मॉडर्न होने लगा दिल्ली का सबसे पुराना रेलवे स्टेशन

0
38

नई दिल्ली (ईएमएस)। राजधानी दिल्ली का सबसे पुराना रेलवे स्टेशन पुरानी दिल्ली है, जो १८६४ में बना था। स्टेशन की इमारत लाल किले की वास्तुकला से मेल खाती है। इस समय यह राजधानी का सबसे व्यस्त स्टेशन है, जहां से २४२ ट्रेनें गुजरती हैं। हर रोज यहां लगभग २.५० लाख पैसेंजर आते हैं। अब रेलवे ने यात्रियों की बढ़ती संख्या को देखते हुए यहां सुविधाएं बढ़ाना शुरू किया गया है। इसके बाद अब यह स्टेशन अपने ऐतिहासिक रूप में नजर आने लगा है। स्टेशन को बेहतर तरीके से प्लान करने के लिए रेलवे ने एक वरिष्ठ अधिकारियों की समिति भी बनाई थी। इसने तीन चरणों में एक प्लान तैयार किया गया था। अब इसमें ६ महीने वाला चरण लगभग पूरा हो चुका है। इन योजना के तहत स्टेशन पर कई तरह के काम अब पूरे हो चुके हैं। स्टेशन की मुख्य बिल्डिंग फसाड के नवीनीकरण के साथ आकर्षक रंग योजना और एलईडी फोकस्ड लाइटिंग लगाई है। कारों, ऑटो, टैक्सी और पैदल चलने वालों के लिए एक अलग लेन बनाई गई है। स्टेशन के सामने बड़ा सेंट्रल पार्क, हरे पौधे, गाड़ियों की आवाजाही और पार्किंग के लिए ट्रैफिक मार्शल की तैनाती की गई है। बुकिंग काउंटरों के साथ पूर्व और पश्चिम हॉल को नया लुक दिया है।
मुख्य कॉन्कोर्स में मॉरल पेंटिंग, ग्रेनाइट फ्लोरिंग और ५०० स्टेनलेस स्टील के बेंच लगाए गए हैं। मेन एंट्री पर एसी वेटिंग हॉल के डिवेलपमेंट के साथ महिलाओं, पुरुष और दिव्यांगों के लिए शौचालय ब्लॉक हैं। इसके अलावा पैसेंजरों के लिए डस्टबिन, स्टेयान गाइड टच स्क्रीन, पीएनआर टच स्क्रीन आदि लगाए हैं। बुजुर्गाें, दिव्यांगों के लिए गोल्फ कार्ट सर्विस के साथ बिजली के खर्च को कम रखने के लिए सोलर पैनल भी लगाए हैं। स्टेशन पर वाईफाई सुविधा के साथ आरओ सप्लाई, सेनिटरी पैड और नैपकिन मशीन, ब्रेस्ट फीडिंग रूम, प्लास्टिक बोतल क्रशर मशीन, नया डबल स्टोरी कुली शेल्टर, प्लेटफॉर्म नंबर १६ पर पेड एंड यूज डीलक्स टॉइलट ब्लॉक आदि के काम पूरे हो गए हैं।