Current Crime
ग़ाजियाबाद दिल्ली एन.सी.आर

दिनदहाड़े ज्वैलर्स लुटेरों से पुलिस की मुठभेड़, लूट की तीन वारदातों का खुलासा

-आखिरकार पुलिस की गिरफ्त में आया स्कूटी-बाइक लूटपाट गिरोह
गाजियाबाद (करंट क्राइम)। पुलिस के लिए सिरदर्द बन चुके ज्वैलर्स लुटेरे गिरोह के दो सदस्य को गाजियाबाद पुलिस ने मुठभेड़ के बाद गिरफ्तार किया है। वहीं इनके दो सदस्य व एक ज्वैलर्स को भी पकड़ा गया है। लुटेरों पर पुलिस ने इंदिरापुरम में दुर्गा ज्वैलर्स के यहां हुई 12 लाख की डकैती, संत ज्वैलर्स के यहां लूट के प्रयास और लगभग दो साल पूर्व छोटी दीवाली के दिन गोविंदपुरम में अमन ज्वैलर्स के यहां हुई लूट की सनसनीखेज वारदातों के खुलासे का दावा किया है।
हालांकि खुलासे में पुलिस की बरामदगी शत-प्रतिशत नहीं कर पाई है। पुलिस ने पकड़े गए बदमाश कासिम, शमीम, सुनार विशाल, अजगर और अब्दुल से लूटे गए आभूषण बरामद कर लिए हैं। पुलिस ने स्कूटी और मोटर साइकिल बरामद की है। बदमाशों ने नंदी पार्क के निकट पुलिस फोर्स पर फायरिंग की। जिसके बाद मुठभेड़ में एक बदमाश को गोली लगी और एक को पकड़ लिया गया। मौके पर पहुंचे एसएसपी कलानिधि नैथानी ने क्राइम ब्रांच और एसपी सिटी वन की टीम की तारीफ की। वहीं पकड़े गए अपराधियों के जेल जाने के बाद अपराध में कमी आने का भी दावा किया है।
इंदिरापुरम से शुरू हुई जांच, सिहानी गेट पर मुठभेड़ से हुई खत्म
एसपी सिटी अभिषेक वर्मा ने बताया है कि दोपहर में इंदिरापुरम थानाक्षेत्र के निकट वसुंधरा पुल के निकट पुलिस की कई टीमें जांच कर रही थी। इस दौरान इंदिरापुरम पुलिस ने काली मोटरसाइकिल सवार अजगर और अब्दुल को रोकने का प्रयास किया लेकिन यह फरार हो गए।
इसके बाद के सिहानीगेट पुलिस ने नंदी पार्क के पास इन्हें रोकने का प्रयास किया। यह पुलिस को चकमा देकर एक कट से फरार होने लगे इस दौरान बदमाशों की बाइक फिसल गई और मिट्टी में जाकर गिर गई। जिसके बाद खुद को पुलिस से घिरता देखकर दोनों ने गोली चलाई जिसके बाद पुलिस ने भी गोली मारकर अजगर को दबोच लिया। दिनदहाड़े हुई मुठभेड़ की वारदात के बाद पुलिस के हौसले बुलंद नजर आए। वहीं अधिकारियों के चेहरे पर भी बढ़ते अपराध पर कुछ राहत भरी मुस्कार दिखाई दी। मौके पर सीओ अवनीश कुमार, सीओ अभय कुमार मिश्रा, सिहानी गेट थाना प्रभारी कृष्ण गोपाल शर्मा, कविनगर थाना प्रभारी नागेंद्र चौबे, इंस्पेक्टर इंदिरापुरम और क्राइम ब्रांच से संजय पांडे और अन्य पुलिस फोर्स मौके पर पहुंच गर्इं।
दिल्ली से लेकर मुजफ्फरनगर तक सक्रियता गिरोह
पुलिस अधिकारियों ने दावा किया है कि सुनारों को निशाने पर रखने वाला यह गिरोह दिल्ली से लेकर मुजफ्फरनगर तक सक्रिय था। पकड़ा गया बदमाश शमीम ओखला थानाक्षेत्र का बदमाश है। यह पहले भी लूट की वारदातों में जेल जा चुका है। यह सुनारों की रेकी करता था, इसके बाद गिरोह के अन्य सदस्य मौके पर पहुंचे और ताबड़तोड़ फायरिंग कर वारदात को अंजाम देकर फरार हो जाते थे।
इसमें ज्वैलर्स विशाल मूलरूप से बागपत और अब्दुल रहमान मुजफ्फरनगर का रहने वाला है। पुलिस की मानें तो बीते तीन सालों से लूटपाट का सारा सामान पकड़े गए बदमाश ज्वैलर्स के यहां खपाते थे। पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार ज्वैलर्स बाजार कीमत से कम दाम पर लूट का माल लेता था और दिल्ली और मेरठ के बाजार में बेच दिया करता था।
पीड़ित बोला कम हुई
रिकवरी, संगठन बोला पुलिस ने किया अच्छा काम
सुनारों के साथ हो रही एक के बाद एक वारदातों से परेशान स्वर्णकार संघ ने गाजियाबाद पुलिस द्वारा किए गए इस मुठभेड़ और खुलासे की सराहना की है। वहीं गाजियाबाद के अधिकारियों को इसके लिए जल्दी सम्मानित करने की बात की है। वहीं डकैती के पीड़ित दुर्गा ज्वैलर्स के मालिक अनिल कुमार का कहना है कि उनको अभी केवल डेढ़ किलो चांदी ही दी गई है और कुछ सोने चांदी के जेवर और हैं। डकैती की इस वारदात में दुकान से लगभग 12 लाख रुपए की कीमत के सोने चांदी और हीरे के आभूषण लूटे गए थे, जो अभी पुलिस ने बरामद करने की बात की गई है। ज्वैलर्स को पुलिस अधिकारियों ने भरोसा दिलाया है कि पकड़े गए बदमाशों से आगे की पूछताछ के बाद इसमें और अहम सुराग मिल सकते हैं। इससे माल और बरामद होने की संभावनाएं बढ़ जाएगी। बता दें कि बीते दिनों सोशल मीडिया पर स्कूटी-मोटरसाइकिल गिरोह के फुटेज वायरल करने के बाद गाजियाबाद पुलिस ने
एक लाख रुपये के इनाम देने की घोषणा की थी।

Related posts

Current Crime
Ghaziabad No.1 Hindi News Portal
%d bloggers like this: