सबरीमला पर पुनर्विचार याचिकाओं की सुनवाई की तिथि पर फैसला आज आईटीओ स्काईवॉक पर इश्क फरमा रहे जोड़ों की निगरानी करेगें बाउंसर्स दिल्ली हाईकोर्ट के चार जजों ने ली पद व गोपनीयता की शपथ बिना बताये घर से गये युवक का शव पेड पर लटका मिला राहुल को शोभा नहीं देता बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ अभियान का माखौल उड़ाना : भाजपा पीटने की धमकी देने वाले श्रीसंत अखाड़े में नहीं झेल सके दो वार अनावरण कार्यक्रम के लिए सीएम और राज्यपाल को दिया न्योता मुद्दों से जनता का ध्यान भटकाती है भाजपा सरकार: गहलोत पीएम मोदी फेंकू तो सीएम योगी हैं ठोकू: राज बब्बर महापुरूषों को सम्मान देकर मोदी सरकार इतिहास को ‘राइट’ कर रही : नकवी पिछली सरकार एक ही परिवार को बढ़ावा देती रही
Home / अन्य ख़बरें / संजयनगर रामलीला विवाद में नया मोड़कोई गड़बड़ी नहीं हुई,दोबारा चुनाव को तैयार: संजीव चौधरी

संजयनगर रामलीला विवाद में नया मोड़कोई गड़बड़ी नहीं हुई,दोबारा चुनाव को तैयार: संजीव चौधरी

संजयनगर रामलीला विवाद में नया मोड़कोई गड़बड़ी नहीं हुई,दोबारा चुनाव को तैयार: संजीव चौधरी
करंट क्राइम

गाजियाबाद। संजय नगर रामलीला के विवाद में बुधवार को उस समय नया मोड़ आ गया जब नवनिर्वाचित अध्यक्ष संजीव चौधरी ने अपना पक्ष रखते हुए दावा किया कि चुनाव में किसी तरह की गड़बड़ी नहीं हुई और किसी भी नियम-कानून का उल्लंघन नहीं किया गया है।
उन्होंने कहा कि कुछ लोगों ने हार की बौखलाहट में आकर मनमानी तरीके से चयन प्रक्रिया पर सवाल उठाए हैं, जो किसी भी सूरत में सही नहीं हैं। उन्होंने कहा कि यदि किसी भी तरीके की शंका है तो वह दोबारा चुनाव कराने के लिए तैयार हैं। बुधवार को आयोजित प्रेसा वार्ता मेंश्री आदर्श धार्मिक रामलीला कमेटी संजयनगर में वर्तमान पदाधिकारियों के चयन पर दूसरे पक्ष द्वारा लगाए गए आरोपों पर नवनिर्वाचित अध्यक्ष संजीव चौधरी ने अपना पक्ष रखते हुए कहा कि अगर किसी को कोई आपत्ति है तो वह फिर से चुनाव कराने को तैयार हैं। उन्होंने पूर्व अध्यक्ष मुकेश त्यागी पर आरोप लगाते हुए कहा कि वह खुद अध्यक्ष बनने के चक्कर में विवाद उत्पन्न कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि मुकेश त्यागी ने स्वयं अपना नाम चुनाव के समय वापस लिया था, इस बारे में उन्होंने शपथ पत्र भी कमेटी के समक्ष प्रस्तुत किया था। उन्होंने कमेटी पर लगे आरोपों पर कहा कि यह बयान मीडिया में उनके द्वारा जारी नहीं किया गया था, उन्हें बदनाम करने के लिए यह साजिश की गई थी। कमेटी में सात से आठ लाख रुपया चंदे के रूप में इकट्ठा होता है। चंदे की राशि का आडिट करने के बाद उसे आम सभा में प्रस्तुत किया गया था। जो लोग इसका विरोध कर रहे हैं उन्हीं लोगों ने ही इस लेखा-जोखा को पास किया गया था। अगर कोई अनियमितता थी तो तभी इस पर विरोध दर्ज क्यों नहीं कराया गया। अध्यक्ष संजीव चौधरी ने कहा कि दूसरे पक्ष के मुकेश, अशोक चांदवाल,विरेन्द्र बाबू द्वारा मुकेश त्यागी को अध्यक्ष न बनाए जाने पर रामलीला न होने देने की चेतावनी दी जा रही है। वर्तमान कमेटी हर तरह की जांच कराने के लिए तैयार है। प्रशासन भी इस मामले में जांच कर सकता है।
दोबारा चुनाव कराने के लिए कमेटी के सभी पदाधिकारी तैयार हैं। चुनाव होने के बाद 11 में से दो लोगों ने सिर्फ इस पर असहमति जताई थी। बाकी सभी का चयन बहुमत के आधार पर हुआ था। उन्होंने बताया कि गत 4 अगस्त की बैठक में तय चुनाव समिति द्वारा गत 6 अगस्त को चुनावी कार्यवाही की गई। चुनाव समिति के निर्देशानुसार प्रत्याशियों ने अपने-अपने नामांकन निर्धारित राशि के साथ भरे जिसमें अध्यक्ष पद के लिए मुकेश कुमार त्यागी,संजीव चौधरी, प्रदीप चौधरी और पवन शर्मा ने नामांकन पत्र भरे। महामंत्री पद के लिए मनोज गर्ग और राजेश कुमार शर्मा ने पर्चा भरा और कोषाध्यक्ष पद के लिए प्रमोद रावत और अनुज कुमार त्यागी ने नामांकन पत्र भरा था। इनमें संजीव चौधरी को अध्यक्ष पद, मनोज वर्मा को महामंत्री और प्रमोद रावत को कोषाध्यक्ष पद के लिए बहुमत के आधार पर चुना गया। इससे यह स्पष्ट होता है कि चुनाव में किसी भी प्रकार की धांधली नहीं की गई। दूसरे पक्ष द्वारा लगाए गए रसीद गायब करने के आरोपों को भी बेबुनियाद करार दिया कि 74 नंबर तक की सभी रसीदों का हिसाब उनके पास है। 75 नंबर रसीद बुक को दूसरे पक्ष द्वारा ही गायब कर उन्हें बदनाम करने का प्रयास किया जा रहा है।दूसरा पक्ष ऐसे लोगों को कमेटी का सदस्य बता रहा है जो इसमें शामिल ही नहीं हैं। उन्होंने कहा कि दूसरे पक्ष ने दस वर्ष की सदस्यता का सवाल उठाया है जबकि कमेटी में ऐसा कोई नियम नहंीं है और पूर्व में भी कई पदाधिकारी इससे कम वर्ष की सदस्यता वाले चुनाव जीत चुके हैं, उसके प्रमाण उनके पास हैं। इस अवसर पर महामंत्री मनोज वर्मा, कोषाध्यक्ष प्रमोद रावत, राजकुमार शर्मा, किरणपाल तेवतिया,कौशल शर्मा, संतराम शर्मा, हरीश शर्मा,राकेश त्यागी, सुभाष गुप्ता, राजीव कुमार, मोहनसिंह रावत, ब्रजमोहन शर्मा, डीपी यादव, अरुण चौधरी, सत्यपाल चौधरी आदि पदाधिकारी व कार्यकर्ता उपस्थित रहे।

Check Also

डेंगू का लार्वा मिलने पर 2 संस्थानों के खिलाफ रिपोर्ट

नई दिल्ली (ईएमएस)। दिल्ली की जनता को डेंगू के प्रति जागरूक करते-करते सरकारी संस्थान खुद …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *