एचटीसी का ब्लॉकचेन-आधारित एक्सोडस फोन इसी माह फेस्टिव सेल में ई-कॉमर्स कंपनियों ने की 15 हजार करोड़ की बिक्री रिलायंस इंडस्ट्रीज की हैथवे और डेन को खरीदने की तैयारी एथेनॉल पर सरकारी समर्थन की आशा से शुगर स्टॉक्स 20 फीसदी तक उछला दक्षिण कश्मीर में सुरक्षाबलों ने दो जिलों से 30 पत्थरबाजों को किया गिरफ्तार जेएनयू के छात्र नेता कन्हैया कुमार ने एम्स में डॉक्टरों से भिड़े, प्रकरण दर्ज सबरीमाला पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले के खिलाफ प्रदर्शन, जंतर-मंतर पर निकला मार्च राहुल और सिंधिया को दिखाया महाभारत के रथ पर सवार, राहुल सारथी- सिंधिया बने अर्जुन अब प्लेन की तरह ट्रेनों में भी होगा ब्लैक बॉक्स गैर भाजपा कार्यकर्ताओं का गठबंधन हो गया, नेताओं में होना बाकी – अजित सिंह
Home / देश / मनमोहन ने की जस्टिस वर्मा के फैसले की आलोचना, हिंदुत्व को बताया था जीने का तरीका

मनमोहन ने की जस्टिस वर्मा के फैसले की आलोचना, हिंदुत्व को बताया था जीने का तरीका

नई दिल्ली (ईएमएस)। पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने सर्वोच्च न्यायालय के दिवंगत न्यायाधीश, जस्टिस जेएस वर्मा के 1990 के दशक में दिए गए प्रसिद्ध और विवादास्पद फैसले ‘हिंदुत्व जीने का तरीका’ को दोषयुक्त बताया है। पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने कहा कि एक संस्थान के रूप में न्यायपालिका को, संविधान की धर्मनिरपेक्ष भावना की हिफाजत करने के प्राथमिक कर्तव्य की अपनी दृष्टि नहीं खोनी चाहिए। उन्होंने कहा कई लोग मानते हैं कि इस फैसले को पलटने की जरूरत है। मनमोहन सिंह ने कहा यह काम पहले से कहीं अधिक आवश्यक हो गया है, क्योंकि राजनीतिक विवादों और चुनावी लड़ाइयों को धार्मिक रंगों, प्रतीकों, मिथों और पूर्वाग्रहों के साथ व्यापक रूप से घालमेल किया जा रहा है। सिंह दिवंगत कम्युनिस्ट नेता एबी बर्धन स्मृति व्याख्यान दे रहे थे। व्याख्यान का विषय था ‘धर्मनिरपेक्षता और संविधान की रक्षा’। पूर्व प्रधानमंत्री ने यह कहते हुए न्यायमूर्ति वर्मा के फैसले की आलोचना की कि इसने एक तरह से एक प्रकार की संवैधानिक पवित्रता को नुकसान पहुंचाया, जो देश की राजनीतिक बातचीत में बोम्मई फैसले के जरिए बहाल हुई थी, जिसमें सर्वोच्च न्यायालय की नौ सदस्यीय पीठ ने यह व्यवस्था दी थी कि धर्मनिरपेक्षता, संविधान का एक बुनियादी ढांचा है।
मनमोहन ने कहा कि न्यायमूर्ति वर्मा के फैसले का गणराज्य में धर्मनिरपेक्षता के सिद्धांतों एवं प्रथाओं के बारे में राजनीतिक दलों के बीच जारी बहस पर एक निर्णायक असर डाला है। सिंह ने कहा इस फैसले ने हमारी राजनीतिक बातचीत को कुछ असंतुलित कर दिया, और कई लोग मानते हैं कि निस्संदेह इस फैसले को पलटने की जरूरत है।

Check Also

भारत आगे बढ़ रहा है और पूरा विश्‍व देख रहा है: उपराष्‍ट्रपति वेंकैया नायडु

नई दिल्ली (ईएमएस)। उपराष्‍ट्रपति एम.वेंकैया नायडु ने कहा कि प्रगति के लिए शांति पहली आवश्‍यकता …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *