Current Crime
ग़ाजियाबाद दिल्ली एन.सी.आर

मंत्री अतुल गर्ग ने आरोपों पर तोड़ी चुप्पी यदि कोई जमीन श्याम गर्ग के पिता जी की है और मैंने कब्जाई है तो उनके तीनों भाईयों ने मेरी शिकायत क्यों नहीं की

वरिष्ठ संवाददाता (करंट क्राइम)

गाजियाबाद। शहर विधायक और राज्यमंत्री अतुल गर्ग पर उनके चचेरे भाई श्याम गर्ग ने आरोप लगाये थे। आरोप लगने के बाद भी किस तरह से दिल को बड़ा किया जा सकता है इसका उदाहरण अतुल गर्ग ने दिखाया है। आरोपों के बाद भी उन्होंने भाई के प्रति स्रेह रखा और एक-एक तथ्य को सामने रखा। अतुल गर्ग ने कहा कि 40 वर्ष पहले मेरे स्व. पिता दिनेश गर्ग ने अपने सातों भाईयों के मध्य बंटवारा सम्पन्न किया था। इसके बाद स्व. नरेश चन्द गर्ग के पुत्र श्याम गर्ग, आलोक गर्ग, अनुज गर्ग व राम गर्ग के बीच लगभग 15-20 वर्ष पूर्व बंटवारा हो चुका है। हमारे परिवार में सभी चाचा व ताऊ को मिलाकर कुल 24 भाई-बहन हैं। जिसमें सबसे बड़ा मैं हूं। सभी लोग मेरा सम्मान भी करते हैं। बाकी 23 भाई-बहनों को मुझ से तथा आपस में कोई भी शिकायत नही है।
मीडिया वालों ने बताया कि जिस घर में वह रहता है वह उसके सगे बड़े भाई का है और उसको डर है कि उसे निकाल ना दिया जाये। मैंने उसके बड़े भाई से वायदा ले लिया है कि उसके और उसके बच्चों को किसी भी दशा में मकान से ना निकाला जाये। श्याम गर्ग धीरे-धीरे अपने हिस्से की जमीन और लगभग 100 वर्ष पुरानी कपड़े की दुकान जो इसके हिस्से में थी किन्हीं कारणों से बेच चुका है।
आज भी उसकी आर्थिक स्थिति बहुत खराब है। श्याम गर्ग की माता निर्मला देवी पूर्ण रूप से स्वस्थ है और भी अपने पुत्र के साथ ना तो रहती हैं और ना ही उसे पसंद करती हैं और ना ही उससे मिलती हैं। यदि कोई जमीन श्याम गर्ग के पिता जी की है और मैंने कब्जा किया है तो उसके तीनों भाई आलोक, अनुज और राम तथा मेरी चाची निर्मला देवी को कोई शिकायत क्यों नही है।
वो कौन सी जमीन है जिस पर कर लिया गया कब्जा
अतुल गर्ग बेहद प्रतिष्ठित लोगों की गिनती में हैं। विधायक और मंत्री बनने से पूर्व उनके परिवार की अपनी प्रतिष्ठिा है। उनके पिता दो बार मेयर रहे हैं। अतुल गर्ग ने अपने चचेरे भाई के आरोपों पर जवाब देते हुए लिखा कि यदि कोई जमीने मैंने कब्जा की है तो उस पर कोई मुकदमा तो दूर मुझे आज तक कोई नोटिस क्यों नही भेजा गया। श्याम गर्ग ने पुलिस या किसी प्रशासन में आज तक अपने अधिकारों को साक्ष्य देते हुए किसी प्रकार का कोई मुकदमा क्यों नही किया। उसके द्वारा बार-बार आत्म हत्या की धमकी देकर सनसनी फैलाने के कारण उसके सगे बड़े भाई ने दो बार से ज्यादा पुलिस में एफआईआर की है। वह मेरे ऊपर दबाव बनाकर परिवार में अपने भाईयों से अभी तक मिल रही आर्थिक मदद को मेरे द्वारा बढ़वाना चाहता है। क्योंकि उसमें जितनी बुद्धि है और जिन हालातों में है और उसके सोचने-समझने की जो शक्ति है वह उसी प्रकार कर रहा है। फिर भी जब पीएमओ को पत्र लिख दिया गया है तो मैं एक महत्वपूर्ण पद पर आसीन हूं। इस सम्बंध में सरकार के जनप्रतिनिधि होने के कारण विशेष रूप से यदि सरकार द्वारा किसी प्रकार की कोई जांच की जाती है तो मैं उसका पूरा सहयोग करूंगा। मुझे खुद नही पता कि उसकी कौन सी जमीन ऐसी है जिसको लेकर उसने इस तरह के आरोप लगाये हैं।

Related posts

Current Crime
Ghaziabad No.1 Hindi News Portal
%d bloggers like this: