Current Crime
उत्तर प्रदेश ग़ाजियाबाद दिल्ली एन.सी.आर

एमएमजी अस्पताल में बढ़ेंगे 50 बेड, फिलहाल हैं 150 बेड

50 से ज्यादा बेड हैं कोविड के लिए रिजर्व, कोरोना के अतिरिक्त अन्य मरीजों के लिए की जा रही है व्यवस्था
गाजियाबाद (करंट क्राइम)। कोरोना काल में भी एमएमजी जिला अस्पताल पूरी तरह से कार्यरत है, यहां विभिन्न बीमारियों के मरीजों को भर्ती करने की सुविधा है। ऐसे में एमएमजी अस्पताल में मरीजों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है और बेड कम पर पड़ रहे हैं। अब अस्पताल प्रबंधन बेड बढ़ाने की तैयारी कर रहा है। अस्पताल के मुख्य चिकित्सा अधीक्षक सीएमएस डॉ अनुराग भार्गव के अनुसार यह बेड जरूरत के अनुसार सभी वॉर्डों में बढ़ाए जाएंगे।

कोरोना संक्रमण काल में विभिन्न गंभीर बीमारियों से जूझने वाले गरीब लोगों के लिए जिला एमएमजी अस्पताल ही एकमात्र सहारा बना हुआ है। अस्पताल को पूरी तरह से एक्टिव किया गया है। कोरोना काल में जब निजी अस्पताल मरीजों को भर्ती करने से पहले कोरोना टेस्ट रिपोर्ट मांग रहे हैं, वहीं एमएमजी अस्पताल में मरीज को भर्ती करने के बाद कोरोना जांच करवाई जाती है। इसके लिए अस्पताल में दो स्पेशल वॉर्ड बनाए गए हैं। सीएमएस डॉ भार्गव के अनुसार पहले मरीज को इमरजेंसी में रखा जाता है और उपचार शुरू करने के साथ मरीज की सभी जरूरी जांच करवाई जाती हैं, इसके बाद मरीज को होल्डिंग एरिया जहां 33 बेड की व्यवस्था हैए वहां रखा जाता है और उसकी कोरोना जांच करवाई जाती है। कोरोना टेस्ट रिपोर्ट आने तक मरीज वहीं रहता है और रिपोर्ट के आधार पर उसे कोविड अस्पताल या वॉर्ड में शिफ्ट किया जाता है। डॉ भार्गव ने बताया कि होल्डिंग एरिया में डॉक्टर्स और स्टाफ पूरा एहतियात बरतते हैं। अस्पताल में फिलहाल 150 बेड हैं और अब 50 बेड और बढ़ाए जा रहे हैं। यह बेड अस्पताल को डोनेट किए गए हैं। सभी बेड जरूरत के अनुसार विभिन्न वॉर्ड में बढ़ाए जाएंगे। उन्होंने बताया फिलहाल अस्पताल में 130 मरीज भर्ती हैं, जो विभिन्न बीमारियों से पीड़ित हैं। उन्होंने बताया अस्पताल में इमरजेंसी सर्जरी की जा रही हैं। प्रतिदिन एक से दो आॅपरेशन किए जा रहे हैं। हालांकि इनमें अधिकांश आॅथोर्पेडिक सर्जरी ही होती हैं। अस्पताल में सभी ओपीडी संचालित हैं। इनमें जनरल, आॅथोर्पेडिक, कार्डियो, आई, ईएनटी डेंटल और बाल रोग ओपीडी शामिल हैं। अस्पताल में सोशल डिस्टेंसिंग और कोविड प्रोटोकॉल का पूरी तरह से पालन किया जा रहा है।

आईसीयू भी हुआ एक्टिव

अस्पताल परिसर में पिछले कई साल से बंद पड़ी बर्न यूनिट की सफाई करवाकर वहां आईसीयू बनाया गया है। आईसीयू में आॅक्सीजन, हाई फ्लो नेजल कैनुला और वेंटीलेटर लगाए गए हैं। यहां फिलहाल 10 बेड की व्यवस्था की गई है।

अस्पताल में रोज की जा रही हैं 400 जांच

एमएमजी अस्पताल में प्रतिदिन 400 से ज्यादा जांच की जा रही हैं। सीएमएस ने बताया कि अस्पताल में प्रतिदिन एंटिजन किट से 300 जांच, ट्रू नेट मशीन से 25 जांच और 100 आरटी-पीसीआर जांच के लिए सैंपल लिए जा रहे हैं। उन्होंने बताया अस्पताल में लगी ट्रू नेट मशीन से पॉजिटिव और निगेटिव दोनों तरह के कनफर्म टेस्ट किए जा रहे हैं, पहले मशीन से केवल निगेटिव टेस्ट ही कंफर्म हो पाते थे। शासन स्तर से पॉजिटिव कंफर्म टेस्ट के लिए दूसरे कार्टेज प्राप्त होने बाद यह सुविधा भी अस्पताल में शुरू हो गई है।

Related posts

Current Crime
Ghaziabad No.1 Hindi News Portal
%d bloggers like this: