रूनी के रिकॉर्ड को हासिल कर पाना संभव :हैरी केन वेदा कृष्णमूर्ति ने रचा इतिहास, ऐसा करने वाली पहली भारतीय आरबीआई ने अप्रैल-सितंबर में 18.66 अरब डॉलर बाजार में बेचे दसवीं फैल लड़के ने राजकोट के युवक की फेसबुक और इंस्टाग्राम किया हेक 21 को युवाओं से रूबरू होंगे भाजपाध्यक्ष अमित शाह आकाशवाणी से आज मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी की भेंटवार्ता का होगा प्रसारण रेप की घटनाओं पर हरियाणा के सीएम खट्टर की आपत्तिजनक टिप्पणी से चहुओर रोष भारत को पंड्या की कमी खलेगी : हसी आस्ट्रेलिया दौरे में भारतीय गेंदबाजों को इन खिलाड़ियों से रहना होगा सावधान न्यूजीलैंड ने पाकिस्तान को 227 पर समेटा
Home / राज्य / छत्तीसगढ़ / छत्तीसगढ़ में सबसे ज्‍यादा मतों से जीतने वाला विधायक अंतागढ़ से

छत्तीसगढ़ में सबसे ज्‍यादा मतों से जीतने वाला विधायक अंतागढ़ से

रायपुर ( ईएमएस)। अंतागढ़ विधानसभा उपचुनाव जीतने वाले भाजपा नेता भोजराज नाग छत्तीसगढ़ के ऐसे नेता हैं, जिन्होंने विधानसभा का चुनाव सबसे अधिक मतों से जीता था। राज्य की मुख्य विपक्षी पार्टी कांग्रेस की गैर मौजूदगी और एक मात्र निर्दलीय की उम्मीदवारी के साथ हुए इस चुनाव में श्री नाग नोटा के मुकाबले 50 हजार 110 वोटों से जीते। इससे पहले 2013 में हुए विधानसभा के चुनाव में सबसे अधिक वोटों से जीतने का रिकॉर्ड कांग्रेस के अमित जोगी के नाम था। अंतागढ़ विधानसभा चुनाव प्रदेश का अकेला ऐसा चुनाव था, जिसमें मुकाबला केवल दो प्रत्याशियों के बीच हुआ। इसमें भी खास बात यह थी कि भाजपा के मुकाबले उतरे आंबेडकराईट पार्टी ऑफ इंडिया के रूपधर पुडो के मुकाबले नोटा ( इनमें से कोई नहीं) को अधिक वोट मिले।2013 के विधानसभा उपचुनाव में कांग्रेस के अमित जोगी ने मरवाही सीट से भाजपा की समीरा पैंकरा को शिकस्त देते हुए 82 हजार 909 वोट हासिल किए थे। अमित जोगी ने यह चुनाव 46 हजार 250 वोटों से जीता था। खरसिया से कांग्रेस उम्मीदवार उमेश पटेल ने भाजपा के प्रत्याशी जवाहर नायक को 38 हजार 888 मतों से पराजित किया था।तीसरे स्थान पर मुख्यमंत्री डॉ.रमन सिंह ने राजनांदगांव विधानसभा सीट से कांग्रेस की अलका मुदलियार को 36 हजार 48 वोटों से हराया था। विधानसभा 2013 में अंतागढ़ विधानसभा सीट से भाजपा के विक्रम उसेंड़ी कांग्रेस प्रत्याशी मंतूराम पवार से 5 हजार 171 वोटों से जीत पाए थे। लेकिन इस बार मंतूराम पवार ने चुनाव मैदान छोड़ दिया था। उनके साथ अन्य 10 निर्दलीय भी मैदान हट गए थे। नतीजतन यह मुकाबला एकतरफा हो गया था।अंतागढ़ विधानसभा उपचुनाव इस प्रदेश ही नहीं शायद देश का अकेला ऐसा चुनाव होगा, जहां एक मुख्य प्रत्याशी के मुकाबले नोटा दूसरे स्थान पर रहा। विधानसभा 2013 के चुनाव में राज्य की 90 सीटों के लिए हुए चुनाव में लगभग सभी सीटों पर नोटा में हजारों वोट पड़े, लेकिन इतनी बड़ी संख्या में मतदताओं ने कभी भी नोटा के विकल्प को नहीं चुना था। इसके पीछे बड़ी वजह यह भी रही कि कांग्रेस प्रत्याशी द्वारा मैदान छोड़ने के बाद पार्टी ने अपने समर्थकों से कहा था कि वे या तो चुनाव का बहिष्कार करें या नोटा का विकल्प चुनें।यह भी उल्लेखनीय है कि 2013 के विधानसभा चुनाव में नोटा में सर्वाधिक वोट दंतेवाड़ा विधानसभा क्षेत्र में पड़े थे। यहां 9, 660 वोट नोटा में डाले गए थे। यह चुनाव कांग्रेस की देवती कर्मा ने 5,987 मतों से जीता था

Check Also

कुल्हाड़ी से पुजारी की हत्या कुआं में लाश मिली

भिंड (ईएमएस) ।जिले के मौ कस्बे के द्वारिकापुरी इलाके में सरकारी बाग हनुमान मंदिर के …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *