जीएसटी का परफॉर्मेंस ऑडिट कर रहा है कैग, शीघ्र जारी करेगा रिपोर्ट स्मोकिंग करते हार्दिक पांडया का वीडियों हुआ वायरल विश्वकप के हर मैच में मानसिक रूप से मजबूत होना होगा: चिंग्लेसाना सिंह रूनी के रिकॉर्ड को हासिल कर पाना संभव :हैरी केन वेदा कृष्णमूर्ति ने रचा इतिहास, ऐसा करने वाली पहली भारतीय आरबीआई ने अप्रैल-सितंबर में 18.66 अरब डॉलर बाजार में बेचे दसवीं फैल लड़के ने राजकोट के युवक की फेसबुक और इंस्टाग्राम किया हेक 21 को युवाओं से रूबरू होंगे भाजपाध्यक्ष अमित शाह आकाशवाणी से आज मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी की भेंटवार्ता का होगा प्रसारण रेप की घटनाओं पर हरियाणा के सीएम खट्टर की आपत्तिजनक टिप्पणी से चहुओर रोष
Home / अन्य ख़बरें / प्रमुख सचिव के आदेश दर्ज हो अधिशासी अधिकारी के खिलाफ मुकदमा

प्रमुख सचिव के आदेश दर्ज हो अधिशासी अधिकारी के खिलाफ मुकदमा

गाजियाबाद (करंट क्राइम)। डासना नगर पंचायत के अधिशासी अधिकारी राकेश कुमार माहेश्वरी के खिलाफ निलंबन व एफआईआर दर्ज कराने के आदेश प्रमुख सचिव ने दे दिए हैं। गौरतलब है कि डासना नगर पंचायत में तैनात अधिशासी अधिकारी राकेश कुमार माहेश्वरी के खिलाफ कई आरोप लगे हैं।
वर्तमान डासना नगर पंचायत अध्यक्ष ने भी उनके खिलाफ पत्रावली अपने कब्जे में रखने के आरोप लगाते हुए यहां तक लिखा था कि अधिशासी अधिकारी सरकारी फाइलें लेकर फरार है। बताते हैं कि अधिशासी अधिकारी के रूप में राकेश कुमार माहेश्वरी के खिलाफ कई शिकायतें दर्ज हैं। उनके द्वारा अपने पुत्र सौरभ माहेश्वरी की फर्म श्रीनाथ एंटरप्राइजेज को ठेके पर सफाई कर्मी रखे जाने का टेंडर देकर घोर वित्तीय गड़बड़ी की गई है। अब जांच के बाद यह मामला भी सामने आ गया है कि अधिशासी अधिकारी ने सरकारी फाइलों को अपने आवास पर रखा था। जब उनके खिलाफ जांच शुरू हुई तो वह जांच अधिकारी के समक्ष हाजिर ही नहीं हुए और उच्च अधिकारियों के आदेशों की अनदेखी की। मामला लखनऊ तक पहुंचा और शासन से प्रमुख सचिव ने स्थानीय निकाय के निदेशक को पत्र लिखकर कहा है कि अधिशासी अधिकारी राकेश कुमार माहेश्वरी जांच में प्रथम दृष्ट्या दोषी पाए गए हैं। उन्हें तत्काल प्रभाव से निलंबित करते हुए उनके विरुद्ध विभागीय कार्रवाई शुरू की जाए तथा उनके खिलाफ एफआईआर दर्ज कराई जाए। इस मामले में बड़ी बात यह है कि शासन ने तत्काल आदेश जारी करने और शासन को अवगत कराने के निर्देश भी दिए हैं। माना जा रहा है कि डासना नगर पंचायत में जब जांच शुरू होगी तो इसकी आंच में कई अधिकारी भी आएंगे। सूत्र बता रहे हैं कि यहां एक नहीं बल्कि कई घोटालों की गंूज है। यहां अधिशासी अधिकारी और ठेकेदारों के गठजोड़ ने कई योजनाओं में भ्रष्टाचार किया है।

Check Also

खशोगी हत्या मामले में अमेरिका ने 17 सऊदी नागरिकों पर प्रतिबंध लगाया

वाशिंगटन (ईएमएस)। अमेरिकी पत्रकार जमाल खशोगी की नृशंस हत्या में संलिप्त सऊदी अरब के 17 …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *