Current Crime
महाराष्ट्र

अदालतों के बाहर ‘फर्जी जमानत’ कराने वाले रैकेट का पुणे पुलिस ने किया भंडाफोड़

पुणे| पुणे पुलिस ने एक बड़े रैकेट का भंडाफोड़ किया है, जो फर्जी जमानत दिलाने का काम करता था। अधिकारियों ने बताया कि यह गिरोह लंबे समय से सक्रिय था और कई मामलों में इन्होंने आरोपियों को फर्जी जमानत दिलवाई। पुणे के पुलिस कमिश्नर अमिताभ गुप्ता के निर्देशन में हुए इस ऑपरेशन में 6 महिलाओं समेत 37 लोगों को गिरफ्तार किया गया है। गुप्ता ने मीडिया को बताया, “यह एक बहुत बड़ा रैकेट है, जिसे हमने पकड़ लिया है। वे लंबे समय से काम कर रहे थे। मामले में आगे की जांच की जा रही है।”

प्रारंभिक जांच के अनुसार गिरोह के लोग विभिन्न अदालतों से आरोपियों और विचाराधीन कैदियों को 25 हजार रुपये में जमानत पाने में मदद करते थे। गिरोह के लोग ज्यादातर जिला न्यायालय या न्यायिक मजिस्ट्रेट प्रथम श्रेणी न्यायालयों में अपने काम को अंजाम देते थे, जहां थोक में जमानत याचिकाएं दायर होती हैं।

15 दिन पहले इस गिरोह को लेकर टिप मिली और फिर पुणे पुलिस कार्रवाई में जुट गई। गुप्ता ने कहा कि कई जाल बिछाने के बाद पुलिस आरोपियों को गिरफ्तार करने में सफल रही। बाद में अदालत ने उन्हें 26 दिसंबर तक पुलिस हिरासत में भेज दिया है।

ये लोग आरोपियों-विचाराधीन कैदियों की जमानत करवाने के लिए 12,000 रुपये से 20,000 रुपये लेते थे। वे जमानत दिलाने के लिए अदालतों को फर्जी दस्तावेज भी उपलब्ध कराते थे। उन्होंने आधार कार्ड, पैन, राशन कार्ड, संपत्ति दस्तावेज, घर का बिल, फोटोग्राफ आदि के कई फर्जी दस्तावेज उपलब्ध कराए, ताकि वे आरोपी-अपराधियों को जमानत दिला सकें। पिछले साल अक्टूबर में भी ऐसे 10 लोगों को गिरफ्तार किया गया था।

Related posts

Current Crime
Ghaziabad No.1 Hindi News Portal
%d bloggers like this: