‘अमरपाल शर्मा पर रासुका न लगाई जाए’

0
20

गाजियाबाद (करंट क्राइम)। अखिल भारतवर्षीय ब्राह्मण महासभा ने मुख्यमंत्री ने साहिबाबाद के पूर्व विधायक अमर पाल शर्मा के खिलाफ संभावित रासुका की कार्यवाही को वापस लिया जाए। महासभा ने कहा कि अमर पाल शर्मा के खिलाफ लगने वाली रासकुा की कार्यवाही से क्षेत्रीय लोगों में जबर्दस्त आक्रोश है।
अखिल भारतवर्षीय ब्राह्मण महासभा ने मुख्यमंत्री को पे्रषित ज्ञापन जिलाधिकारी को सौंपते हुए आरोप लगाया कि पं. अमरपाल शर्मा को सोची-समझी साजिश के तहत झूठे मुकदमें में फंसाया जा रहा है। श्री शर्मा पिछल्ले 18 अक्टूबर 2017 से जेल में बंद हैं। ज्ञापन में कहा कि अब चर्चा है कि अमर पाल शर्मा पर रासुका ोिपी जा रही है,इससे क्षेत्रीय लोगों में काफी रोष है। महासभा ने अपने ज्ञापन में कहा कि पं. अमर पाल शर्मा अपने गरीब लड़कियों की शादी करवाना, रक्तदान आयोजित कराना, फ्री हेल्थ चेकअप कैम्प आयोजित कराना, विधवाओं को पेंशन दिलवाना,अमरनाथ यात्रियों के लिए कश्मीर में भंडारा लगवाना,महापुरुषों की जयंतियां धूमधाम से मनवाना, गरीब असहाय बच्चों की निशुल्क शिक्षा करवाना जैसे सामाजिक कार्यों से प्रदेश की सबसे बड़ी विधानसभा सीट साहिबाबाद में सबसे अधिक लोकप्रिय नेता है। महासभा ने बताया कि पं. अमरपाल शर्मा को 2016 में प्रदेश सरकार द्वारा सर्वश्रेष्ठ विधायक का पुरस्कार दिया जा चुका है। महासभा ने कहा कि श्री शर्मा को रासुका लगाना घातक हो सकता है। उन्होंने मुख्यमंत्री से आग्रह किया कि अमरपाल शर्मा पर रासुका लगाने की कार्यवाही पर पुन: विचार किया जाए। इस अवसर पर अध्यक्ष नरेन्द्र चन्द्र शर्मा, राकेश कुमार शर्मा, डीके शर्मा, डीडी भारद्वाज, बीएस शर्मा सहित अनेकों पदाधिाकारी व कार्यकर्ता उपस्थित रहे।