Current Crime
उत्तर प्रदेश राज्य

हत्या के आरोप में पुलिस ने अभिजीत की मां मीरा यादव को किया गिरफ्तार

लखनऊ (ईएमएस)। अभिजीत यादव की हत्या के मामले में अब गुत्थी सुलझने लगी है। उत्तर प्रदेश विधान परिषद के सभापति रमेश यादव के छोटे बेटे अभिजीत यादव की हत्या के आरोप में पुलिस ने अभिजीत की मां मीरा यादव को गिरफ्तार कर लिया है, और सूत्रों की मानें तो उन्होंने अपना गुनाह कबूल भी कर लिया है। अभिजीत यादव की मां मीरा ने पुलिस हिरासत में कबूला है कि उसने ही अपने बेटे की हत्या गला दबाकर की। मीरा ने बताया कि अभिजीत जब नशे में था, वह उनसे बदतमीजी कर रहा था और उसने उन्हें मारने की भी कोशिश की।
मीरा यादव ने बताया कि अपना बचाव करने के लिए उन्होंने वापस अभिजीत को मारा, इसके बाद अपनी ‘चुन्नी’ से उसका गला ही दबा दिया। मीरा यादव ने पुलिस को बताया कि अभिजीत को मारने के बाद उसने अपनी चुन्नी को जला दिया। गौरतलब है कि अभिषेक यादव की शिकायत के बाद पुलिस ने मीरा यादव को हिरासत में लिया था, पुलिस ने करीब 9 घंटे तक मीरा यादव से पूछताछ की थी। इसी पूछताछ में मीरा यादव ने अपने सभी आरोपों को कबूल लिया।
मीरा यादव विधानपरिषद के सभापति रमेश यादव की दूसरी पत्नी हैं, जबकि उनकी पहली पत्नी यूपी के एटा में परिवार के साथ ही रहती हैं। जिस फ्लैट में ये घटना हुई है वह रमेश यादव का ही है। यहां मीरा यादव, अभिषेक यादव (बड़ा बेटा) और अभिजीत यादव रहते थे। पुलिस अभी भी इस बात की जांच में जुटी है कि क्या हत्या के वक्त फ्लैट में कोई और भी मौजूद था या नहीं। इस हत्या के बारे में बात करते हुए एसपी ईस्ट सर्वेश मिश्रा ने कहा कि हमें 21 अक्टूबर को अभिजीत यादव का शव दारूल शफा से बरामद हुआ, पहले तो परिवार ने इस प्राकृतिक मौत बताया लेकिन हमें शक हुआ। पोस्टमार्टम के बाद ये साफ हुआ कि ये मौत नहीं हत्या है और गला दबा कर ही हत्या की गई है। गौरतलब है कि इस मामले के बारे में अभिजीत के बड़े भाई अभिषेक ने ही पुलिस में शिकायत दर्ज कराई थी। अभिषेक ने ही अपनी मां के खिलाफ 302 के तहत मुकदमा दर्ज करवाया है। ज्ञात हो कि जब तक हत्या की बात सामने नहीं आई थी, तब तक परिवार इसे प्राकृतिक मृत्यु ही बता रहा था। परिवार के बयान के मुताबिक, रविवार सुबह अभिजीत अपने बिस्तर पर मृत अवस्था में पड़ा मिला था। परिजनों का कहना था कि अभिजीत शनिवार रात करीब 11 बजे घर आया था। तब उसने सीने में दर्द की जानकारी मां को दी थी। मां ने सीने में मालिश कर उसे सुला दिया था। सुबह जब काफी देर तक अभिजीत नहीं उठा तो मां उसे उठाने पहुंची। शरीर में कोई हरकत न होती देख भाई को भी बुलाया। भाई ने विवेक की नब्ज जांची तो पता चला उसकी मौत हो चुकी थी।

Related posts

Current Crime
Ghaziabad No.1 Hindi News Portal
%d bloggers like this: