Current Crime
अन्य ख़बरें ग़ाजियाबाद दिल्ली एन.सी.आर

सब डाल डाल, भानु सिसोदिया पात-पात

गाजियाबाद (करंट क्राइम)। हज हाउस के बराबर में कैलाश मानसरोवर यात्रा पर जाने वाले यात्रियों के लिए मानसरोवर स्थल का सुझाव सबसे पहले किसने दिया इस पर फिलहाल क्रेडिट वार थमी नहीं है। मेयर आशु वर्मा ने मंच से इसे अपनी उपलब्धि बताया और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को इसका क्रेडिट दिया।  अब क्रेडिट जंग छिड़ी तो बात सामने आई कि निगम के पूर्व उपाध्यक्ष एवं भाजपा पार्षद प्रवीण चौधरी ने बोर्ड बैठक में सबसे पहले इस बिंदु को उठाया था। अब बात यहां पर भी नहीं थमी।  स्टोरी में निर्दलीय पार्षद धीरेंद्र यादव उर्फ बिल्लू भी आ गए।  बिल्लू ने करंट क्राइम से दावा किया की किसी से भी पूछ लो, मिनट्स चेक कर लो, प्रस्ताव की सबसे पहले बात  मैंने ही रखी थी। क्रेडिट वार की उलझन में सुलझन की जगह अब एक और उलझन आ गई है।  यह  उलझन जनरल वीके सिंह के प्रतिनिधि एवं पूर्व विधायक नरेंद्र सिसोदिया के सुपुत्र भानु सिसोदिया ने खड़ी कर दी है। भानु सिसोदिया ने फेसबुक पर एक पोस्ट डाला है। जिसमें उन्होंने कैलाश मानसरोवर स्थल का पूरा क्रेडिट जनरल वीके सिंह और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को दे दिया है। खास बात यह है कि उनके इस पोस्ट में नगर निगम के मेयर आशु वर्मा तक का जिक्र नहीं है। पोस्ट में उन्होंने स्पष्ट लिखा है कि आदरणीय जनरल वीके सिंह जी के अथक प्रयास वह दृढ़ इच्छा शक्ति के कारण कैबिनेट बैठक में कैलाश मानसरोवर भवन के लिए 50 करोड़ स्वीकृत कर दिए गए। फिलहाल सांसद प्रतिनिधि के सुपुत्र की ओर से डाली गई यह पोस्ट यह सवाल जरूर खड़ा करती है कि, जब पूरा काम ही  जनरल की इच्छाशक्ति के बूते हुआ है। तो फिर महापौर आशु वर्मा ने चारदीवारी के कार्यक्रम को करने में इतनी मेहनत क्यों लगाई।

Related posts

Current Crime
Ghaziabad No.1 Hindi News Portal
%d bloggers like this: