यूपीआई फर्जीवाड़े को लेकर रिजर्व बैंक ने बैंकों किया सचेत

0
40

मुंबई (ईएमएस)। डिजिटल लेनदेन के दौर में बढ़ रहे फर्जीवाड़े को लेकर भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) ने बैंकों को सचेत किया है। यूपीआई के द्वारा ग्राहकों के बैंक खातों से पैसे उड़ाए जा सकते हैं। जालसाज बेहद आसान तरीके फर्जीवाड़े को अंजाम दे सकते हैं। इस तरीके में जालसाज पीड़ित को एक ऐप एनीडेस्क डाउनलोड करने के लिए भेजता है। इसके बाद हैकर्स पीड़ित के मोबाइल पर आए नौ डिजिट कोड के जरिये उसके फोन को रिमोट पर ले लेता है। आरबीआई ने एडवाइजरी में कहा, जैसे ही जालसाज इस ऐप कोड को अपने मोबाइल फोन में डालता है, वह पीड़ित से कुछ परमिशन मांगता है, जैसा कि अन्य ऐप को डाउनलोड करने के बाद होता है। इससे जालसाज की पीड़ित के मोबाइल फोन तक पहुंच बन जाती है और वह गलत तरीके से ट्रांजैक्शंस को अंजाम देता है। आरबीआई के मुताबिक, फर्जीवाड़े के इस तरीके का इस्तेमाल यूपीआई या वॉलेट जैसे पेमेंट से संबंधित किसी भी मोबाइल बैंकिंग ऐप के जरिये ट्रांजैक्शंस के लिए किया जा सकता है।