अब रोबोट करेगा रीढ़ की सर्जरी

0
34

नईदिल्ली (ईएमएस)| राजधानी दिल्ली स्थित इंडियन स्पाइन इंजरी सेंटर में रीढ़ की बीमारियों के लिए रोबोटिक सर्जरी की सुविधा शुरू हुई है। यह उत्तर भारत का पहला अस्पताल है, जहां यह सुविधा शुरू हुई है। बुधवार को अस्पताल में इस सुविधा का औपचारिक उद्घाटन किया गया। अभी तक 5 मरीजों की रीढ़ की रोबोट से सफल सर्जरी की गई। दिल्ली की रहने वाली प्रीति पांडेय (33) रीढ़ की हड्डी में टेढ़ापन और पैरों में गंभीर कमजोरी के साथ कमर की विकलांगता की समस्या से परेशान थी। इनका 8 जुलाई को एडवांस रोबोटिक सिस्टम के मदद से ऑपरेशन किया है। उन्होंने कहा कि मैं रोबोट का नाम सुनकर घबरा गई थी लेकिन सर्जरी सफल रही। रोबोट की मदद से स्पाइन कैंसर की सर्जरी भी आसानी से हो सकेगी। इसमें रोबोट को हड्डी में 1.6 मिमी का गड्ढा करना है तो भी डॉक्टर के आदेश पर रोबोट उसे आसानी से कर देगा।
– संक्रमण का खतरा होगा कम
अस्पताल के मेडिकल डायरेक्टर डॉक्टर एच.एस छाबड़ा का कहना है कि रोबोटिक सर्जरी में सर्जन बेहद मामूली सा चीरा लगाकर सर्जरी को अंजाम देते हैं। इससे ऑपरेशन में होने वाली ब्लीडिंग बहुत कम होती है और ऐसे में उनकी रिकवरी तेज होती है और अस्पताल में कम समय के लिए रुकना पडता है। इसके अलावा यह ज्यादा सटीक होती है। उन्होंने बताया कि रीढ़ में स्क्रू लगाते वक्त बेहद सावधानी बरतनी पड़ती है। छोटी सी गलती भी व्यक्ति को जिंदगी भर के लिए अपंग कर सकती है। रीढ़ की सर्जरी में सटीकता बेहद जरूरी है। रियल टाइम में तस्वीरें देख सकते हैं सर्जन यह तकनीक से रीढ़ में स्क्रू डालते समय सर्जन रियल टाइम में उसकी तस्वीरें देख सकते हैं। इससे सर्जरी में बेहद कम समय लगता है। कम्युटराइज्ड टोमोग्राफी स्कैन सीटी स्कैन की तस्वीरें इस्तेमाल कर सर्जरी से पहले ही एक ब्लू प्रिंट तैयार करने में सहायक होती है। इन तस्वीरोँ को एक कम्प्युटराइज्ड 3डी प्लानिंग सिस्टम में लोड किया जाता है। ऑपरेशन कक्ष में यह सिस्टम उनके स्क्रू और उपकरण को को स्पाइनल इम्प्लांट के प्लेसमेंट सम्बंधी पूर्व योजना के हिसाब से गाइड करता रहता है।