबसे ऊंची प्रतिमा का प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी 31 अक्टूबर को लोकार्पण करेंगे। हालांकि इस बीच सरदार पटेल की इस प्रतिमा को मेड इन चाइना बताकर विपक्ष लगातार केंद्र सरकार को घेरने में भी जुटा है। हालांकि निर्माण से जुड़े अधिकारियों के मुताबिक चीनी फर्म ने सिर्फ इसके आवरण को तैयार करने का काम किया है जो कि ब्रॉन्ज शीट (कांस्य) से बना है। दरअसल, 182 मीटर ऊंची यह प्रतिमा भारत के लौहपुरुष सरदार वल्लभभाई पटेल की है जिसे ‘स्टैचू ऑफ यूनिटी’ का नाम दिया गया है। इस स्टैचू का आइडिया प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को तब आया था, जब वह गुजरात के मुख्यमंत्री थे।
6 अक्टूबर 2010 को मोदी ने घोषणा की थी कि गुजरात के 50 साल पूरे होने पर इस प्रतिमा का निर्माण नर्मदा नदी में सरदार सरोवर बांध के पास साधु बेट पहाड़ी पर किया जाएगा। मोदी ने कहा था कि भारत के लौहपुरुष के कद के अनुरूप ही उनकी प्रतिमा भी विश्वस्तरीय होगी। यह प्रतिमा ‘स्टैचू ऑफ लिबर्टी’ की ऊंचाई से दोगुनी और रियो डी जनेरो में ‘क्राइस्ट द रिडीमर’ से चार गुनी होगी। न्यू यॉर्क शहर की पहचान ‘स्टैचू ऑफ लिबर्टी’ की ऊंचाई 93 मीटर है, जबकि रियो डी जेनेरो की ‘क्राइस्ट द रिडीमर’ प्रतिमा 38 मीटर ऊंची है। अब मूर्ति लगभग पूरी हो चुकी है और इसका लोकार्पण 31 अक्टूबर को सरदार पटेल की जयंती पर किया जाएगा। ऐसे में राजनीतिक पंडितों का मानना है कि आने वाले आम चुनावों में यह सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी के लिए बेहद मददगार साबित हो सकता है। पिछले कुछ समय से आर्थिक और सामाजिक मोर्चे पर बीजेपी की आलोचना की जाती रही है।