Current Crime
दिल्ली देश

दिल्ली में ऑक्सीजन कंसंट्रेटर बैंक, रोगियों को घर पर ही मिलेगी ऑक्सीजन

नई दिल्ली| पिछले 24 घंटे में दिल्ली में कोरोना के 6.5 हजार नए केस आए हैं। इसके साथ ही अब दिल्ली में कोरोना की पॉजिटिविटी दर घटकर 11प्रतिशत रह गई है। शुक्रवार को यह पॉजिटिविटी दर 12 फीसदी थी। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि हम दिल्ली में ऑक्सीजन कंसंट्रेटर बैंक शुरू कर रहे हैं। अक्सर देखा जा रहा है कि किसी को कोरोना हुआ और उनकी ऑक्सीजन कम होने लगी। यदि रोगी को तुरंत ऑक्सीजन दे दी जाए तो तबीयत ज्यादा बिगड़ने से बचाई जा सकती है। वहीं यदि समय पर ऑक्सीजन नहीं मिलती तो तबीयत बिगड़ते बिगड़ते इतनी बिगड़ जाती है कि कई बार रोगी को आईसीयू ले जाना पड़ता है। इनमें से कई मामलों में रोगियों की मौत हो जाती है इसलिए कोरोना के मामले में समय पर ऑक्सीजन मिलना जरूरी है। ऐसे मरीजों के लिए ही हमने यह ऑक्सीजन कंसंट्रेटर बैंक बनाया है।

दिल्ली के हर जिले में 200-200 ऑक्सीजन कंसंट्रेटर का बैंक बनाया गया है। ऐसे मरीज जो होम आइसोलेशन में हैं अगर उन्हें ऑक्सीजन की आवश्यकता पड़ती है तो दिल्ली सरकार द्वारा उन्हें 2 घंटे में ऑक्सीजन की सुविधा मुहैया करा दी जाएगी। रोगी के घर इस दौरान एक तकनीशियन भी ऑक्सीजन की जानकारी देने जाएगा।

अस्पताल से ठीक होकर जब रोगी घर जाते हैं तो कई मामलों में डॉक्टर कहते हैं कि कुछ दिन घर पर भी ऑक्सीजन लेनी पड़ेगी। ऐसे लोगों को भी ऑक्सीजन कंसंट्रेटर दिलवाया जाएगा। दिल्ली सरकार की टीम इन लोगों के घर जाकर उन्हें ऑक्सीजन कंसंट्रेटर मुहैया कराएगी।

जब यह रोगी ठीक हो जाएंगे तो इनसे ऑक्सीजन कंसंट्रेटर वापस लेकर उसे पूरी तरह सैनिटाइज किया जाएगा। इसके बाद ही किसी अन्य रोगी को यह कंसंट्रेटर मुहैया कराया जाएगा। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के मुताबिक यदि किसी व्यक्ति को कोरोना है लेकिन वह किसी कारणवश हमारे होम आइसोलेशन का हिस्सा नहीं है तो वह 1031 पर फोन करके हमारे होम आइसोलेशन का हिस्सा बन सकता है। ऐसे रोगी भी ऑक्सीजन कंसंट्रेटर की मदद ले सकते हैं।

मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि हालांकि इस प्रक्रिया से पहले हमारे डॉक्टर्स की टीम यह सुनिश्चित करेगी कि रोगी को ऑक्सीजन की आवश्यकता है या नहीं।मुख्यमंत्री ने बताया कि दिल्ली में ओला फाउंडेशन और गिव इंडिया, ऑक्सीजन कंसंट्रेटर को रोगियों के घर तक पहुंचाने में मदद कर रहे हैं।

इसके अलावा दिल्ली सरकार ने जानकारी देते हुए बताया कि दिल्ली में अब 1000 आईसीयू बेड बनकर तैयार हो चुके हैं। इनमें से 500 आईसीयू बेड शुक्रवार को बनकर तैयार हुए हैं। यह आईसीयू बेड सिर्फ बीते 15 दिनों में तैयार किए गए हैं। हर कोई इस बात से हैरान है कि दिल्ली के डॉक्टर और इंजीनियर ने सिर्फ 15 दिन के अंदर कैसे 1000 आईसीयू बेड तैयार कर दिए। मैं इन सभी लोगों का धन्यवाद करता हूं।

Related posts

Current Crime
Ghaziabad No.1 Hindi News Portal
%d bloggers like this: