Current Crime
दिल्ली दिल्ली एन.सी.आर

अब ग्रेटर नोएडा में सरकारी जमीन पर होने जा रही श्रीमद्भागवत कथा पर लगाई रोक

नोएडा (ईएमएस)। राजधानी दिल्ली एनसीआर से लगे क्षेत्रों में सार्वजनिक स्थलों पर बिना सूचना आयोजनों पर प्रकिबंध की मुहिम जारी है। यूपी का गौतमबुद्धनगर जिला भी इन दिनों सार्वजनिक स्थानों पर नियमों के खिलाफ धार्मिक आयोजनों के लिए चर्चित हो रहा है। कुछ दिन पहले जहां नोएडा में सरकारी पार्क पर नमाज पढ़ने की पाबंदी लगाई गई, वहीं अब ग्रेटर नोएडा में सरकारी जमीन पर होने जा रही श्रीमद्भागवत कथा को रोक दिया गया है। इसको लेकर विशेष समुदाय में खासा रोष है।
ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण से जुड़े अधिकारियों के मुताबिक, ग्रेटर नोएडा के आवासीय सेक्टर-37 में 26 दिसंबर (बुधवार) से नौ दिवसीय श्रीमद्भागवत कथा की शुरुआत होनी थी। यह जमीन प्राधिकरण की है। ग्रेटर नोएडा औद्योगिक विकास प्राधिकरण के अधिकारियों ने बिना अनुमति हो रही श्रीमद्भागवत कथा की बात बताई और बुधवार सुबह ही इस भूखंड से तंबू, मंच और लाउडस्पीकर हटवा दिए। प्राधिकरण की इस कार्रवाई का आयोजकों ने जमकर विरोध किया। कुछ महिलाओं ने तो धरना प्रदर्शन तक किया।
प्राधिकरण के विशेष कार्याधिकारी सचिन सिंह की मानें तो उन्हें कार्यक्रम के लिए अनुमति नहीं दी गई। यदि वे इसे फिर भी करते हैं तो यह गैर कानूनी होगा। ग्रेटर नोएडा (प्रथम) के क्षेत्राधिकारी निशंक शर्मा ने बताया कि प्राधिकरण द्वारा की गई इस कार्रवाई से उसका कोई लेना-देना नहीं है। यह कार्रवाई प्राधिकरण अधिकारियों तथा प्राधिकरण से संबद्ध पुलिसकर्मियों ने की है।
ग्रेटर नोएडा सेक्टर-37 में बुधवार को उस वक्त तनाव की स्थिति पैदा हो गई, जब ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण के अतिक्रमणकारी दस्ते ने मंदिर के लिए अवैध रूप से कब्जा की गई जमीन पर बने टेंट को हटा दिया। देखते ही देखते सैकड़ों सेक्टरवासी मौके पर जमा हो गए। इस दौरान विवाद काफी विवाद बढ़ गया। प्राधिकरण अधिकारियों के मुताबिक करीब दो वर्ष पहले से ही मंदिर के नाम पर सेक्टर की जमीन पर अवैध कब्जे की कोशिश की जा रही थी। इसी क्रम में स्थानीय लोगों ने भगवान की मूर्तियां भी स्थापित कर दी थीं, लेकिन गाहे-बगाहे सेक्टरवासी प्राधिकरण से मंदिर के लिए जमीन की मांग भी कर रहे थे।
कुछ लोगों ने श्रीमद्भागवत कथा के बहाने विधिवत मूर्ति स्थापित करने की योजना बनाई। इसके तहत सेक्टर में पंडाल लगाया गया था। इसकी जानकारी मिलते ही ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण के वरिष्ठ प्रबंधक यशपाल सिंह के निर्देश पर बुधवार सुबह अतिक्रमण हटाओ दस्ता सेक्टर में पहुंचा और भागवत कथा के लिए लगा टेंट हटा दिया। मामले की जानकारी मिलते ही मौके पर सैकड़ों सेक्टरवासी जमा हो गए और प्राधिकरण की कार्रवाई का विरोध करने लगे। हालांकि, विवाद बढ़ने पर स्थानीय लोगों ने बीच बचाव किया और मामले को शांत किया।
एसएसपी अजयपाल शर्मा के मुताबिक, नोएडा सेक्टर 58 में खुले स्थानों पर धार्मिक कार्यक्रमों पर रोक लगाई गई है। इस नोटिस के संबंध में एसएसपी अजय पाल शर्मा का कहना है कि सेक्टर 58 में नोएडा प्राधिकरण का पार्क है। इस पार्क में धार्मिक आयोजन के लिए कुछ लोगों द्वारा इजाजत मांगी गई थी, लेकिन इसकी इजाजत अभी तक सिटी मजिस्ट्रेट द्वारा जारी नहीं की गई है। इजाजत नहीं मिलने के बावजूद वहां भारी संख्या में लोग जुटे, ऐसे में उन्हें बताया गया कि आयोजन की इजाजत अभी भी नहीं हुई है। यही सूचना सभी कंपनियों को भी दी गई है।
पुलिस की मानें तो सेक्टर 58 के इस पार्क में पहले से ही कुछ लोग शुक्रवार को नमाज पढ़ने जा रहे थे। देखा गया है कि पिछले कुछ हफ्तों से नमाज पढ़ने वालों की संख्या तेजी से इजाफा हुआ है। ऐसे में इस तरह की गतिविधि पर कुछ लोगों ने एतराज जताया है। इस बाबत सेक्टर 58 के एसएचओ पंकज के अनुसार ये निर्देश सभी के लिए हैं।

Related posts

Current Crime
Ghaziabad No.1 Hindi News Portal
%d bloggers like this: