Current Crime
अन्य ख़बरें ग़ाजियाबाद

निगम कार्यकारिणी उपाध्यक्ष चुनाव को लेकर उठा सवाल मेयर आशा शर्मा ने क्षेत्रीय अध्यक्ष के पाले में डाल दी बॉल

गाजियाबाद (करंट क्राइम)। निगम कार्यकारिणी उपाध्यक्ष चुनाव को लेकर निगम में सरगर्मी चल रही है और करंट क्राइम ने पहले भी बताया था कि डिप्टी मेयर वाले इस चुनाव में संगठन कोर और मेयर वाला ट्वीस्ट आयेगा। निगम कार्यकारिणी उपाध्यक्ष चुनाव को लेकर अभी तक तो संगठन मामले को मेयर पर और मेयर इस मामले को संगठन पर छोड़ रही थी।
महानगर अध्यक्ष ने पहले ही कहा था कि मेयर आशा शर्मा कार्यकारिणी बैठक बुलायें और कार्यकारिणी उपाध्यक्ष चुनाव की घोषणा करें। मेयर जैसे ही चुनाव की घोषणा करेंगी वैसे ही संगठन उम्मीदवार की घोषणा कर देगा। चुनाव की घोषणा होते ही कोर कमेटी की बैठक में उम्मीदवार का नाम तय कर दिया जायेगा।
हालांकि कार्यकारिणी उपाध्यक्ष चुनाव को लेकर वैसे ही समय निकला जा रहा है और निगम कार्यकारिणी उपाध्यक्ष पद पर चुने गये पार्षद को ज्यादा लम्बे समय काम करने का मौका नहीं मिलेगा। लेकिन राजनीति में पद का कद से रिश्ता होता है और एक बार पद मिलता है तो यह आपकी पहचान बनता है। आप पूर्व हो जाते हैं लेकिन पूर्व वाला पद भी एक सकून देता है। निगम कार्यकारिणी उपाध्यक्ष पद के लिए भाजपा के सीनियर पार्षद अनिल स्वामी और भाजपा के ही राजीव शर्मा के बीच दावेदारी का दंगल है। बताया ये भी जाता है कि राजीव शर्मा अपनी दावेदारी को लेकर अनिल स्वामी के पास गये थे और सूत्र बताते हैं कि अनिल स्वामी ने निगम कार्यकारिणी उपाध्यक्ष बनने के लिए अपनी इच्छा जताते हुए राजीव शर्मा को स्पष्ट बना कर दिया था। वहीं संगठन इस मामले में पहले ही बॉल को मेयर के पाले में रख चुका है। मेयर चुनाव घोषित नहीं कर रही हैं और इसकी वजह भी यह मानी जा रही है कि चूंकि एक दावेदार मेयर आशा शर्मा के भाई हैं लिहाजा मेयर यहां किसी धर्मसंकट में नहीं फंसना चाहती हैं।
वह चाहती हैं कि जो भी नाम घोषित होकर आये वह संगठन स्तर पर घोषित होकर आये। अब डिप्टी मेयर वाली इस स्टोरी में नया ट्वीस्ट आ गया है। जब करंट क्राइम ने निगम कार्यकारिणी उपाध्यक्ष चुनाव में हो रही देरी को लेकर मेयर आशा शर्मा से बात की तो मेयर आशा शर्मा ने कहा कि वह निगम कार्यकारिणी उपाध्यक्ष पद के लिए जल्द ही चुनाव के पक्ष में हैं। यहां पर जब करंट क्राइम ने पूछा कि क्या महानगर अध्यक्ष को चुनाव के लिए सूचना दी गयी है तो मेयर ने जो कहा उससे स्टोरी में ट्वीस्ट आ गया। उन्होंने कहा कि वह निगम कार्यकारिणी उपाध्यक्ष उम्मीदवार के लिए क्षेत्रीय अध्यक्ष अश्वनी त्यागी से बात करेंगी और क्षेत्रीय अध्यक्ष से बात करने के बाद जो नाम क्षेत्रीय संगठन से फाईनल होगा उसी पर मुहर लगेगी।
कोर कमेटी का फैसला सभी को सर्वमान्य होगा। अब मेयर के क्षेत्रीय अध्यक्ष वाले बयान के बाद स्टोरी में ट्वीस्ट आ गया है और क्षेत्रीय अध्यक्ष की एंट्री के बाद चर्चा यही है कि निगम कार्यकारिणी उपाध्यक्ष वाला गेम अब किसी भी ओर जा सकता है।

Related posts

Current Crime
Ghaziabad No.1 Hindi News Portal
%d bloggers like this: