नहीं टली डियाजियो के चार करोड़ डॉलर दावे पर सुनवाई, माल्या की मुश्किल बरकरार

0
66

लंदन (ईएमएस)। शराब व्यवसायी विजय माल्या के अच्छे दिन आते नहीं दिख रहे हैं। ब्रिटेन की शराब कंपनी डियाजियो ने ब्रिटिश उच्च न्यायालय में विजय माल्या के खिलाफ चार करोड़ डॉलर का दावा किया है, जिस पर माल्या ने 23 मई की नियत तिथि के बाद सुनवाई कराने की अपील की थी, लेकिन कोर्ट ने उसके खिलाफ फैसला दिया। कोर्ट ने उसके खिलाफ टाली डियाजियो के चार करोड़ डॉलर के दावे पर सुनवाई नहीं टाली।
माल्या के खिलाफ ब्रिटेन में पहले से भारत प्रत्यर्पित किए जाने का मुकदमा चल रहा है। इस मामले में माल्या ने नए सिरे से एक अपील दायर की है। उल्लेखनीय है कि माल्या भारत में बैंकों का करीब 9,000 करोड़ रुपए का कर्ज नहीं चुकाने के मामले में वांछित हैं। न्यायाधीश क्लेयर मोल्डर ने माल्या की अपील के खिलाफ यह फैसला सुनाया। साथ ही उन्हें 34,000 पौंड की मुकदमा लडऩे की लागत को अलग से चुकाने का भी आदेश दिया है।
मोल्डर ने पूर्व में माल्या की ओर से मुकदमा लड़ रही विधाई कंपनी ग्रीनवुड्स का बकाया चुकाने में देरी करने और इस संबंध में ‘कोई व्याख्या’ नहीं देने पर कड़ा एतराज जताया। इसके चलते उनकी ओर से मुकदमा लडऩे वाली नई कंपनी जोसेफ हेज आरेनसन को उनके पैसे मिलने में ‘परेशानी’ आने की संभावना नजर आई। इसीलिए वह माल्या के मामले की सुनवाई टलवाने के पक्ष में थी।
न्यायाधीश मोल्डर ने कहा माल्या ने सुनवाई टालने का कारण स्पष्ट नहीं किया। वहीं वादी डियाजियो की दलील इस बात की पुष्टि करती है कि उसके दावे का निपटान जल्द किया जाना चाहिए। डियाजियो ने कहा कि यदि मई की सुनवाई टलती है तो माल्या की संपत्ति को लेकर होड़ मच जाएगी, क्योंकि माल्या के खिलाफ ऐसे ही और मामले दर्ज हैं। माल्या को प्रत्यर्पित किया जा सकता है और फिर उसके खिलाफ कार्रवाई करना मुश्किल हो जाएगा। हालांकि, न्यायाधीश ने माल्या के नए वकील को अदालत में सबूत पेश करने की समयसीमा को थोड़ा और बढ़ाकर 23 अप्रैल कर दिया है, जबकि पहले यह समयसीमा पांच अप्रैल थी। वहीं देरी के चलते डियाजियो को अतिरिक्त कानूनी लागत के तौर पर 28 दिनों में 34,000 पौंड की राशि चुकाने के लिए कहा है।