कांग्रेस के झूठे वायदों पर जनता को भरोसा नहीं : नरेंद्र मोदी प्रधानमंत्री ने लालपुर में विशाल आमसभा को किया संबोधित प्रत्येक मतदाता से मतदान करने की जा रही अपील जीका बुखार से बचाव के लिए सावधानी बरतें चिल्ड्रन होम में गार्ड द्वारा बच्चों नशीली दवा देने के मामले में हाईकोर्ट ने शासन से मांगा जवाब पीएम मोदी का खुला चैलेंज पहले 4 पीढ़ियों का हिसाब दो, मैं तो 4 साल का हिसाब दे रहा हूं इमली के बीज में छिपा है चिकनगुनिया का इलाज: आईआईटी वैज्ञानिक गेहूं की बुआई के लिए खेतों में पानी ना होने से संकट में 3 हजार किसान bhopal क्राईम ब्रांच कार्यालय के सामने से कार चोरी तेज रफ्तार कार ने बाईक को मारी टक्कर, एक की मौत दुसरा घायल सिग्नेचर ब्रिज पर निर्वस्त्र होने का वीडियो वायरल
Home / राज्य / पंजाब / एनजीटी का फैसला, पंजाब में ४ माह के लिए ईंटों के भट्टे होंगे बंद

एनजीटी का फैसला, पंजाब में ४ माह के लिए ईंटों के भट्टे होंगे बंद

नई दिल्ली (ईएमएस)। नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल (एनजीटी) ने दिल्ली-एनसीआर में वायु प्रदूषण को लेकर सख्त रुख अपनाते हुए शुक्रवार को आदेश दिया कि पंजाब में ३१ अक्टूबर से २८ फरवरी तक सभी ईंटों के भट्टे बंद रहेंगे। एनजीटी का ये आदेश पंजाब प्रदूषण कंट्रोल बोर्ड के उस आदेश को ही बरकरार रखने का निर्देश है जिसमें बोर्ड ने नवंबर से फरवरी तक सभी ईंटों के भट्टे बंद रखने का आदेश दिया था। ईंटों के भट्टों के मालिकों ने पंजाब प्रदूषण कंट्रोल बोर्ड के आदेश को अपीलेट अथॉरिटी में चुनौती दी। जहां पंजाब प्रदूषण कंट्रोल बोर्ड के फैसले को पूरी तरह बदलकर भट्टा मालिकों के हक में फैसला दिया है लेकिन अपीलेट अथॉरिटी के इस फैसले को आगे कुछ सामाजिक कार्यकर्ताओं ने एनजीटी में चुनौती दी। एनजीटी ने बिना देर किए अपीलेट अथॉरिटी के फैसले को बदलते हुए पंजाब प्रदूषण कंट्रोल बोर्ड के फैसले को दोबारा लागू करने की राज्य सरकार को आदेश दे दिए है।
पंजाब प्रदूषण कंट्रोल बोर्ड के वकील नागेंद्र बेनीपाल का कहना है कि इन ४ महीनों में जब भट्टा मालिक ईंटों का निर्माण ना कर रहे हों तब भी ईंटों की कीमत में बढ़ोतरी नहीं होनी चाहिए। एनजीटी ने यह भी सुनिश्चित करने के आदेश पंजाब सरकार को दिए हैं कि भट्टा मालिक जहां ईंटें बनाते हैं वहां भी जमीन से धूल ना उड़े इसके लिए उस जगह को पक्का करवाया जाए। जो भट्टा मालिक इस आदेश का पालन नहीं करेंगे उन पर जुर्माना लगाया जाए। पंजाब प्रदूषण कंट्रोल बोर्ड और एनजीटी के ४ महीने ईंटों के भट्टों को बंद करवाने के निर्देश के पीछे यह देखने की मंशा है कि इससे प्रदूषण पर कितनी लगाम लगती है। अगर यह प्रयास कारगर रहा तो मुमकिन है कि हर साल पंजाब में नवंबर से फरवरी के बीच ४ महीने के लिए भट्टों को बंद किया जाएगा।

Check Also

इमली के बीज में छिपा है चिकनगुनिया का इलाज: आईआईटी वैज्ञानिक

रुड़की (ईएमएस)। आईआईटी रुड़की के जैव प्रौद्योगिकी विभाग के वैज्ञानिकों की टीम ने एक शोध …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *