सबरीमला पर पुनर्विचार याचिकाओं की सुनवाई की तिथि पर फैसला आज आईटीओ स्काईवॉक पर इश्क फरमा रहे जोड़ों की निगरानी करेगें बाउंसर्स दिल्ली हाईकोर्ट के चार जजों ने ली पद व गोपनीयता की शपथ बिना बताये घर से गये युवक का शव पेड पर लटका मिला राहुल को शोभा नहीं देता बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ अभियान का माखौल उड़ाना : भाजपा पीटने की धमकी देने वाले श्रीसंत अखाड़े में नहीं झेल सके दो वार अनावरण कार्यक्रम के लिए सीएम और राज्यपाल को दिया न्योता मुद्दों से जनता का ध्यान भटकाती है भाजपा सरकार: गहलोत पीएम मोदी फेंकू तो सीएम योगी हैं ठोकू: राज बब्बर महापुरूषों को सम्मान देकर मोदी सरकार इतिहास को ‘राइट’ कर रही : नकवी पिछली सरकार एक ही परिवार को बढ़ावा देती रही
Home / अन्य ख़बरें / पुलिस कस्टडी में महिला की मौत!

पुलिस कस्टडी में महिला की मौत!

एसपी देहात ने कहा-मौत हुई ज्यूडिशल कस्टडी में महिला थी भाजपा नेता की हत्या में वांछित
लोनी (करंट क्राइम)। लगभग साढ़े तेरह महीने पहले भाजपा नेता एवं प्रधान के पिता ब्रजेश्वर त्यागी की हत्या में वांछित चल रही महिला सरिता की रविवार रात पुलिस कस्टडी में मौत हो गई। जिससे पुलिस महकमे में हड़कम्प मच गया। वहीं पुलिस का दावा है कि महिला की मौत ज्यूडिशियल कस्टडी में हुई है। मृतक महिला का पति व दो बेटे पहले ही इसी मामले में जेल में बंद हंै। ट्रोनिका सिटी थाना प्रभारी श्यामबीर सिंह ने बताया कि महिला प्रधान पिता की हत्या में वांछित चल रही थी।
रविवार की शाम पुलिस ने महिला को गिरफ्तार कर किया था। जहां से ज्यूडिशियल कस्टडी में लेने के बाद जेल भेजा गया। जेल में जाने के बाद जब उसकी तबियत बिगड़ गयी तो जेल के डॉक्टरों ने मेडिकल किया। गम्भीर हालत देखते हुए उसे उपचार के लिये एमएमजी अस्पताल भेजा गया। जहां से उसे जीटीबी रेफर कर दिया गया। वहां से डॉक्टरों ने उसे जीबी पन्त दिल्ली अस्पताल रेफर कर दिया। पन्त अस्पताल में जाने से पहले ही उसकी मौत हो गयी। जहां पोस्टमार्टम कराया जा रहा है। उधर परिजनों ने पुलिस पर महिला की हत्या का आरोप लगाया है। मृतका की बेटी मेनका का आरोप है कि रविवार की शाम 4 बजे उसकी माँ को पुलिस ने श्याम उद्योग नियर बन्थला स्थित नानी के घर से उठाया था। जब उसे जानकारी हुई तो वह नोरसपुर अपने निवास से साढ़े 5 बजे ट्रोनिका सिटी थाने गयी तो पुलिस ने उसे मां से नहीं मिलने दिया।
जब पुलिस उसकी मां को मेडिकल के लिये गाड़ी में बैठाकर सीएचसी अस्पताल लेकर गयी तो वह आॅटो से पीछे-पीछे अस्पताल पहुंच गयी। जहां जाते ही पुलिस ने उसका फोन छीन लिया और कुछ देर बाद वापस देकर धमकाकर वहाँ से भगा दिया। वह अपने घर नोरसपुर आ गयी।उसके बाद रात के 1 बजे उसके घर पुलिस गयी। जिन्होंने कहा कि तुम्हें तुम्हारी माँ बुला रही है। उसने पुलिस को रात में जाने से मना कर दिया। पुलिस वापिस चली गयी ,फिर दोबारा साढ़े 3 बजे कुछ पुलिस वाले महिला सिपाही के साथ उसके घर वापिस पहुंचे और कहा कि तुम्हारी माँ की तबियत खराब है। आपको जीटीबी अस्पताल में बुला रही है ,वह उनके साथ चली गयी। लेकिन जब तक वह पुलिस के साथ जीटीबी अस्पताल गयी तब तक उसे पन्त अस्पताल रेफर कर दिया था। जब वह पन्त अस्पताल गये तो उससे पहले ही उसकी माँ की मौत हो चुकी थी। उसने दावा किया कि पन्त अस्पताल के डॉक्टरो ने उसे बताया कि अस्पताल में आने से पहले महिला की मौत हो चुकी थी। 30 मार्च 2017 को नोरसपुर गांव में मौजूदा प्रधान ललित प्रधान के पिता ब्रजेश्वर त्यागी पर दो बाइक सवार हमलावरों ने उस समय गोली बरसाकर हमला कर दिया था ,जब प्रधान कहीं बाहर गए थे और पिता ब्रजेश्वर हो रहे निर्माण कार्य का निरीक्षण कर रहे थे। घायल ब्रजेश्वर को मैक्स अस्पताल में भर्ती कराया गया था। जहां उनकी उपचार के दौरान मौत हो गयी थी। प्रधान ललित त्यागी ने महिला समेत 7 लोगो के खिलाफ मुकदमा लिखाया था। मामले में मृतका का पति दीपक उर्फ वीरेंद्र त्यागी व उसके बेटे हिमांशु और नरेंद्र पहले ही जेल में बंद हैं। उसी समय से महिला वांछित चल रही थी। मीडिया को बुलाओ पुलिस वाले मुझे मार देंगे। वांछित महिला की मां के निवास बन्थला फाटक पर रविवार शाम 4 बजे जब एक एसआई ,दो सिपाही ,एक महिला सिपाही व विपक्षी ललित प्रधान और उसका बेटा गये तो पुलिस ने वांछित को गैलरी में चारपाई पर बैठी थी तभी दबौच लिया था। ।उसके बाद विपक्षियों के साथ पुलिस महिला को धक्के मारती हुई अंदर जीने से छत पर ले गयी। जहां महिला चीख रही थी । चीख सुनकर महिला की माँ राजकुमारी जब ऊपर गयी तो जीने पर खड़ी महिला सिपाही ने उसे वापिस धमकाकर नीचे भेज दिया। जब मौके पर लोग इकठ्ठा होने लगे तो पुलिस उसे धक्के मारती हुई सफेद रंग की प्राइवेट गाड़ी में बैठाने लगी तो महिला सरिता चिल्ला रही थी कि मां मीडिया को बुलाओ ,यह पुलिस वाले मुझे छत से धक्का दे रहे थे और मारने की बात कर रहे हैं।

‘महिला जेल से इलाज के लिए गई थी,ज्यूडिशियल कस्टडी में उसकी मौत हुई है। पुलिस कस्टडी में मौत होने का कोई मामला नहीं है।’
अरविन्द कुमार मौर्य, पुलिस अधीक्षक ग्रामीण, गाजियाबाद

Check Also

स्वास्थ्य मंत्री अश्विनी चौबे ने डेंटल सर्जनों को किया सम्मानित

नई दिल्ली (ईएमएस)। केन्द्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण राज्यमंत्री अश्विनी कुमार चौबे ने आज लेडी …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *