मनमोहन ने की जस्टिस वर्मा के फैसले की आलोचना, हिंदुत्व को बताया था जीने का तरीका औवेसी के मुकाबले में धरती पुत्र को मैदान में उतारेगी बीजेपी एयर सेफ्टी ऑडिट में म्यांमार, पाक और नेपाल से भी पीछे भारत पंजाब के राज्यपाल और राजनाथ सिंह की बहू ने जीते रजत पदक जुलाई में रोजगार के करीब 14 लाख नए अवसर सृजित हुए: सीएसओ रिपोर्ट दो भारतीय बहनों ने लगाई प्रदर्शनी, बिक्री से होने वाली आय केरल बाढ़ पीड़ितों को देंगी दान ट्रूपिंग द कलर परेड में शामिल पहले सिख सैनिक ने लिया कोकीन – कोकीन होने की पुष्टि के बाद उन्हें पद से हटाया जा सकता है क के बोर्ड ने विलय को दी मंजूरी इस वर्ष सरकारी बैंक कर सकते हैं फंसे कर्ज की वसूली: वित्त मंत्रालय – 1.8 लाख करोड़ रुपए की वसूली होने का अनुमान ओपेक ने क्रूड उत्पादन बढ़ाने से ‎किया इंकार – और उछल सकते हैं पैट्रोल-डीजल के दाम
Home / अन्य ख़बरें / ममता ने हार्दिक को राखी भेजी

ममता ने हार्दिक को राखी भेजी

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने रक्षाबंधन के मौके पर पाटीदार आंदोलन के नेता हार्दिक पटेल को राखी भेज कर उनके अनशन पर समर्थन जताया। हार्दिक ने ट्वीट करके इसकी जानकारी दी है।
इस बीच किसानों की कर्ज माफी व आरक्षण को लेकर चल रहे हार्दिक पटेल के उपवास आंदोलन के दूसरे दिन रक्षाबंधन के दिन उनकी छोटी बहन ने राखी बांधी। ज्ञात रहे कि पाटीदार आरक्षण और किसानों की कर्ज माफी की मांग को लेकर हार्दिक पटेल शनिवार से आमरण अनशन पर बैठे हैं। उससे पहले शुक्रवार रात से गुजरात हाई अलर्ट पर है। पाटीदार इलाकों में पुलिस गश्त बढ़ा दी गई है। सूरत, राजकोट, मेहसाणा आदि शहरों से अहमदाबाद आने वाले वाहनों की सघन जांच हो रही है। अहमदाबाद के अलावा सूरत, राजकोट और बोटाद में धारा 144 लागू कर दी गई है। अहमदाबाद और गांधीनगर में आंदोलन करने की मंजूरी नहीं मिलने के बाद हार्दिक अहमदाबाद में एसजी हाइवे स्थित अपने आवास पर दो सौ समर्थकों के साथ आमरण अनशन पर बैठे हैं।
कांग्रेस ने अनशन का समर्थन किया है। इसके बाद कांग्रेस विधायक ललित वसोया, ब्रजेश मिरजा, ललित कथगरा, डॉ. आशा पटेल और कमलेश पटेल उनसे मिलने पहुंचे। वहीं निर्दलीय विधायक जिग्नेश मेवाणी ने भी वहां पहुंचकर समर्थन किया। इससे पहले हार्दिक ने सरकार पर आंदोलन को दबाने का आरोप लगाते हुए कहा कि उनके अनशन में शामिल होने वाले 16 हजार पाटीदार युवकों की धरपकड़ की गई है।
हार्दिक ने गुजरात सरकार पर अंग्रेज हुकूमत की तरह बर्ताव करने का आरोप लगाते हुए कहा कि उनके आवास पर राशन, पानी और दूध की आपूर्ति रोक दी गई है। आइबी गुजरात के एडीजीपी आरबी ब्रह्माभट्ट ने कहा है कि गुजरात में शांति एवं कानून व्यवस्था के मद्देनजर आंदोलन को मंजूरी नहीं दी गई है। 25 अगस्त, 2015 को पाटीदार महारैली के बाद राज्यभर में हिंसा, आगजनी व तोड़फोड़ की घटनाएं घटी थीं। 19 अगस्त को भी सूरत में एक बस जलाई गई।

Check Also

चीनी मिलों को सस्ता कर्ज उपलब्ध कराएगी उत्तर प्रदेश सरकार

लखनऊ (ईएमएस)। उत्तर प्रदेश सरकार ने राज्य की चीनी मिलों को राष्ट्रीयकृत एवं अन्य बैंकों …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *