एनजीटी का फैसला, पंजाब में ४ माह के लिए ईंटों के भट्टे होंगे बंद

0
40

नई दिल्ली (ईएमएस)। नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल (एनजीटी) ने दिल्ली-एनसीआर में वायु प्रदूषण को लेकर सख्त रुख अपनाते हुए शुक्रवार को आदेश दिया कि पंजाब में ३१ अक्टूबर से २८ फरवरी तक सभी ईंटों के भट्टे बंद रहेंगे। एनजीटी का ये आदेश पंजाब प्रदूषण कंट्रोल बोर्ड के उस आदेश को ही बरकरार रखने का निर्देश है जिसमें बोर्ड ने नवंबर से फरवरी तक सभी ईंटों के भट्टे बंद रखने का आदेश दिया था। ईंटों के भट्टों के मालिकों ने पंजाब प्रदूषण कंट्रोल बोर्ड के आदेश को अपीलेट अथॉरिटी में चुनौती दी। जहां पंजाब प्रदूषण कंट्रोल बोर्ड के फैसले को पूरी तरह बदलकर भट्टा मालिकों के हक में फैसला दिया है लेकिन अपीलेट अथॉरिटी के इस फैसले को आगे कुछ सामाजिक कार्यकर्ताओं ने एनजीटी में चुनौती दी। एनजीटी ने बिना देर किए अपीलेट अथॉरिटी के फैसले को बदलते हुए पंजाब प्रदूषण कंट्रोल बोर्ड के फैसले को दोबारा लागू करने की राज्य सरकार को आदेश दे दिए है।
पंजाब प्रदूषण कंट्रोल बोर्ड के वकील नागेंद्र बेनीपाल का कहना है कि इन ४ महीनों में जब भट्टा मालिक ईंटों का निर्माण ना कर रहे हों तब भी ईंटों की कीमत में बढ़ोतरी नहीं होनी चाहिए। एनजीटी ने यह भी सुनिश्चित करने के आदेश पंजाब सरकार को दिए हैं कि भट्टा मालिक जहां ईंटें बनाते हैं वहां भी जमीन से धूल ना उड़े इसके लिए उस जगह को पक्का करवाया जाए। जो भट्टा मालिक इस आदेश का पालन नहीं करेंगे उन पर जुर्माना लगाया जाए। पंजाब प्रदूषण कंट्रोल बोर्ड और एनजीटी के ४ महीने ईंटों के भट्टों को बंद करवाने के निर्देश के पीछे यह देखने की मंशा है कि इससे प्रदूषण पर कितनी लगाम लगती है। अगर यह प्रयास कारगर रहा तो मुमकिन है कि हर साल पंजाब में नवंबर से फरवरी के बीच ४ महीने के लिए भट्टों को बंद किया जाएगा।