Current Crime
दिल्ली एन.सी.आर देश

मेडिकल कॉलेजों के कर्मचारियों को वेतन का इंतजार

भोपाल। कोरोना काल में कोविड-19 मरीजों का इलाज करने वाले सरकारी मेडिकल कॉलेज और उनसे जुड़े अस्पताल में काम करने वाले स्वास्थ्यकर्मियों को पिछले दो महीने से वेतन नहीं मिला है। इस बात से नाराज सेंट्रल मेडिकल टीचर्स एसोसिएशन ने सरकार को पत्र लिाकर अपनी समस्या से अवगत कराया है। सीएमटीए के प्रदेश अध्यक्ष डॉ. सुनील अग्रवाल ने बताया कि कोरोना जैसी महामारी के बीच सभी सरकारी दफ्तर बंद हो गए थे और लॉकडाउन हटने के बाद भी घर से काम करने की सुविधा कर्मचारियों को दी गई है। ऐसे में सिर्फ सरकारी डॉक्टर थे जो 24 घंटे सेवाएं दे रहे हैं। इसके बाद भी सरकार चिकित्सकों की अनदेखी कर रही है।
सुप्रीम कोर्ट के आदेश की अवमानना
डॉ. सुनील अग्रवाल ने बताया कि आपदा प्रबंधन अधिनियम 2005 के तहत सुप्रीम कोर्ट का राज्य सरकारों को स्पष्ट निर्देश है कि कोविड-19 महामारी में लगे समस्त स्वास्थ्यकर्मियों को वेतन समय पर दिया जाए। बावजूद इसके मप्र सरकार और चिकित्सा शिक्षा विभाग के अधिकारी इस मामले में लापरवाही बरत रहे हैं।
सीएम ने कहा था, दस हजार रुपए एक्सट्रा देंगे
मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कोरोना के शुरुआती दिनों में एक घोषणा की थी कि इस महामारी से लोगों को बचाने का दायित्व स्वास्थ्यकर्मियों पर है। इसलिए कोरोना काल में हर महीने प्रत्येक स्वास्थ्यकर्मी को दस हजार रुपए बतौर प्रोत्साहन राशि मप्र सरकार की ओर से दी जाएगी, लेकिन ऐसा नहीं हुआ।

Related posts

Current Crime
Ghaziabad No.1 Hindi News Portal
%d bloggers like this: