साढ़े नौ घंटे से ज्यादा बैठे रहना मौत का खतरा

0
73

लंदन (ईएमएस)। एक दिन साढ़े नौ घंटे से ज्यादा बैठे रहना आपके लिए मौत के खतरे को बढ़ाता है। यह कहना है ब्रिटेन के शोधकर्ताओं का। इसके लिए यह जरुरी नहीं है कि आप जिम जाएं। आप घर पर भी सिर्फ ऐक्टिव रहकर मौत के खतरे को कम कर सकते हैं। ताजा अध्ययन के मुताबिक एक दिन साढ़े नौ घंटे से ज्यादा बैठना मौत के खतरे को बढ़ाना है। फिजिकल ऐक्टिविटी को लंबी उम्र से जोड़कर पहले भी कई बार देखा गया है लेकिन इस रीसर्च में इसकी इंटेसिटी को देखा गया। इसमें हल्की-फुल्की ऐक्टिविटीज जैसे टहलना, डिनर बनाना, बर्तन धोना, ब्रिस्क वॉक, क्लीनिंग जॉगिंग, भारी सामान उठाना जैसी इंटेंस ऐक्टिविटीज की तुलना की गई। इस रिसर्च में 36383 लोगों ने हिस्सा लिया जिनकी 40 और इससे ज्यादा थी। उन्हें 5.8 साल तक फॉलो किया गया। शोधकर्ताओं का कहना है कि पब्लिक हेल्थ का मेसेज साधारण शब्दों में इतना होना चाहिए, ‘कम बैठे और ज्यादा से ज्यादा चलें-फिरें।’ इसलिए कहा जा सकता है कि आप कितनी तेजी से फिजिकल ऐक्टिविटी करते हैं इससे फर्क नहीं पड़ता। जरूरी नहीं है कि आप एक दिन में दो बार जिम जाएं। किसी भी तरह की फिजिकल ऐक्टिविटी आपकी उम्र बढ़ा सकती है।पता चला कि किसी भी तरह की फिजिकल ऐक्टिविटी चाहे इसकी तीव्रता जितनी भी हो, वह मौत के खतरे को कम करती है। मौत का खतरा जिनमें सबसे कम देखा गया वे सबसे ज्यादा और सब कम ऐक्टिव लोगों के बीच के लोग थे।