सबरीमला पर पुनर्विचार याचिकाओं की सुनवाई की तिथि पर फैसला आज आईटीओ स्काईवॉक पर इश्क फरमा रहे जोड़ों की निगरानी करेगें बाउंसर्स दिल्ली हाईकोर्ट के चार जजों ने ली पद व गोपनीयता की शपथ बिना बताये घर से गये युवक का शव पेड पर लटका मिला राहुल को शोभा नहीं देता बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ अभियान का माखौल उड़ाना : भाजपा पीटने की धमकी देने वाले श्रीसंत अखाड़े में नहीं झेल सके दो वार अनावरण कार्यक्रम के लिए सीएम और राज्यपाल को दिया न्योता मुद्दों से जनता का ध्यान भटकाती है भाजपा सरकार: गहलोत पीएम मोदी फेंकू तो सीएम योगी हैं ठोकू: राज बब्बर महापुरूषों को सम्मान देकर मोदी सरकार इतिहास को ‘राइट’ कर रही : नकवी पिछली सरकार एक ही परिवार को बढ़ावा देती रही
Home / अन्य ख़बरें / जीडीए बोर्ड चुनाव में सचिन डागर का जलवा

जीडीए बोर्ड चुनाव में सचिन डागर का जलवा

गाजियाबाद (करंट क्राइम)। भाजपा के वॉर्ड 60 से पार्षद सचिन डागर जीडीए बोर्ड चुनाव में जीतने वाले सबसे बड़े हीरो साबित हुए। उन्होंने सबसे ज्यादा वोट लेकर जीत का इतिहास रच दिया। भाजपा को यहां जीतने के लिए 25 वोट चाहिए थे। भाजपा ने यहां अपने तीनों उम्मीदवारों को पैनल के हिसाब से 21-21 वोट दे दिए थे और चार वोट का जुगाड़ चुनाव लड़ने वाले को करना था। सचिन डागर इस मामले में जीत के नायक बन गए। उन्होंने 25 नहीं बल्कि 27 वोट हासिल किए और इस तरह सर्वाधिक वोट लेकर जीडीए बोर्ड सदस्य बने। जबकि भाजपा के ही हिमांशु मित्तल 22 और कृष्णा त्यागी को 22 वोट मिले।
सचिन डागर को पहले से ही साहिबाबाद विधायक सुनील शर्मा का उम्मीदवार माना जा रहा था। इसमें कोई शक भी नहीं है, क्योंकि वह सुनील शर्मा के ही शिष्य माने जाते हंै। यहां शिष्य ने गुरु का मान रखा है। सुनील शर्मा भी देश की सबसे बड़ी विधानसभा साहिबाबाद से सर्वाधिक वोटों से चुनाव जीतकर विधायक बने हैं। गुरु के पदचिन्हों पर चलते हुए उनके शिष्य सचिन डागर ने भी उनका नाम रोशन किया है और सर्वाधिक वोट हासिल कर अपना लोहा मनवा लिया। सचिन डागर को शुरू से ही जीत वाला उम्मीदवार माना जा रहा था। उन्हें पहले भी मौका नहीं मिला था वरना यह जीत तो उसी समय आ जाती। इस बार जब सचिन डागर को भाजपा ने मौका दिया तो उन्होंने अपने आप को साबित कर दिया। साहिबाबाद विधायक सुनील शर्मा का आशीर्वाद पूरी तरह सचिन डागर के लिए गुडलक साबित हुआ। सचिन डागर को भाजपा का कर्मठ कार्यकर्ता माना जाता है। अपने वॉर्ड में उनका खासा जनाधार है और अपने व्यवहार तथा कर्मठता के कारण उन्हें भाजपा के बड़े नेताओं का आशीर्वाद भी प्राप्त है। अब जब सचिन डागर जैसे चेहरे सर्वाधिक वोटों से चुनाव जीतकर जीडीए बोर्ड में पहुंचेंगे तो निश्चित रूप से महानगर की विकास योजनाओं में उनके विजन की झलक दिखाई देगी।

Check Also

स्वास्थ्य मंत्री अश्विनी चौबे ने डेंटल सर्जनों को किया सम्मानित

नई दिल्ली (ईएमएस)। केन्द्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण राज्यमंत्री अश्विनी कुमार चौबे ने आज लेडी …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *