इमरान खान का कबुलनामा, पाकिस्तान में रची गई मुंबई हमले की साजिश, दोषियों को दूंगा सजा सपा बोली- योगी आदित्यनाथ यूपी के सबसे अयोग्य मुख्यमंत्री करंट से समलैंगिकता का इलाज करने वाले चिकित्सक को कोर्ट ने किया तलब फिल्‍म निर्माता प्रेरणा अरोरा गिरफ्तार शरद यादव ने वसुंधरा के बारे में दिए गए बयान पर खेद जताया 21 साल बाद राजकुमारी दीया ने मांगा तलाक दिल्ली-एनसीआर: दो हफ्तों से हवा में कोई सुधार नहीं प्रवासी भारतीय देश की विकास गाथा के दूत हैं: गृह राज्‍यमंत्री रिजिजू रेप पीड़िता के इलाज के एवज में 9 लाख का बिल निजी अस्पतालों में होगा ‘आयुष्मान’ के दो तिहाई मरीजों का उपचार
Home / अन्य ख़बरें / छोटा हरिद्वार मामले में नंदकिशोर गुर्जर फिर सुर्खियों में

छोटा हरिद्वार मामले में नंदकिशोर गुर्जर फिर सुर्खियों में

लोनी विधायक के पत्र के विरोध में खोला जिला पंचायत सदस्य विकास ने मोर्चा
करंट क्राइम

गाजियाबाद। लोनी विधायक नंदकिशोर गुर्जर आजकल छोटा हरिद्वार मामला उठाने से फिर सुर्खियों में हैं। लोनी विधायक द्वारा छोटा हरिद्वार मुरादनगर के संबंध में जिलाधिकारी को एक पत्र लिख अवैध लूट और गोताखोरों के बारे में शिकायत दर्ज कराई है।
उनकी इस शिकायत का विरोध करते हुए समाजवादी पार्टी के जिला उपाध्यक्ष और जिला पंचायत सदस्य प्रतिनिधि विकास यादव ने कहा कि उनके द्वारा इस तरह के आरोप लगाने से वहां पर उपस्थित कार्यकर्ता गोताखोर व अन्य सामाजिक कार्यकर्तार्ओं का मनोबल टूटेगा, जो घाट पर उपस्थित रहकर गोताखोर व कार्यकर्ता अपनी जान पर खेलकर लोगों की जान बचाने का कार्य करते हैं। इस कार्य की श्रद्धालुओं व क्षेत्र के लोगों द्वारा समय-समय पर प्रशंसा की जाती है और प्रशासनिक स्तर पर प्रस्तुति पत्र देकर हौसला अफजाई की गई है। उन्होने कहा कि मैं विधायक जी और प्रशासनिक अधिकारियों से निवेदन करूंगा कि शाम की आरती में एक बार मुरादनगर गंगा घाट पर आकर देखें तो आपको एक अलग ऊर्जा का अहसास होगा।
पूर्व में मुरादनगर गंगा घाट की स्थिति अत्यंत दयनीय थी। भांग,गांजा, चरस और शराब पीने वालों का अड्डा बन गया था। इस घाट के रास्ते पड़ने वाले लगभग एक दर्जन गांव की छात्राओं का आना जाना दूभर हो गया था, जो बच्चियां शिक्षा ग्रहण करने के लिए मोदीनगर-मुरादनगर कॉलेजों में आती जाती थीं। उनके साथ यह शराब पीने वाले व नशा करने वाले लोग छेड़छाड़ करते थे लेकिन जब से यहां पर पूजा-पाठ का कार्य शुरू हुआ है तब से ऐसे लोगों पर कुछ हद तक अंकुश लगा है।
घाट पर उपस्थित कार्यकर्तार्ओ ने शराब पीने वाले असामाजिक तत्वों का विरोध किया होगा उसी के परिणाम स्वरुप विधायक जी को अपूर्ण जानकारी दी गई है। घाट पर इस तरह की कोई भी बात नहीं होती है। नंदकिशोर गुर्जर जी को पुन: अपने सूत्रों से यह जानकारी प्राप्त करनी चाहिए कि लोगों ने जो उन्हें बताया है उसमें कितनी सच्चाई है। शराबियों के पक्ष में जो पत्र जिलाधिकारी को लिखा गया है, वह निराधार है और यदि इस तरह की कोई घटना पूर्व में हुई है तो उसकी रिपोर्ट थाना मुरादनगर में दर्ज होनी चाहिए थी। आधुनिकता की चकाचौंध में हम भगवान को भी स्मरण करना भूल गए हैं। समय की उपलब्धता ना होने के कारण हरिद्वार जाकर गंगा स्नान तो नहीं कर पा रहे लेकिन छोटा हरिद्वार मुरादनगर में स्नान ध्यान करना भी एक सकारात्मक धार्मिक कार्य है।
प्रशासन व जनप्रतिनिधियों को एक साथ एकजुट होकर मुरादनगर को एक धार्मिक नगरी के रूप में विकसित करना चाहिए,जो यहां के लोगों की एक मांग है और घाट को एक भव्य रूप देना चाहिए। शराबियों व असामाजिक तत्वों से महिला श्रद्धालुओं की सुरक्षा के लिए पुलिस प्रशासन को कड़े कदम उठाने चाहिए। घाट पर महिला पुलिस व
सरकारी गोताखोरों की व्यवस्था की जानी चाहिए और हरिद्वार की तर्ज पर मुरादनगर में शराब की बिक्री पर प्रतिबंध लगना चाहिए।

Check Also

इलेक्ट्रिकल-ऑटोमेशन व्यवसाय के बारे में प्रतिस्पर्धा आयोग ने लोगों से मांगी राय

नई दिल्ली (ईएमएस)। भारतीय प्रतिस्पर्धा आयोग (सीसीए) ने 16 जुलाई, 2018 को लारसन एंड टूब्रो …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *