पंजाब के तरनतारन में पाक ने की ड्रोन से हथियार गिराने की कोशिशें – वापस उड़ नहीं सका तो खालिस्तान आतंकियों ने जलाया ड्रोन

0
115

चंडीगढ़ (ईएमएस)। पंजाब में पाकिस्तान द्वारा आंतकी गतिविधियों का बड़ा खुलासा हुआ है। भारतीय सेना की मुस्तैदी के चलते सीमा पार से आतंकियों की घुसपैठ करा पाने में नाकाम पाकिस्तान अब ड्रोन के जरिए आतंक का सामान भेज रहा है। सितंबर महीने में ही 7-8 बार ड्रोन के जरिए पंजाब के तरनतारन में हथियार गिराने की कोशिशें की गईं। पंजाब में पाकिस्तान द्वारा ड्रोन के जरिए हथियारों की सप्लाई का मामला सामने के बाद जांच एजेंसियां छानबीन करने में जुटी हैं। इस बीच पुलिस ने बुधवार को तरनतारन में भिखीविंड सड़क पर चभल इलाके में स्थित एक चावल मिल के गोदाम से अधजला ड्रोन बरामद किया।
एक पुलिस अधिकारी ने अपनी पहचान गोपनीय रखने की शर्त पर बताया कि ड्रोन पूछताछ के दौरान आरोपी से मिली सूचना के आधार पर बरामद किया गया। हथियारों की खेप गिराने के बाद जब ड्रोन वापस उड़ नहीं सका तो पंजाब में खालिस्तान जिंदाबाद फोर्स (केजेडएफ) के आतंकियों ने इसे जला दिया। अधिकारी ने कहा, ‘आरोपी ने बताया कि ड्रोन (तरनतारन के) भुसे गांव में हथियारों की पहली खेप गिराने के बाद पाकिस्तान नहीं लौट पाया था जिसके बाद उसे जला दिया गया।’ मामले की जांच जारी है, लेकिन यह माना जा रहा है कि इन हथियारों का प्रयोग जम्मू-कश्मीर में आतंकवाद को फैलाने में किया जाना था।
भारतीय सेना के दक्षिणी पश्चिमी कमांड चीफ लेफ्टिनेंट जनरल आलोक सिंह क्लेयर ने बताया कि सैन्य बल इस तरह के डिवाइसों की पहचान करने में पूरी तरह सक्षम हैं और जो भी ड्रोन पाकिस्तान से भारत की ओर आएगा उसे आर्मी और एयरफोर्स मार गिराएगी। पुलिस ने बताया कि जर्मनी में रहने वाला गुरमीत सिंह बग्गा का भाई गुरदेव सिंह कथित रूप से आतंकी मॉड्यूल का हैंडलर था। उसे जलंधर के पीएपी चौक से गिरफ्तार कर लिया गया है। इससे पहले पुलिस ने रविवार को ही केजेडएफ के आतंकी मॉड्यूल का भंडाफोड़ किया था जिसे पाकिस्तान और जर्मनी में बैठे आकाओं से शह मिल रही थी।
चार केजेडएफ आतंकी-बलवंत सिंह उर्फ निहंग, आकाशदीप, हरभजन सिंह और बलबीरसिंह को तरण-तारण के एक गांव से गिरफ्तार किया गया था। एक अधिकारी ने बताया, ‘आरोपी ने बताया कि ड्रोन द्वारा हथियार गिराए जाने के बाद जब वह वापस पाकिस्तान जाने में फेल हो गया तो उसे जला दिया गया। ड्रोन के क्रैश होने के बाद पाकिस्तान में मौजूद ड्रोन ऑपरेटरों ने आरोपी को उसकी लोकेशन भेजी थी। इसके बाद आरोपी ने वहां पहुंचकर ड्रोन को जब्त करने के बाद जला दिया। फरेंसिक टीम के साथ मिलकर पुलिस ने मंगलवार को इसके कुछ पार्ट्स जब्त किए थे जिसमें ड्रोन का जीपीएस एंटिना शामिल था। पुलिस अधिकारी ने बताया, ‘कुछ पार्ट्स को बाबा बुधा साहिब गुरुद्वारे के नजदीक एक नहर में फेंक दिया गया था जिसे गोताखोरों ने ढूंढ निकाला।’ पंजाब पुलिस की काउंटर-इंटेलिजेंस शाखा के एक अधिकारी के अनुसार, आरोपियों ने पूछताछ के दौरान बताया कि जीपीएस युक्त बड़े ड्रोनों का प्रयोग तरनतारन जिले में सीमा पार से हथियार और गोला बारूद गिराने के लिए किया गया।