पुलिस प्रशासनिक अधिकारियों ने तैयार किया मसौदा, एसपी सिटी के निलंबन के खिलाफ अधिवक्ताओं ने शुरू की भूख हड़ताल, एनडीआरएफ में मनाया गया सद्भावना दिवस, तुराबनगर व्यापार मंडल की नई कमेटी गठित, कहां चला गया भाजपा के पुराने महानगर कार्यालय का एसी, जीडीए मुखिया के आदेशों अवहेलना कर रहे हैं संपत्ति अधिकारी, भाजपा के बैनर पर नहीं होगा, स्व. अटल जी का श्रद्धाजंलि कार्यक्रम, जनरल को मिले लक्ष्मण, विरोधियों की बढ़ेगी टेंशन, एक ही रात में सरक गई छाबड़ा के पैरों तले जमीन, जनपद में धारा-144 हुई लागू,
Home / अन्य ख़बरें / मोदी ने पाकिस्तान का डर दिखा पंजाब में मांगा वोट
Faridkot: Prime Minister and BJP leader Narendra Modi addresses a rally in Faridkot of poll bound Punjab on Jan 29, 2017. (Photo: IANS)

मोदी ने पाकिस्तान का डर दिखा पंजाब में मांगा वोट

कोटकपुरा| प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पंजाब विधानसभा चुनाव के लिए चुनाव प्रचार करते हुए रविवार को एक जनसभा में पाकिस्तान का डर दिखाकर लोगों से वोट मांगा। मोदी ने कहा कि पाकिस्तान से सटे पंजाब में मजबूत सरकार बनाने के लिए भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) और शिरोमणी अकाली दल गठबंधन को वोट देने की अपील की।

मोदी ने कहा कि लोगों को ऐसी पार्टियों को वोट नहीं देना चाहिए, जिनके अपने निहित स्वार्थ हैं।

मोदी ने चंडीगढ़ से 225 किलोमीटर दूर पंजाब के मालवा क्षेत्र के कोटकपुरा में कहा, “पंजाब सीमावर्ती राज्य है। पाकिस्तान हमेशा ही पंजाब को अस्थिर करने के अवसर तलाशता है। यदि एक कमजोर सरकार सत्ता में आई या बाहरी लोगों की सरकार सत्ता में आई या भोगविलास में लिप्त सरकार सत्ता में आई तो यह पंजाब और पूरे देश के लिए बुरा होगा।”

उन्होंने कहा, “हमें यह सुनिश्चित करना है कि हमारे पास एक मजबूत सरकार हो। आपको यह सुनिश्चित करना है कि आप सही तरीके से वोट करें।”

पंजाब की 117 विधानसभा सीटों के लिए चार फरवरी को मतदान होने हैं। इस बार मुख्य मुकाबला अकाली दल-भाजपा गठबंधन, कांग्रेस और आम आदमी पार्टी (आप) के बीच है।

मोदी ने कहा, “कांग्रेस के नेताओं ने पंजाब के सारे युवाओं को आतंकवादी कहा। अब वे पंजाब के सारे युवाओं को नशाखोर कह रहे हैं। पंजाब को ऐसे लोगों से बचाइए जो इसे पुराने अंधेरे दिनों की ओर धकेल देंगे।”

मोदी ने चुनाव प्रचार के दौरान इस्तेमाल होने वाली भाषा के गिरते स्तर के लिए कांग्रेस और आप को दोषी बताया।

उन्होंने कहा, “पंजाब के मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल के लिए जो कुछ कहा जा रहा है, उसे सुनकर मैं दुखी हूं। उनके लिए बहुत गलत शब्दों का इस्तेमाल किया गया। यह तानाशाह की भाषा है। क्या लोकतंत्र इस तरह काम करता है? अगर लोकतांत्रिक परंपराओं को तोड़ा गया, तो यह देश के लिए बुरा होगा। जिन लोगों ने अन्ना हजारे के साथ नाइंसाफी की, क्या अपको लगता है कि वे बादल को सम्मान देंगे?”

मोदी ने कहा कि अपने राजनीतिक जीवन में वह दो नेताओं अटल बिहारी बाजपेयी और प्रकाश सिंह बादल का बेहद सम्मान करते हैं, क्योंकि वे कभी दूसरों के बारे में गलत नहीं बोलते।

उन्होंने कहा, “हमें इन नेताओं से सीखना चाहिए कि सार्वजनिक जीवन कैसे जिया जाता है। हम भी कांग्रेस के खिलाफ लड़ रहे हैं। लेकिन हम ऐसा कभी नहीं कहते कि फलां-फलां को जेल भेज देंगे।”

मोदी ने कहा कि आप नेताओं को निर्वाचन आयोग के काम में कमियां निकालने और उस पर मोदी के आदेश पर चलने का आरोप लगाने की बजाय अपने काम पर ध्यान लगाना चाहिए।

मोदी ने गुरु ग्रंथ साहिब को अपवित्र करने का मुद्दा भी उठाया और कहा कि केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) पूरे मामले की विस्तार से जांच करेगा और दोषियों को सजा दी जाएगी।

Check Also

कहां चला गया भाजपा के पुराने महानगर कार्यालय का एसी

Share this on WhatsAppवरिष्ठ संवाददाता (करंट क्राइम) गाजियाबाद। सरकार आने के बाद गाजियाबाद का भाजपा …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *